Tag : प्रेमचंद

शख्सियत

‘कोरस’ द्वारा प्रेमचंद की कहानी ‘मनोवृत्ति’ का नाट्य रूपांतरण

प्रेमचंद एक ऐसे रचनाकार हैं जो हर समय-समाज में समकालीन रहे हैं। उनकी कहानियां भारतीय समाज का एक जीता-जागता चित्र हैं। प्रेमचन्द की एक कहानी...
शख्सियत

आज भी किसान जीवन का यथार्थ है ‘पूस की रात’

समकालीन जनमत के आयोजन ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ में पीयूष कुमार की आवाज़ में प्रेमचंद की कहानी ‘पूस की रात’...
शख्सियत

एक अभिनेता की नज़र में रंगभूमि

31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत दो दिवसीय ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन कर रहा है। इस आयोजन के लिए मुंबई...
शख्सियत

जश्न-ए-प्रेमचंद: फ़रज़ाना महदी की आवाज़ में ‘बड़े भाई साहब’

समकालीन जनमत
31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत दो दिवसीय ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन कर रहा है। इस आयोजन के लिए फ़रज़ाना...
शख्सियत

प्रेमचंद और हिंदुस्तानी सिनेमा : जवरीमल्ल पारख

समकालीन जनमत
(31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत 30-31 जुलाई ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन कर रहा है। इस अवसर पर समकालीन जनमत...
शख्सियत

प्रेमचंद और किसान संकट : गोपाल प्रधान

समकालीन जनमत
(31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत जश्न-ए-प्रेमचंद का आयोजन कर रहा है। इस अवसर पर 30-31 जुलाई को समकालीन...
शख्सियत

प्रेमचंद की कहानी ‘ईदगाह’ का ‘जश्न-ए-बचपन’ समूह के बच्चों ने किया मंचन

31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत दो दिवसीय ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन कर रहा है। इसी के तहत समकालीन जनमत...
शख्सियत

उपन्यास सम्राट प्रेमचंद की रचनाधर्मिता और आधार भूमि 

(31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत 30-31 जुलाई ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन कर रहा है। इस अवसर पर समकालीन जनमत...
शख्सियत

प्रेमचंद की कहानी ‘बड़े भाई साहब’ का पाठ: जश्न-ए-प्रेमचंद में बच्चों की भागीदारी

समकालीन जनमत
31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत दो दिवसीय ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन कर रहा है। इसी के तहत समकालीन जनमत...
शख्सियत

हिन्दी साहित्य का जातिवाद और प्रेमचंद: रामायन राम

समकालीन जनमत
(31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत 30-31 जुलाई ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन कर रहा है। इस अवसर पर समकालीन जनमत...