जश्न-ए-प्रेमचंद: फ़रज़ाना महदी की आवाज़ में ‘बड़े भाई साहब’

शख्सियत

31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत दो दिवसीय ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन कर रहा है। इस आयोजन के लिए फ़रज़ाना महदी नेे प्रेमचंद की कहानी ‘बड़े भाई साहब’ का पाठ किया है।

युवा रंगकर्मी और कथाकार फ़रज़ाना महदी ने 15 साल की उम्र से कहानी लिखना शुरू किया। हंस वागर्थ, रेवान्त, इन्कलाब, जन संदेश टाइम्स जैसी पत्र पत्रिकाओं में कहानियां प्रकाशित। आकाशवाणी उर्दू (लखनऊ) से लगातार लेख प्रसारित होते रहे हैं। लेखन के अलावा रंगमंच से भी जुड़ाव। मेंहदी समान्तर और अभिव्यक्ति नाट्य संस्था के साथ लगातार नाटक करते रहे हैं । इसके अलावा मर्सिया खानी की कला घर पर ही सीखी और बचपन से ही मर्सियाखानी कर रहे हैं।

(महदी जायस में रहते हैं और सांस्कृतिक गतिविधियों में लगातार सक्रिय रहते हैं।)
मो0 न0 – 9984154059
ईमेल – [email protected]

Related posts

मेरे जीवन में प्रेमचंद: शेखर जोशी

समकालीन जनमत

प्रेमचंद की कहानी ‘ईदगाह’ का ‘जश्न-ए-बचपन’ समूह के बच्चों ने किया मंचन

किसान के क्रमिक दरिद्रीकरण की शोक गाथा है ‘ गोदान ‘

गोपाल प्रधान

वर्णव्यवस्था के विद्रूप को उघाड़ती सद्गति

मुकेश आनंद

प्रेमचंद किसान जीवन की दुर्दशा के लिए जिम्मेदार धरम, महाजन और साहूकार की भूमिका की शिनाख्त करते हैं