एक अभिनेता की नज़र में रंगभूमि

शख्सियत

31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत दो दिवसीय ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन कर रहा है। इस आयोजन के लिए मुंबई से नाट्य और सिने अभिनेता नंद किशोर पंत ने एक विशेष प्रस्तुति तैयार की है . नंद किशोर साहित्य में प्रेमचंद के अवदान से अपनी प्रस्तुति शुरू करते हैं , खुद प्रेमचंद बन जाते हैं और रंगभूमि के महत्व को रेखांकित करते हुए उसके नायक सूरदास के चरित्र में आ जाते हैं . 43 मिनट की यह प्रस्तुति कथाकार प्रेमचंद और उनके साहित्यिक चरित्र  को एक अभिनेता की नज़र से देखने का अभिनव प्रयोग है .

इस प्रस्तुति के अभिनेता और  निर्देशक  इलाहाबाद में पले-बढ़े  नंद किशोर पंत हैं जिन्होंने ‘आधार’ रंग समूह के साथ इलाहाबाद में कई वर्ष  थियेटर किया. इलाहाबाद  के बाद नंद किशोर जी ने लखनऊ की भारतेंदु नाट्य अकादमी और दिल्ली के  श्रीराम सेंटर रंगमंडल में सीनियर एक्टर के बतौर कई नाटकों में प्रमुख भूमिकाएं करीं . वे राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय की ‘संस्कार रंग टोली’ के साथ भी आठ वर्षों तक जुड़े रहे .

अब वे मुंबई में सिनेमा और नाटक के लिए काम कर रहे हैं.  उनकी अभिनीत महत्वपूर्ण भूमिकाओं को केतन मेहता निर्मित फ़ीचर फ़िल्मों  ‘तेरे मेरे फेरे’, ‘माझी -द  माउंटेन मैन’ और ‘टोबा टेकसिंह’ में देखा जा सकता है .

इस वीडियो का प्रोडक्शन डिज़ाइन विजय सिंह का है और छायाकारी रचना जोशी ने की है .

समकालीन जनमत आप तीनों कलाकार साथियों का बेहद आभारी है .

Related posts

यथार्थवाद की आधारशिला है सेवासदन – ज्ञानेन्द्रपति

प्रेमचंद की कहानी ‘बड़े भाई साहब’ का पाठ: जश्न-ए-प्रेमचंद में बच्चों की भागीदारी

समकालीन जनमत

‘ बलिदान ’ : किसान-जीवन त्रासदी और प्रेमचंद की कहानी कला

समकालीन जनमत

‘प्रेमचंद : घर में’ से एक प्रसंग-शिवरानी देवी प्रेमचंद

समकालीन जनमत

प्रेमचंद का यह जो ‘हिन्दू पाठ’ है

समकालीन जनमत