प्रेमचंद की कहानी ‘ईदगाह’ का ‘जश्न-ए-बचपन’ समूह के बच्चों ने किया मंचन

शख्सियत

31 जुलाई को प्रेमचंद की 140वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत दो दिवसीय ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन कर रहा है।

इसी के तहत समकालीन जनमत बच्चों की प्रतिभागिता को सुनिश्चित करते हुए, उनके द्वारा प्रेमचंद की कुछ चुनिंदा कहानियों के पाठ की ऑडियो-वीडियो प्रस्तुति जारी कर रहा है।

इस श्रृंखला में प्रस्तुत किये जाने वाले सभी वीडियो  समकालीन जनमत के विशेष अनुरोध पर उत्तराखंड में बच्चों के बीच काम कर रहे साथी नवेन्दु मठपाल और उनके मंच ‘जश्न-ए-बचपन’ के माध्यम से उपलब्ध हुए हैं। इन वीडियोज़ की ख़ास बात यह है, कि इसे बच्चों ने ख़ुद बनाया है।

इसी क्रम में प्रस्तुत है, मयंक अटवाल, खुशी अटवाल, अमन अटवाल और कृति अटवाल द्वारा प्रेमचंद की कहानी,  ‘ईदगाह’ का मंचन।  

Related posts

वर्णव्यवस्था के विद्रूप को उघाड़ती सद्गति

मुकेश आनंद

सत्ता संपोषित मौजूदा फासीवादी उन्माद प्रेमचंद की विरासत के लिए सबसे बड़ा खतरा:डॉ. सुरेंद्र प्रसाद सुमन

समकालीन जनमत

प्रेमचंद किसान जीवन की दुर्दशा के लिए जिम्मेदार धरम, महाजन और साहूकार की भूमिका की शिनाख्त करते हैं

‘ बलिदान ’ : किसान-जीवन त्रासदी और प्रेमचंद की कहानी कला

समकालीन जनमत

प्रेमचंद की कहानी ‘बूढ़ी काकी’ का पाठ : जश्न-ए-प्रेमचंद में बच्चों की भागीदारी

समकालीन जनमत