समकालीन जनमत

Tag : lucknow

साहित्य-संस्कृति

बाहर से शांत, दिमाग के भीतर धधकती आग थे अनिल सिन्हा- अजय कुमार

लखनऊ। लेखक और पत्रकार अनिल सिन्हा के दसवें स्मृति दिवस के मौके पर जन संस्कृति मंच ने स्मृति कार्यक्रम का आयोजन किया। यह 25 फरवरी...
ख़बर

आइसा के प्रदेश उपाध्यक्ष नितिन राज के खिलाफ लखनऊ पुलिस नहीं पेश कर पाई रिपोर्ट, हाई कोर्ट ने 21 दिन का समय दिया

समकालीन जनमत
अतुल    लखनऊ। आइसा के प्रदेश उपाध्यक्ष कॉमरेड नितिन राज की जमानत याचिका पर आज हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने लखनऊ पुलिस को  ‘काउंटर रिपोर्ट’ देने के...
साहित्य-संस्कृति

लखनऊ में प्रतिभा कटियार की ‘ मारीना ’ : विमोचन और चर्चा

कौशल किशोर
‘ मारीना ’ कवि-कथाकार-पत्रकार प्रतिभा कटियार की हिन्दी के पाठकों के लिए खोज है। यह उस कवि की तलाश है जो अपने देश रूस से...
ख़बर

लखनऊ के लेखकों, संस्कृतिकर्मियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने नए कृषि कानूनों की प्रतियां जलाई

लखनऊ। प्रगतिशील शायर कैफ़ी आज़मी के जन्मदिन की पूर्व संध्या पर लखनऊ के लेखकों, संस्कृतिकर्मियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने तीन कृषि कानूनों की प्रतियों को...
ये चिराग जल रहे हैं

हुसेन, पहाड़ और सिनेमा से प्यार करने वाला चितेरा

नवीन जोशी
( वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक नवीन जोशी के प्रकाशित-अप्रकाशित संस्मरणों की  शृंखला ये चिराग जल रहे हैं’ की  तेरहवीं   क़िस्त  में  प्रस्तुत  है   लखनऊ  के ...
ये चिराग जल रहे हैं

नंदकुमार उप्रेती- महानगर में एक भोला-निष्कपट पहाड़ी

( वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक नवीन जोशी के प्रकाशित-अप्रकाशित संस्मरणों की  श्रृंखला ‘ये चिराग जल रहे हैं’ की  ग्यारहवीं  क़िस्त  में  प्रस्तुत  है  लखनऊ  महानगर...
ये चिराग जल रहे हैं

राजेंद्र माथुर :  हिंदी पत्रकारिता के आकाश में चमचमाता सितारा

नवीन जोशी
( वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक नवीन जोशी के प्रकाशित-अप्रकाशित संस्मरणों की  श्रृंखला ‘ये चिराग जल रहे हैं’ की  दसवीं   क़िस्त  में  प्रस्तुत  है  प्रखर  हिंदी ...
ये चिराग जल रहे हैं

बाबू और जामुन का यह पेड़

नवीन जोशी
( वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक नवीन जोशी के प्रकाशित-अप्रकाशित संस्मरणों की  श्रृंखला ‘ये चिराग जल रहे हैं’ की  आठवीं  क़िस्त  में  प्रस्तुत  है  प्रकृति  और...
ये चिराग जल रहे हैं

जिज्ञासु : ‘ अचल ’ की परम्परा के वाहक

नवीन जोशी
( वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक नवीन जोशी के प्रकाशित-अप्रकाशित संस्मरणों की  श्रृंखला ‘ये चिराग जल रहे हैं’ की  चौथी  क़िस्त  में  प्रस्तुत  है   कुमाऊंनी भाषा ...
ख़बर

घंटाघर पर लहराता जनसमुद्र, संगवारी ने पेश किया सांस्कृतिक कार्यक्रम

कौशल किशोर
लखनऊ. इन दिनों लखनऊ का घंटाघर सुर्खियों में है। शाहीनबाग से सीएए, एनआरसी और एनपीआर के विरोध में औरतों ने जिस धरने के शुरुआत की...
Fearlessly expressing peoples opinion

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy