Author : रामायन राम

14 Posts - 0 Comments
युवा लेखक और आलोचक रामायन राम जन संस्कृति मंच की उत्तर प्रदेश इकाई के राज्य सचिव हैं.EMail: [email protected]
शख्सियत

प्रो. तुलसी राम के चिंतन व लेखन को सामने लाना ज़रूरी है!

रामायन राम
“जब मैं पहले दिन स्कूल पहुंचा तो नाम लिखते हुए अध्यापक मुंशी राम सूरत लाल ने पिता जी से पूछा यह कब पैदा हुआ था?...
ज़ेर-ए-बहस

वे लौट रहे हैं…

रामायन राम
वे लौट रहे हैं, खुद को घसीटते हुए। अपनी गठरी, मोटरी, बच्चे समेत रेल की पटरियों पर, सड़कों पर, साइकिलों पर, ट्रकों में आलू के...
शख्सियत

डॉ. अंबेडकर और बौद्ध धम्म : मोक्षदाता नहीं, मार्गदाता की तलाश

रामायन राम
14 अक्टूबर 1956 को नागपुर में डॉ. अंबेडकर ने तीन लाख से भी अधिक लोगों के साथ बौद्ध धर्म अंगीकार किया। आधुनिक भारत के इतिहास...
जनमत शिक्षा

सावित्रीबाई फुले के जन्म दिन को मनाया जाए शिक्षक दिवस के रूप में

रामायन राम
पिछले कुछ वर्षों से भारत के बहुजन समाज के प्रबुद्ध वर्ग के लोगों की ओर से भारत की प्रथम स्त्री शिक्षिका सावित्रीबाई फुले के जन्म...
कहानी

साम्प्रदायिक राजनीति के ख़तरनाक खेल को बेनक़ाब करती है कहानी ‘गौसेवक’

रामायन राम
28 अगस्त 2019 को सुप्रसिद्ध कथाकार अनिल यादव को उनकी ‘हंस’ में प्रकाशित कहानी ‘गौसेवक’ के लिए वर्ष 2019 के हंस कथा सम्मान से नवाजा...
जनमत शख्सियत स्मृति

कटरी की रुक्मिनी: कविता का अलग रास्ता

रामायन राम
वीरेन डंगवाल 70 के दशक की चेतना के कवि हैं। कविता के क्षेत्र मे उनका प्रवेश 70 के दशक में हुआ । यह वह समय...
जनमत शख्सियत स्मृति

प्रेमचंद ने ‘अछूत की शिकायत’ को कथा-कहानी में ढाला

रामायन राम
  1914 में हिंदी की प्रतिष्ठित पत्रिका सरस्वती में हीरा डोम की कविता अछूत की शिकायत प्रकाशित हुई थी,जिसमे कवि ने अछूतों के साथ होने...
कविता जनमत

अरमान आनंद की कविताएँ भावुक बयान ही नहीं प्रतिबद्धता और बदलाव की छटपटाहट भी हैं

रामायन राम
कविता के क्षेत्र में आये हर युवतर और नए कवि का मौलिक स्वर रोमांस होता है।रुमानियत उनकी संवेदना का मूल सेंसर होता है।अपने समय की...
जनमत

भारत में स्त्री मुक्ति और डॉ. अम्बेडकर

रामायन राम
( डॉ. भीमराव अम्बेडकर की पुण्यतिथि के अवसर पर प्रस्तुत है जसम उत्तर प्रदेश के सचिव रामायन राम का स्त्री पराधीनता के इतिहास और नारी...
साहित्य-संस्कृति

‘मुक्तिबोध की आत्मालोचना में समाज की आलोचना निहित है’

रामायन राम
मुक्तिबोध जन्मशती आयोजनो के क्रम में 24 नवंबर को झांसी में प्रलेस, जसम, इप्टा और आगाज़ विचार मंच के संयुक्त तत्वावधान में ‘मुक्तिबोध:समय से संवाद’ विषय...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy