Tag : आदिवासी

देसवा

आदिवासी स्कूल वाया बाईपास

मनोज कुमार सिंह
( पत्रकार मनोज कुमार के साप्ताहिक कॉलम ‘देसवा’ की 11 वीं क़िस्त ) 28 नवम्बर 2011। दिन रविवार। नेपाल जाने वाली सोनौली बाइपास सड़क के...
जनमत

पत्थलगड़ी गावों के आदिवासियों पर भीषण जुल्म ढा रही है झारखंड सरकार

पत्थलगड़ी गावोंका दौरा करने के बाद तथ्यान्वेषण दल  की रिपोर्ट रांची. 6-7 अगस्त 2019 को सामाजिक कार्यकर्ताओं, शोधकर्ताओं, पत्रकार व वकीलों के एक दल ने...
ख़बर

आदिवासियों के अधिकार और न्याय की मांग को लेकर निकली यात्रा बिच्छी पहुंची

सोनभद्र. सोनभद्र में हुए जनसंहार, आदिवासियों पर बढ़ते हमले के खिलाफ और  जल- जंगल -जमीन पर आदिवासियों के अधिकार के लिए 9 अगस्त (भारत छोड़ो...
ख़बर

सोनभद्र नरसंहार के विरुद्ध आइसा का विरोध- प्रदर्शन

20 जुलाई 2019, प्रयागराज । सोनभद्र के मूर्तिया ग्राम पंचायत के उम्भा गांव में हुए निर्दोष आदिवासियों के सामूहिक नरसंहार के विरुद्ध ऑल इंडिया स्टूडेंट्स...
ख़बर

सोनभद्र में आदिवासियों की हत्या के खिलाफ लखनऊ में भाकपा माले का प्रदर्शन

लखनऊ. हजरतगंज चौराहा स्थित अम्बेडकर प्रतिमा पर गुरुवार को भाकपा (माले) के कार्यकर्ताओं ने सोनभद्र के नृशंस हत्याकांड के खिलाफ माले की केंद्रीय समिति सदस्य...
ख़बर

जय श्री राम के नारे लगाते हुए भीड़ ने झारखंड के आदिवासी की लिंचिंग की

समकालीन जनमत
झारखंड जनाधिकार महासभा ने 10 अप्रैल को गुमला, झारखंड में हुई 50 वर्षीय आदिवासी प्रकाश लाकड़ा की मोब लींचिंग और हत्या के ख़िलाफ़ फैक्ट फाइंडिंग...
ख़बर

हाशिये की समाज की योद्धा थीं रमणिका गुप्ता

सुशील मानव
रमणिका गुप्ता नहीं रही। आज शाम 4-5 के बीच डिफेंस कालोनी नई दिल्ली के अपने आवास पर उनका देहावसान हो गया। तीन दिन पहले ही...
जनमत स्मृति

‘ रुको कि अभी शेष है जिंदगी की जिजीविषा, प्राण और सांस, शेष है धरती, आकाश और क्षितिज ’

  (वरिष्ठ रचनाकार और आदिवासी, दलित और स्त्री मुद्दों पर सक्रिय रहीं सामाजिक कार्यकर्ता रमणिका गुप्ता (22.4.1929 – 26.3.2019) के निधन पर जन संस्कृति मंच...
जनमत

जन वितरण प्रणाली में आधार का प्रहार, लोगों के शोषण का नया प्रकार

सिराज दत्ता झारखंड के कोल्हान क्षेत्र के हो आदिवासियों के संघर्ष का इतिहास काफ़ी लंबा है. चाहे छोटा नागपूर के राजा के विरुद्ध हो या...
ख़बर ज़ेर-ए-बहस

10 लाख से अधिक वनवासियों को जंगलों से बेदखल करने का आदेश

कागजों पर लिखी इबारत कितनी मारक हो सकती है, इसको उच्चतम न्यायालय के उस फैसले से समझा जा सकता है, जिसमें 10 लाख से अधिक...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy