Author : समकालीन जनमत

743 Posts - 1 Comments
ख़बर ज़ेर-ए-बहस

यह सच बोलने के लिए चुकाई गयी कीमत है: सुशांत सिंह

समकालीन जनमत
अशोक पान्डे सुशांत और मेरी स्कूली पढ़ाई नैनीताल के एक ही स्कूल से हुई. बिड़ला विद्यामंदिर में वे मेरे जूनियर रहे और मेरे पास आउट...
ख़बर साहित्य-संस्कृति

जन संस्कृति मंच ने प्रसिद्ध कथाकार स्वयंप्रकाश को दी श्रद्धाजंलि

समकालीन जनमत
जन संस्कृति मंच दुर्ग-भिलाई इकाई द्वारा दिनांक 8 दिसंबर 2019 को नेहरू सांस्कृतिक भवन, सेक्टर-1, भिलाई में प्रसिद्ध कथाकार के आकस्मिक निधन पर भावभीनी श्रद्धाजंलि...
ख़बर ज़ेर-ए-बहस

गुजरात केंद्रीय विश्विद्यालय के छात्र और शिक्षक जामिया और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के समर्थन में आये

समकालीन जनमत
16 दिसम्बर 2019: आज शाम गुजरात केंद्रीय विश्विद्यालय के छात्र और शिक्षक संघ, देश के विश्वविद्यालयों में नागरिकता संशोधन कानून के प्रतिरोध को दबाने के...
ख़बर ज़ेर-ए-बहस

इलाहाबाद विश्वविद्यालय : जामिया के समर्थन, कैब के विरोध में उतरे छात्र

16दिसंबर, इलाहाबाद: देश भर में चल रहे आंदोलनों की तपिश आज इलाहाबाद विश्विद्यालय में भी महसूस की गई। इलाहाबाद विश्विद्यालय के छात्रसंघ भवन गेट पर...
जनमत

नागरिकता संशोधन विधेयक : आज़ाद भारत के इतिहास में सबसे ज़्यादा निरंकुश और भेदभावकारी क़ानून

समकालीन जनमत
अन्तर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस के ठीक एक दिन पहले लोकसभा ने नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) 2019 को पास कर दिया। भारत की नागरिकता की मूल शर्तों...
ख़बर

संविधान और उसकी भावना को तबाह करने वाले नागरिकता संशोधन विधेयक को वापस ले सरकार

समकालीन जनमत
दिल्ली, 11 दिसंबर, ऑल इंडिया पीपुल्स फोरम, मोदी सरकार द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन विधेयक को लागू किए जाने की कड़ी भर्त्सना करते हुए मांग...
ख़बर

‘महिला हिंसा रोकने की जवाबदेही से सरकारें भाग रहीं’: कविता कृष्णन

समकालीन जनमत
10-12-2019 ऐपवा का आठवां राज्य सम्मेलन महिला हिंसा रोकने की जवाबदेही से सरकारें भाग रहीं : कविता कृष्णन लखनऊ, 10 दिसंबर. देश में महिलाओं के...
साहित्य-संस्कृति

कथा लेखन पार्टी लाइन से नहीं तय होता – संजीव कुमार

लखनऊ में रेवान्त मुक्तिबोध सहित्य सम्मान  लखनऊ. लखनऊ के कैफी आजमी एकेडमी के सभागार में 9 दिसम्बर को  आयोजित सम्मान समारोह में वर्ष 2019 का...
ख़बर

संविधान पर हमला है नागरिकता संशोधन बिल : रामजी राय

समकालीन जनमत
मानवाधिकार दिवस पर जस्टिस रामभूषण मेहरोत्रा स्मृति व्याख्यान इलाहाबाद. मानवाधिकार दिवस पर जस्टिस रामभूषण मेहरोत्रा स्मृति व्याख्यान के तहत ‘  मानवाधिकार व नागरिकता ‘ विषय...
ज़ेर-ए-बहस शख्सियत

वंचितों और पराधीन लोगों की ओर से बोलने वाले पहले दार्शनिक थे बुद्ध– प्रो. गोपाल प्रधान

” जिसे बौद्ध दर्शन का दुःखवाद कहा जाता है उसे अगर सामान्य जीवन के अर्थों में परिभाषित करें तो क्या परिभाषा निकलती है कि दुःख...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy