Tag : jnu

स्मृति

प्रतिलिपियों से भरी इस दुनिया में चंदू मौलिक होने की जिद के साथ अड़े रहे

समकालीन जनमत
( आज जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष चंद्रशेखर का स्मृति दिवस है . 31 मार्च 1997 को सिवान में आरजेडी सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के...
ख़बर जनमत

जेएनयू पर हमला मस्तिष्क, संवाद , बहस , चिंतन, सत्य और न्याय पर हमला है

रवि भूषण
अमेरिकी दार्शनिक जैसन स्टेनले (जन्म 12 अक्टूबर 1969) की पुस्तक ‘हाउ फासिज्म वर्क्स द पॉलिटिक्स ऑफ यूएस एंड देम 2018’ का एक अध्याय एंटी इंटेलेक्चुअल...
ख़बर

शिक्षा संस्थानों को हिंसा और आतंक से बचाए रखना लोकतंत्र व संविधान की रक्षा की पूर्वशर्त है 

नई दिल्ली। जेएनयू में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के गुंडों द्वारा 5 जनवरी को की गई हिंसा की जनवादी लेखक संघ, दलित लेखक संघ, जन संस्कृति मंच...
ख़बर

हथियारबंद गुंडों का जेएनयू छात्रा-छात्राओं व शिक्षकों पर हमला, छात्र संघ अध्यक्ष सहित 30 घायल

समकालीन जनमत
पुलिस और जेएनयू प्रशासन खामोश तमाशाई बना रहा, जेएनयू पहुंचे योगेन्द्र यादव पर भी हमला घटना के विरोध में पुलिस मुख्यालय पर पूरी रात प्रदर्शन...
ख़बर जनमत

हमारा हाथ जेएनयू के साथ

समकालीन जनमत
27नवंबर, इलाहाबाद शिक्षा के निजीकरण व कैंपसों में दमन पर तत्काल रोक लगाने की मांग को लेकर इलाहाबाद में प्रतिवाद मार्च जेएनयू में फीस वृद्धि...
ख़बर जनमत

शिक्षा के निजीकरण, जेएनयू पर हमले और बीएचयू के साम्प्रदायीकरण की कोशिश के ख़िलाफ़ आज़मगढ़ में प्रतिवाद मार्च

समकालीन जनमत
आज़मगढ़, 27 नवम्बर 2019 शिक्षा के निजीकरण, जेएनयू पर हमले और बीएचयू के साम्प्रदायीकरण की कोशिश के खिलाफ आज़मगढ़ में नागरिक मंच के बैनर तले...
जनमत व्यंग्य

सब घाल-मेल है भाई

विरूप
जेएनयू का मसला चल ही रहा था कि हुक्मरानों की मेहरबानी से न्यायालय, संविधान, न्यायमूर्ति, राष्ट्रपति, राज्यपाल जैसे जुमले हवा में तैरने लगे हैं. पूरा...
जनमत

शासक वर्ग को जेएनयू दुश्मन क्यों लगता है ?

मीनल
बीते सात-आठ वर्षों में हम सभी ने जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी यानि जेएनयू का नाम हर तरह के अच्छी-बुरी ख़बरों में लगातार सुना है. हममें से...
जनमत

दिल्ली पुलिस के नाम खुला पत्र

इन्द्रेश मैखुरी
प्यारी दिल्ली पुलिस और उसके बहादुर जवानों, जे.एन.यू. के छात्र-छात्राओं पर लाठी भाँजते,उन्हें खींचते-घसीटते और उन पर पानी-प्रहार करते आपकी तस्वीरें देखी. क्या मुस्तैदी और...
स्मृति

चंद्रशेखर : नई पीढ़ी का नायक

प्रणय कृष्ण
चंद्रशेखर की सबसे प्रिय किताब थी लेनिन की पुस्तक ‘क्या करें’। नेरुदा के संस्मरण भी उन्हें बेहद प्रिय थे। अकसर अपने भाषणों में वे पाश...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy