1936 में ‘साहित्य का उद्देश्य’ शीर्षक से प्रेमचंद द्वारा दिए गए ऐतिहासिक भाषण की ऑडियो वीडियो प्रस्तुति

शख्सियत

31 जुलाई 2020 प्रेमचंद की 140 वीं जयंती के अवसर पर समकालीन जनमत ने दो दिवसीय ‘जश्न-ए-प्रेमचंद’ का आयोजन किया। इस अवसर पर  समकालीन जनमत की विशेष पेशकश – प्रगतिशील लेखक संघ के पहले अधिवेशन (1936) में प्रेमचंद द्वारा दिए गए अध्यक्षीय भाषण की ऑडियो वीडियो प्रस्तुति

यह एक ऐतिहासिक भाषण है और हमें उम्मीद है कि समकालीन जनमत के पाठकों को हमारा यह प्रयास पसंद आएगा।

 

(इस प्रस्तुति को अपनी आवाज़ से सँवारा है साथी कपिल शर्मा ने और वीडियो सम्पादन किया है साथी वी. अरुण कुमार ने, दोनों ही साथियों के महत्वपूर्ण योगदान के लिए समकालीन जनमत आभार व्यक्त करता है।)

Related posts

उपन्यास सम्राट प्रेमचंद की रचनाधर्मिता और आधार भूमि 

प्रेमचंद ने राष्ट्रवाद की अवधारणा के फासीवादी चरित्र को काफी पहले ही देख लिया था : प्रो. रविभूषण

प्रेमचंद की कहानी ‘बूढ़ी काकी’ का पाठ : जश्न-ए-प्रेमचंद में बच्चों की भागीदारी

समकालीन जनमत

साहित्य का उद्देश्य: प्रेमचंद

समकालीन जनमत

जश्न-ए-प्रेमचंद: फ़रज़ाना महदी की आवाज़ में ‘बड़े भाई साहब’

समकालीन जनमत