Wednesday, December 7, 2022
Homeख़बरसंजलि को न्याय दिलाने के लिए जनसंगठनों का लखनऊ में प्रदर्शन

संजलि को न्याय दिलाने के लिए जनसंगठनों का लखनऊ में प्रदर्शन

लखनऊ। आगरा में मासूम अंजलि की पेट्रोल से जलाकर की गई निर्मम हत्या की गूंज आज लखनऊ में सुनाई पड़ी। विभिन्न महिला संगठनों और आवाम पसंद लोगों ने इस घटना की घोर निंदा करते हुए अम्बेडकर प्रतिमा के सामने विरोध प्रदर्शन किया।

वक्ताओं ने इस मामले में सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि प्रदेश में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं के नाम पर ढोंग किया जा रहा है। प्रदेश में कहीं भी बहू-बेटियां सुरक्षित नहीं हैं और उनकी पढाई-लिखाई तो दूर सामान्य रूप से कहीं आना जाना भी मुश्किल गया है।

विभिन्न जनसंगठनों ने संयुक्त धरना-प्रदर्शन के माध्यम से दसवी की छात्रा संजलि के साथ हुई नृशंस  घटना पर अपना विरोध प्रदर्शन किया। वक्ताओं ने मासूम संजलि को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि प्रदेश में जंगलराज कायम हो गया है। लूट, हत्या, बलात्कार की घटनाओं में बेतहाशा वृद्धि हुई है। हर तरफ अपराध और अत्याचारों की बाढ़ आ गई है, जबकि सरकार गाय और हनुमान से आगे बढ़ने को तैयार ही नहीं दिखती। लोगों ने कहा कि उनका विरोध प्रदर्शन संजलि के हत्यारों की गिरफ्तारी के साथ उनके परिवार को न्याय दिलाये जाने तक जारी रहेगा।

इस अवसर पर विभिन्न महिला संगठन एडवा, महिला फेडरेशन और एपवा एवं अमन- पसंद जनसंगठनों एसएफआई, डीवाईएफआई, आइसा, आरवाईए, साझी दुनिया, रिहाई मंच, जन संस्कृति मंच, पीयूसीएल से जुड़े सैकड़ों लोग विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए।

प्रतिवाद सभा में उपस्थित लोगों में लखनऊ वि0वि0 की पूर्व कुलपति प्रो0 रूप रेखा वर्मा, वरिष्ठ पत्रकार व एक्टिविस्ट वंदना मिश्र, सामाजिक कार्यकर्ता नाइस हसन, विमल किशोर, दलित बुद्धिजीवी व एक्टिविस्ट राम कुमार, जसम के कौशल किशोर, इप्टा के राकेशजी, जनवादी नौजवान सभा के नेता का0 राधे श्याम वर्मा, आर वाई ए नेता राजीव, आइसा नेता शिवा रजवार, इलाहाबाद वि वि छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष लाल बहादुर सिंह, रिहाई मंच के राजीव यादव के नाम प्रमुख हैं।

RELATED ARTICLES

3 COMMENTS

Comments are closed.

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments