फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की जयंती पर प्रेम और क्रान्ति के गीत गाए

जनमत

 

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की जयंती पर जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में  ‘चन्द रोज़ और मेरी जान : सेलिब्रेटिंग लव ‘ का आयोजन

विश्वविद्यालयों को पितृसत्तात्मक विचारों का अड्डा नहीं बनने देने का संकल्प

नई दिल्ली. फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की जयंती पर प्यार का जश्न मनाते हुए आइसा ने जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में  ‘चन्द रोज़ और मेरी जान : सेलिब्रेटिंग लव ‘ नाम से सांस्कृतिक शाम का आयोजन किया.

इस कार्यक्रम में परिसर के भीतर और बाहर के करीब 300 लोगों ने भाग लिया । 20 से अधिक लोगों ने प्रेम और क्रान्ति के गीत गाए तथा कविताएं सुनाईं। संकाय के सदस्यों ने भी कार्यक्रम में भाग लिया।

इस मौके पर अपने संबोधन में प्रोफेसर कृष्णस्वामी ने सरकार और हिंदुत्ववादी ताकतों द्वारा निर्धारित सांप्रदायिक एजेंडे के बजाय समाज के बड़े सामाजिक और आर्थिक चिंताओं के आधार पर अपने स्वयं के एजेंडे को लागू करने की आवश्यकता पर जोर दिया. अन्य वक्ताओं ने अपनी कविताओं में वैवाहिक बलात्कार, सम्मान-हत्या, लव-जेहाद, किसी भी रूप में प्यार के अपराधीकरण और सांप्रदायिक घृणा आदि विषयों को संबोधित किया।

कार्यक्रम में फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की क्रांतिकारी विरासत और समकालीन परिदृश्य में उनकी कविताओं की प्रासंगिकता को याद किया गया। फ़ैज़ की ही एक पंक्ति है -, ‘निसार मैं तेरी गलियों पे ए वतन, के जहां, चली है रस्म के कोई न सर उठा के चले’।

कार्यक्रम में देश के जिम्मेदार नागरिकों के रूप में विश्वविद्यालय के युवा छात्र-छात्राओं ने अपने धर्म और जीवनसाथी के चयन की स्वतंत्रता के उनके संवैधानिक अधिकारों पर जोर दिया। छात्र-छात्राओं ने जोर देकर कहा कि कि वे अपने देश या विश्वविद्यालयों को पितृसत्तात्मक विचारों का अड्डा नहीं बनने देंगे ।

विद्यार्थियों ने यह आश्वासन भी दिया कि वे देश को याद दिलाएंगे कि हम स्वतंत्र रूप से प्यार करने के अधिकार की रक्षा करेंगे तथा  धर्म, जाति, कबीले और अभिविन्यास की किसी भी बाधा से मुक्त होंगे।

 

युवाओं ने कहा कि वर्तमान केंद्र सरकार में, जिसने महिलाओं की सुरक्षा के नाम पर महिलाओं की स्वतंत्रता को निंदनीय रूप से कम करने का काम किया है, जहां अंकित सक्सेना को सिर्फ इसलिए मार दिया जाता है क्योंकि वह दूसरे धर्म की लड़की से प्यार करने की हिम्मत करता है, जहां एक युवा महिला हादिया के अपने धर्म और जीवनसाथी चुनने के फैसले को  भारत के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा एनआईए जांच का आधार माना जाता है, जहां विश्वविद्यालयों में लोगों का सामान्य विवेक पितृसत्तात्मक धारणा का आधार बन गया है, जहां हिंदुत्व मुख्यधारा के घटक इस तरह राज्य प्रायोजित हैं, कि वे अंतर-धार्मिक विवाह किए लोगों की सूची बना सकते हैं और उन्हें हत्या की धमकी दे सकते हैं और ऐसे अपराध जो कि आईपीसी के तहत धर्म के नाम पर घृणा फैलाने के लिए दंडनीय हैं, में निर्दोष साबित हो सकते हैं, सिर्फ एक विशेष पहचान के होने के कारण लोग मारे जाते हैं, नफरती अपराधों के ऐसे समय में यह अनिवार्य हो जाता है कि देश के लोग किसी भी इंसान के उसके धर्म और जीवनसाथी के चयन के मौलिक संवैधानिक अधिकार पर मजबूती से दावा करें |

 

Related posts

फर्जी डिग्री केस में डूसू अध्यक्ष का नामांकन रद्द करने की मांग को लेकर वीसी और डीएसडब्ल्यू का घेराव

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अध्यापकों की नियुक्ति के लिए हुई स्क्रीनिंग में अपारदर्शिता व भेदभाव के खिलाफ़ प्रदर्शन

समकालीन जनमत

मोहम्मद अज़ीम की हत्या : अल्पसंख्यक समुदाय की शिकायतों को दिल्ली पुलिस ने नजरअंदाज किया

बगोदर में बिजली आपूर्ति की लचर व्यवस्था के खिलाफ आइसा-इनौस ने लालटेन मार्च निकाला

रोजगार आंदोलन से जुड़े छात्र इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में आइसा प्रत्याशी का करेंगे समर्थन

समकालीन जनमत

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy