समकालीन जनमत
ख़बर

सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) का सवाल : आरएसएस नेता इन्द्रेश कुमार को कैसे दे सकते हैं डी. लिट. उपाधि

लखनऊ.  सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) के प्रदेश अध्यक्ष एडवोकेट मोहम्मद शोएब और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष
डॉ संदीप पाण्डेय ने आरएसएस के नेता इन्द्रेश कुमार को ख्वाजा मोइनुद्दीन चिस्ती उर्दू अरबी फारसी विश्वविद्यालय, लखनऊ के दीक्षांत समारोह में डी.लिट की उपाधि दिए जाने पर सवाल उठाया है. दोनों नेताओं ने कहा कि इन्द्रेश कुमार 2007 में ख्वाजा मोइनुद्दीन चिस्ती की अजमेर स्थित दरगाह में हुई आतंकी घटना के आरोपी रहे हैं. उन्होंने समाज में ऐसा कौन सा योगदान दिया है कि उन्हें मानद डी.लिट. की उपाधि दी जाए ?

इंद्रेश कुमार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मार्गदर्शक हैं.

डॉ संदीप पाण्डेय और मोहम्मद शोएब ने एक संयुक्त बयान में कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार बढ़े शुल्क को वापस घटने के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों के 25 दिनों से चल रहे आंदोलन के बावजूद बात न करने पर अड़ी हुई है और एक समय विश्व स्तरीय इस विश्वविद्यालय को चौपट करने पर लगी हुई है, देश के अन्य विश्वविद्यालयों से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ या उसकी सोच से जुड़े लोगों द्वारा सीधे हस्तक्षेप कर अकादमिक गुणवत्ता के साथ छेड़-छाड़ की गम्भीर खबरें मिल रही हैं.

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी में आजकल कुछ संकीर्ण हिन्दुत्ववादी मानसिकता के छात्रों द्वारा संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान विभाग में डाॅ. फिरोज खान के एसिस्टेंट प्रोफेसर नियुक्त हो जाने का सिर्फ उनके मुस्लिम होने के कारण विरोध किया जा रहा है जबकि विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि डाॅ. फिरोज खान इस पद के लिए सारी जरूरी शर्तें पूरी करते हैं. विरोध करने वाले छात्रों का यह भी कहना है कि यह नियुक्ति विश्वविद्यालय के संस्थापक महामना मालवीय जी की सोच के अनुकूल नहीं है. मदन मोहन मालवीय ने कहा था, ‘ भारत सिर्फ हिन्दुओं का देश नहीं है। यह मुस्लिम, इसाई व पारसियों का भी देश है। यह देश तभी मजबूत व विकसित बन सकता है जब भारत में रहने वाले विभिन्न समुदाय आपसी सौहाद्र्य के साथ रहेंगे।’ मालवीय जी की यह कोशिश रही कि दुनिया भर से भिन्न-भिन्न विचारधाराओं के विद्वानों को लाकर काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में उनसे अध्यापन कराया जाए। ऐसे में विरोध करने वाले छात्रों को सोचना चाहिए कि क्या वाकई में मालवीय जी उनके तर्क से सहमत होते?

 एक अन्य  चौंकाने वाली खबर यह है कि ख्वाजा मोइनुद्दीन चिस्ती उर्दू अरबी फारसी विश्वविद्यालय, लखनऊ, के दीक्षांत समारोह में 2007 में ख्वाजा मोइनुद्दीन चिस्ती की अजमेर स्थित दरगाह में हुई आतंकी घटना के आरोपी इंद्रेश कुमार को 21 नवम्बर, 2019 को मानद डी.लिट. की उपाधि से नवाजा जाएगा. इंद्रेश कुमार हिन्दुत्ववादी कार्यकर्ता सुनील जोशी की हत्या के मामले में भी आरोपी रहे. विश्वविद्यालय के कुलपति माहरूख खान, जिनकी अपनी अकादमिक योग्यता भी संदिग्ध बताई जाती है, से पूछा जाना चाहिए कि इंद्रेश कुमार ने समाज में ऐसा कौन सा योगदान दिया है कि उन्हें मानद डी.लिट. की उपाधि दी जाए ?

Related posts

Fearlessly expressing peoples opinion

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy