समकालीन जनमत
साहित्य-संस्कृति

रेणु ने कला विधाओं का समुच्चय रचा, समय-यथार्थ व्यक्त किया

‘‘सारे हिंदी लिखकों को गांव में भेजना चाहिए, एकदम ! गांव में किसानों के साथ काम करें और किसी को ‘ उससे ज्यादा कुछ ’ करना हो तो खान में जरा भेजें!…..ये हिंदी के लेखक, जो सब अपने को ‘जनता’ समझ बैठे हैं, जो सोचते हैं कि वह सब कुछ जान गए हैं, राष्ट्रभाषा उनकी हो गई है…. और असल में इनकी गरीबी का, बौद्धिक गरीबी का हिसाब नहीं है। ये और कुछ जानते ही नहीं – धान का पेड़ होता है या पौधा – यही यह नहीं जानते। मगर ये समस्याएं उठाएंगे किसानों की! समस्या उठाएंगे मजदूरों की! जिनसे इनका दूर का भी रिश्ता नहीं।’’

यह कथन है ग्राम संवेदना के कथा शिल्पी फणीश्वरनाथ रेणु का। वर्तमान समय में जब साहित्य नगरीय/ महानगरीय हो गया है, गांव वहां आमतौर पर अनुपस्थित है या छौंक की तरह बचा है, ऐसे में कथाकार शिवमूर्ति के द्वारा अपने गांव कुरंग, अमेठी में रेणु जन्मशती समारोह का आयोजन रेणु के कथन को मूर्त करने की सुचिंतित कोशिश है। यह साल रेणु के जनमशती का वर्ष रहा और 4 मार्च सौंवा जन्मदिन। इस मौके पर ‘स्मरण रेणु’ के तहत विचार गोष्ठी और सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इसमें बंगाल, दिल्ली तथा उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सो से बड़ी संख्या में लेखक व कलाकार जुटे। बड़ी संख्या में स्थानीय लाोगों ने हिस्सेदारी की और हिन्दी के इस रचनाकार रेणु को जाना-समझा। इसकी संयोजक थीं सावित्री बाई फुले पुस्तकालय की शिक्षिका ममता सिंह। रेणु के चित्र पर माल्यार्पण से कार्यक्रम की शुरुआत हुई।

‘रेणु स्मरण’ के माध्यम से रेणु का सहित्य, उनकी परंपरा, सामाजिक संघर्ष तथा वर्तमान के संदर्भ में साहित्यकारों की भूमिका पर चर्चा हुई। इसके केन्द्र में ‘मैला आंचल’, ‘परती परिकथा’, ‘जुलूस’ और ‘पलटू बाबू रोड’ जैसे उपन्यास, ‘पंचलेट’, ‘लालपान की बेगम ’, ‘मारे गये गुलफाम’, संवेदिया’, ‘रसप्रिया आदि कहानियां, ‘जल प्रलय’ कथा रिपोर्ताज तथा रेणु की कविताओं के साथ उनकी सामजिक-राजनीतिक भूमिका थी।

दो सत्रों में सम्पन्न विचारगोष्ठी के पहले सत्र के अध्यक्ष मंडल के सदस्य थे प्रसिद्ध कथाकार संजीव व जाने-माने आलोचक वीरेन्द्र यादव। इस सत्र में कमल नयन पांडेय, स्वप्निल श्रीवास्तव, अखिलेश, लाल रत्नाकर, अनिल कुमार सिंह, अनिल त्रिपाठी, तरुण निशान्त, कृष्ण कुमार श्रीवास्तव, शिव कुमार यादव और पंकज शर्मा ने विचार प्रकट किये। वहीं, दूसरे सत्र की अध्यक्षता ‘समकालीन जनमत’ के प्रधान संपादक रामजी राय और इप्टा के महासचिव राकेश ने की। वक्ता थे रामप्रकाश कुशवाहा, डी एम मिश्र, राधेश्याम सिंह, दीर्घ नारायण, भगवान स्वरूप कटियार, प्रो सूर्यदीन यादव, आशाराम जागरथ, अरुण सिंह, ब्रजेश यादव, हरेन्द्र मौर्य, सोमेश शेखर, इन्द्र मणि कुमार, अरुण निषाद, मोती लाल, प्रवीण शेखर और जमन्नाथ दूबे। सत्रों का संचालन कौशल किशोर और के के पांडेय ने किया।

वक्ताओं का कहना था कि फणीश्वरनाथ रेणु आंदोलन के रास्ते साहित्य में आए। उनके सामाजिक जीवन का आरंभ किसान आंदोलन से होता है। 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन में वे शामिल हुए। नेपाल की राणाशाही हो या भारत की तानाशाही इसके विरुद्ध लोकशाही के संघर्ष में वे शामिल हुए और जेल भी गए। वे लेखकों से जब गांव जाने की बात करते हैं तो इसके पीछे के वास्तविक संदर्भ को समझा जाना चाहिए। उनका जीवन एक सक्रिय बुद्धिजीवी का जीवन है और इस दायित्व को उन्होंने निभाया।

प्रेमचंद की परंपरा के साथ उनके जुड़ाव के संदर्भ में वक्ताओं की राय थी कि यहां परंपरा का अनुवाद नहीं है। प्रेमचंद के सबल पक्ष का यहां आत्मसात है तो वही इन्होंने बहुत कुछ नया दिया। जहां प्रेमचंद का सहित्य आजादी के संघर्षे का प्रतिनिधित्व करता है, वहीं रेणुका लेखन आजादी के बाद पैदा हुए मोहभंग का लेखन है। दोनों की अंतर्वस्तु में समानता है पर अभिव्यक्त का भूगोल अलग है। रेणु ने यथार्थ को भेदने की अपनी भाषा विकसित की। प्रेमचंद में विचार की बहुलता है, वहीं रेणु में संवेदना की सघनता है।

वक्ताओं का यह भी कहना था कि रेणु ने भारत की सामाजिक व्यवस्था, उत्पीड़ित समुदाय व इस लोकमन के मर्म को समझा और मनुष्य के अंदर की संवेदनशीलता और करुणा को व्यक्त किया। इनके यहां इंद्रियबोध है। ध्वनियां मूर्त होती दिखती हैं। लोकजीवन अपनी पूरे रूप, रंग, रस, स्पर्श, संगीत आादि के साथ उपस्थित है। रस और रोचकता जरूरी है पर रोचकतावाद नहीं। सार रूप में कहा जा सकता हैं रेणु ने कला विधाओं का समुच्चय रचा और अपने समय यथार्थ को अभिव्यक्त किया।

जन्मशती समारोह के दूसरे चरण में रेणु की कहानी ‘ पहलवान की ढ़ोलक ’ का मंचन हुआ। आजमगढ़ की नाट्य संस्था सूत्रधार ने इसे प्रस्तुत किया जिसकी परिकल्पना और निर्देशन ममता पंडित का था। जन्मशती समारोह के आरम्भ में कथाकार शिवमूर्ति ने सभी का स्वागत किया और कहा कि रेणु को स्थापित करने की आवश्यकता नहीं। हम इसके लिए नहीं आये हैं। कोशिश यह है कि हम देखें कि रेणु हमें क्यों अपील करते हैं और हम उनसे क्या ग्रहण कर सकते हैं। सावित्री बाई फुले पुस्तकालय की संयोजक ममता सिंह ने बाहर से आये लेखकों, कलाकारों व नाटय संस्था सूत्रधार और स्थानीय लोगों को इस आयोजन को सफल बनाने के लिए सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया।

Related posts

Fearlessly expressing peoples opinion

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy