जनमत मल्टीमीडिया

प्रेमचंद : साम्प्रदायिकता और संस्कृति (वीडियो प्रस्तुति -नासिरुद्दीन )

प्रेमचंद के दौर में भी फिरकापरस्ती यानी साम्प्रदायिकता, नफरत फैलाने और बाँटने का अपना जरूरी काम बखूबी कर रही थी. आजादी के आंदोलन की पहली पांत के लीडरों की तरह ही प्रेमचंद का भी मानना था कि स्वराज के लिए इस मसले का खत्म होना जरूरी है.

15 जनवरी 1934 को छपा उनका एक लेख है- साम्प्रदायिकता और संस्कृति. यह लेख काफी मशहूर है और अक्सर हम इससे टकराते हैं. वरिष्ठ पत्रकार नासिरुद्दीन  ने इस लम्बे लेख के चुनिंदा हिस्से की वीडियो प्रस्तुति तैयार की है जिसे हम पाठकों से साझा कर रहे हैं.

 

Related posts

इस क्रूरता पर हम सिर्फ़ रोयेंगें नहीं: सविता सिंह

उमा राग

उत्तराखंड : डबल इंजन का गर्द-ओ-गुबार

इन्द्रेश मैखुरी

ज़मीनी हक़ीक़त बयाँ करतीं चंद्र की कविताएँ

समकालीन जनमत

Leave a Comment