समकालीन जनमत

Category: शिक्षा

शिक्षा

स्कूली कक्षाओं से ही निकलेगी पुस्तक- संस्कृति की राह

समकालीन जनमत
डॉ.दीना नाथ मौर्य पिछले दिनों जब झारखंड के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मुलाकातों में दिए जाने वाले ‘बुके’ को बुक यानि पुस्तक में बदलने...
जनमत शिक्षा

नई शिक्षा नीति देश को बेचने और तोड़ने का बहाना हो गई है : प्रो. अनिल सद्गोपाल

सुधीर सुमन
आठवां कुबेर दत्त स्मृति व्याख्यान, कुबेर दत्त की पुस्तक ‘ समय जुलाहा ’ का लोकार्पण नई दिल्ली. ‘नई शिक्षा नीति देश को बेचने और तोड़ने...
जनभाषा शिक्षा

राजभाषा का उद्देश्य जनता के कल्याण में निहित होना चाहिए

समकालीन जनमत
अम्बरीश त्रिपाठी ऐतिहासिक भूलों को भूल जाने में आम भारतीयों का कोई सानी नहीं है। उपनिवेश बनने की कहानी को कितनी जल्दी और आसानी से...
जनमत शिक्षा

किसके हित में है नयी शिक्षा नीति: आम जन या पूंजीपति?

समकालीन जनमत
रामावतार शर्मा मोदी सरकार की प्रस्तावित नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति, शैक्षणिक गुणवत्ता में गिरावट लाते हुए शिक्षा के व्यापार को और तेज गति देगी, इंसानियत...
जनमत शिक्षा

सावित्रीबाई फुले के जन्म दिन को मनाया जाए शिक्षक दिवस के रूप में

रामायन राम
पिछले कुछ वर्षों से भारत के बहुजन समाज के प्रबुद्ध वर्ग के लोगों की ओर से भारत की प्रथम स्त्री शिक्षिका सावित्रीबाई फुले के जन्म...
जनमत शिक्षा

स्त्री शिक्षा : आधे-अधूरे चित्त की उपज

समकालीन जनमत
कमलानंद झा ‘‘क्यों कर लड़कियां लिख-पढ़कर अपने सासरे वालों के बस में नहीं रहेंगी निश्चय वह तन-मन से अपने पुरूष की टहल करेंगी और आज्ञा...
जनमत शिक्षा

विश्वविद्यालयों की बात: गोपाल प्रधान

गोपाल प्रधान
2017 में वर्सो से स्टेफान कोलिनी की किताब ‘स्पीकिंग आफ़ यूनिवर्सिटीज’ का प्रकाशन हुआ । आजकल विश्वविद्यालयों और उनके विद्यार्थियों की संख्या में अभूतपूर्व बढ़ोत्तरी...
जनमत शिक्षा

अध्यापन के अनुभव: गोपाल प्रधान

गोपाल प्रधान
बिना किसी महिमामंडन के कहें तो अध्यापन का काम विद्यार्थी पर अपनी सत्ता को स्थापित होते हुए देखने की खुशी है । इसीलिए निजी जीवन...
जनमत शिक्षा

शिक्षा और मार्क्सवाद

गोपाल प्रधान
शिक्षा का सवाल मार्क्सवाद के भीतर महत्वपूर्ण होते हुए भी बहुधा उपेक्षित रहा है लेकिन क्रमश: इस मामले में भी दोनों के बीच जीवंत संवाद...
जनमत शिक्षा

दीवार पत्रिका के साथ मेरा अनुभव

समकालीन जनमत
महेश चंद्र पुनेठा      वर्ष 2000 के आसपास की बात है डी0पी0ई0पी0 के अंतर्गत सेवारत शिक्षक प्रशिक्षण में मुख्य संदर्भ व्यक्ति के रूप में...
Fearlessly expressing peoples opinion

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy