समकालीन जनमत

Category : जनमत

जनमत

भारत में धार्मिक स्वतंत्रता और ईसाई अल्पसंख्यक

राम पुनियानी
हाल में जारी अपनी रिपोर्ट में ‘फ्रीडम हाउस’ ने भारत का दर्जा ‘फ्री’ (स्वतंत्र) से घटाकर ‘पार्टली फ्री’ (अशंतः स्वतंत्र) कर दिया है. इसका कारण...
जनमत

जन आंदोलनों में महिलाओं की बढ़ती भागीदारी

समकालीन जनमत
आज के जन आंदोलन में महिला आंदोलन अपनी अलग पहचान रखने के बावजूद वह जनता के विभिन्न तबकों जैसे छात्र, किसान, मजदूर, दलित, आदिवासी, अल्पसंख्यक,...
जनमत

हिमालय में बड़ी परियोजनाओं को रोकना होगा

विमल भाई
उत्तराखंड ने फिर एक तबाही का मंजर देखा। चमोली जिले में ऋषि गंगा में अचानक से आई जल प्रलय में रैणी गांव के स्थानीय निवासी, बकरियां...
जनमत

बीएचयू में आइसा का मार्च एवं विद्यार्थी परिषद की ‘आहत भावनाएं ’

समकालीन जनमत
अतुल    30 जनवरी को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (AISA) इकाई ने दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलनरत किसानों के साझा मंच...
जनमत

किसान आंदोलन को मिली नई ऊर्जा व नई धार

पुरुषोत्तम शर्मा
किसान आंदोलन के दमन के लिए सत्ता की साजिशों पर किसान नेता राकेश टिकैत का पलटवार भारी पड़ा है। राकेश टिकैत की 28 जनवरी को...
जनमत

गोरख पाण्डेय की कविता ‘समझदारों का गीत’

समकालीन जनमत
  समकालीन जनमत पर आज सुनिये जनकवि गोरख पाण्डेय(1945-29 जनवरी 1989) के स्मृति दिवस पर उनकी लिखी कविता ‘समझदारों का गीत’ वीडियो सम्पादन और आवाज़:...
जनमत

गोरख पाण्डेय की कविता ‘बन्द खिड़कियों से टकराकर’ 

समकालीन जनमत
समकालीन जनमत पर आज सुनिये जनकवि गोरख पाण्डेय(1945-29 जनवरी 1989) के स्मृति दिवस पर उनकी लिखी कविता ‘बन्द खिड़कियों से टकराकर’         ...
जनमत

आइसा राज्य उपाध्यक्ष नितिन राज की 5वीं बार गिरफ़्तारी से जन संगठन नाराज

समकालीन जनमत
लखनऊ। ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आइसा) उत्तर प्रदेश के राज्य उपाध्यक्ष नितिन राज की आज गिरफ्तारी की कई संगठनों ने कड़ी निंदा की है। घंटाघर...
जनमत

‘ वैक्सीन के इस्तेमाल को मंजूरी देने में प्रभावोत्पादकता आंकड़ों की जरूरत को दरकिनार किया गया है ’

समकालीन जनमत
( विषाणु विज्ञानी गगनदीप कांग से आर. प्रसाद की बातचीत पर आधारित यह लेख  ‘द हिन्दू’ से साभार लिया गया है। ‘द हिन्दू’ में यह...
जनमत पुस्तक साहित्य-संस्कृति

कुल्ली भाट: निराला की रचना-धर्मिता और व्यक्तित्व में एक मोड़

दुर्गा सिंह
कुल्ली भाट, निराला की ऐसी रचना है, जो खुद उनके लेखन में भू-चिन्ह  की तरह है। इसका रचनाकाल 1937-38 ईसवी का है। पुुुस्तिका के रूप...
Fearlessly expressing peoples opinion

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy