समकालीन जनमत
स्मृति

अलविदा, स्टार गुरु जी !

 

मैंने 1989 के जुलाई महीने में जे एन यू के भारतीय भाषा विभाग के हिंदी विषय में एडमिशन लिया. कोर्स एम ए का था. इससे पहले मैं इलाहाबाद में गधा पचीसी के 23 साल बिता चुका था पूरब के तथाकथित ऑक्सफ़ोर्ड से काफ़ी अच्छी तरह से ऊब चुका था. जे एन यू के हिंदी विभाग में एडमिशन के लिए कोशिश का बड़ा आकर्षण नामवर जी, केदार नाथ सिंह और मैनेजर पाण्डेय थे जो न सिर्फ़ भारतीय भाषा केंद्र के आकर्षण थे बल्कि समाज विज्ञान, इतिहास और विज्ञान के छात्र –छात्राएँ भी अक्सर हमारी कक्षाओं में पाए जाते. इलाहाबाद की रटंत प्रैक्टिस की सालाना परीक्षाओं के विपरीत जे एन यू में बहुत मौज थी. सेमेस्टर शुरू होते ही टर्म पेपर, सेमीनार पेपर और फिर एंड सेमेस्टर का सिलसिला शुरू हो जाता जो रटंत प्रैक्टिस की तुलना में ज्यादा रोचक था और परीक्षा के भूत से हमें एकदम दूर रखता.

1989 के सत्र का पहला सेमेस्टर जे एन यू के नीचे वाले कैम्पस में ही चला जिसका लोकप्रिय नाम डाउन कैम्पस था. डाउन कैम्पस में घुसते ही बायें हाथ की तरफ़ हमारा हाल था जिसमे एम ए की कक्षाएँ चलती थीं. पहले ही सेमेस्टर में केदार जी हमारे निर्विवाद स्टार हो गए. अक्सर उनकी कक्षा के लिए लेट लतीफ़ रहने वाले विद्यार्थी भी समय से पहले पहुँच जाते. कुछ –कुछ यही रूतबा नामवर जी और मैनेजर जी का भी था. नामवर जी साहित्य के बहाने दुनिया की सैर कराते और मैनेजर जी अपनी मजेदार टिप्पणियों से सबको खूब आनंदित करते. केदार जी का रुतबा लेकिन अपने तीनों सहकर्मियों में सबसे अलहदा था. नामवर जी उत्तर पुस्तिका देते समय अक्सर यह कहके हमारे प्रतिरोध को स्वर न बनने देते कि ‘आप सबको एक ग्रेड मैंने पहले ही ज्यादा दिए हैं इसलिए कोई शिकायत न करें’. मैनेजर जी समय सीमा का पालन न होने पर ठीक –ठाक त्रीवता के साथ कुपित होते और कई बार उत्तर पुस्तिका को हवा में फेंक भी देते. केदार जी ने शायद ही कभी किसी तरह के नियमों का पालन किया. वे किसी कविता की व्याख्या करते ओडिसी के महान गुरु केलुचरण महापात्र की तरह अपने दाहिने हाथ की अँगुलियों से नृत्य की मुद्राओं का सृजन करते और फिर उनकी आवाज भी धीमी हो जाती.

1990 में दूसरे सेमेस्टर से ही हमारा विभाग भी न्यू कैम्पस में आ गया. अब हम सारे विभागों के साथ थे और इस तरह जे एन यू की हलचल से पूरी तरह वाकिफ़. लेकिन ऊपर आना हमारी हिंदी की कक्षा के लिए बहुत घातक साबित हुआ. असल में डाउन कैम्पस वाले हाल में एक बड़ी खिड़की भी थी जिसका उपयोग यदा –कदा हम ऊबाऊ कक्षाओं से मुक्ति पाने के लिए करते और बाहर स्थित जॉर्ज के ढाबे में केले के शेक से मन बहलाते. अब हमारी मुक्ति का रास्ता बंद हो गया लेकिन दूसरा फ़ायदा यह हुआ कि विशेष कक्षाओं के रूप में अब हमें केदार जी की क्लास मिल गयी. केदार जी स्पेशल पेपर के रूप में हमें निराला की ‘राम की शक्तिपूजा’ पढ़ाने लग गए. यह एक बेहद छोटी क्लास थी जिसमे बमुश्किल आठ छात्र –छात्राएं होते थे. अब पूरे सेमेस्टर केदार जी की अभिनव मुद्राओं से हम रोमांचित होते रहे.

एम ए करने के बाद मैंने जे एन यू छोड़कर जामिया मिलिया इस्लामिया के मास कम्युनिकेशन में प्रवेश लिया इस कारण केदार जी के जादू से वंचित होता गया लेकिन स्मृति के आधार पर कम से कम दो व्यक्तियों को जानता हूँ जो केदार जी से इस कदर प्रभावित थे कि लगभग उन्हीं की तरह रचनायें करते. अच्छी बात यह है कि इन दोनों व्यक्तियों ने बाद में अपना अलग काव्य व्यक्तित्व निर्मित किया.

तपती दुपहरी में जब जे एन यू में खूब जमकर अमलतास खिलता था केदार जी अचानक सलीक़े से पहने हुए कुर्ता –पजामे में पैदल चलते सड़क पार करते हुए अपनी ही किसी कविता के प्रभाव जैसे दिखते.

अपने स्टार गुरु को नमन.

 

[author] [author_image timthumb=’on’][/author_image] [author_info] प्रतिरोध का सिनेमा के सयोजक संजय जोशी, जे एन यू में 1989- 91 सत्र में केदार जी के विद्यार्थी रहे हैं [/author_info] [/author]

Related posts

Fearlessly expressing peoples opinion

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy