रोजगार मांगे इंडिया आन्दोलन : बेरोजगार युवाओं ने आरा में विरोध मार्च निकाला

  •  
  • 59
  •  
  •  
  •  

रेलवे परीक्षा की तिथि घोषित करने, 11000 पदों को खत्म करने की घोषणा रद्द करने और रेलवे रिक्रूटमेंट की सभी परीक्षाओं की तिथि तत्काल घोषित करने की मांग की

आरा ( बिहार ), 30 जून. रोजगार मांगे इंडिया आन्दोलन के तहत 29 जून को  सैकडों बेरोजगार युवाओं ने महाराजा कॉलेज से जैन कॉलेज फिर वहां से आरा रेलवे स्टेशन तक मार्च किया। मार्च के दौरान छात्रों और युवाओं ने मोदी सरकार के 4 सालों के दौरान बढ़ती बेरोजगारी के खिकाफ जमकर आक्रोशपूर्ण नारेबाजी की। इसके बाद स्टेशन पहुंचकर एक सभा की गई।

सभा को सम्बोधित करते हुए रोजगार मांगे इंडिया के युवाओं ने कहा कि मोदी सरकार को बने हुए 4 साल हो चुके है लेकिन 2 करोड़ प्रतिवर्ष रोजगार का जुमला कहीं दिखाई हीं पड़ रहा है। छात्र युवाओं ने बहुमत देकर मोदी को प्रधानमंत्री बनाया था लेकिन आज युवाओं की सबसे जरूरी चीज़ उनकी रोजगार का सवाल वही का वही है। रोजगार पैदा करना तो दूर उल्टे हर क्षेत्रों में किसी ना किसी तरह से पदों को ख़त्म करने की तैयारी की जा रही है।

सभा में वक्ताओं ने कहा कि छात्र -युवाओं के आंदोलन को देखते हुए मोदी सरकार ने लाखों पद रिक्त रहते हुए मात्र 92000 पदों पर वैकेंसी निकाली और पूरी रिक्रूटमेंट प्रक्रिया 4 महीने के अंदर पूरी करने की बात कही लेकिन आज 4 महीने बीतने को अभी तक एग्जाम का कोई आता पता नहीं है। परीक्षार्थियों को अभी तक एडमिट कार्ड भी नहीं दिए गए है। मोदी सरकार बेरोजगारों की फ़ौज खड़ी कर भारत के युवाओं को कॉरपोरेट पूंजीपति घरानों के लिए सस्ते मजदूर के रूप में इस्तेमाल करना चाहती है जिससे कॉर्पोरेट घरानों को ज़्यादा से ज़्यादा फायदा हो और उनकी सरकार को चंदा मिल सके। भारत मे बेरोजगारी से तंग आकर सैकडों छात्रों ने अब तक अपनी जान दी है लेकिन मोदी सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ रहा है।

युवाओं ने कहा कि दो करोड़ प्रतिवर्ष रोजगार पैदा करने का जुमला जब फेल हुआ तो नरेन्द्र मोदी ने युवाओं को पकौड़ा बेचने की सलाह देते हुए उनकी बेरोजगारी का भद्दा मजाक बनाया। उनके मंत्रियों ने भी बेरोजगार युवकों को पान की दुकान और पंक्चर की दुकान खोलने की सलाह देने लगे। ऐसे लोगों को सत्ता में रहने का कोई हक नहीं है।

सभा के दौरान बेरोजगार युवाओं ने संकल्प लिया कि आने वाले दिनों में रोजगार के लिए इससे भी बड़ा आंदोलन किया जाएगा जो अनिश्चितकालीन रेल का चक्का जाम होगा जब तक रेलवे विभाग के मंत्री रेलवे परीक्षा की तिथि घोषित नही होगा जब तक रेलवे ट्रेक जाम रहेगा।

कार्यक्रम में मनोज मंजिल, संदीप, राजू, सरोज, सबीर, पप्पू, सुधीर, अभिषेक, रंजन, चंदन, शिवप्रकाश, कीर्तिकान्त, रणधीर, प्रकाश, सोनू, महेश, अंशु, विवेक, अनुप, राजीव, शाहिद, समीर, आनंद, संजय, राकेश, अनीस, मनीष, चंदन, मुकेश, रंजन, साहिल, समेत सैकडों छात्र नौजवान शामिल थे।


  •  
  • 59
  •  
  •  
  •  

Related posts

Leave a Comment