डीटीसी कर्मचारियों की ऐतिहासिक हड़ताल, वापस लेना पड़ा वेतन कटौती का सर्कुलर

  • 1
    Share

एस्मा के बावजूद हज़ारों कर्मचारी हड़ताल पर रहे

नई दिल्ली. ऐक्टू (AICCTU) से सम्बद्ध डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर द्वारा बुलाए गए व डीटीसी वर्कर्स यूनियन (एटक) एवं डीटीसी एम्प्लाइज कांग्रेस (इंटक) द्वारा समर्थित एक दिवसीय हड़ताल ने आज दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) के पहियों को बुरी तरीके से जाम कर दिया. दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) के 11 हज़ार से ज्यादा अनुबंधित कर्मचारियों और कई स्थाई कर्मचारियों ने हड़ताल में हिस्सा लिया. हड़ताल की मुख्य मांगों में से एक मांग को हड़ताल के ठीक एक दिन पहले डीटीसी प्रबंधन द्वारा मान लिए जाने व एस्मा (ESMA) लगाए जाने के बावजूद डीटीसी के कर्मचारी पूरी ताकत से हड़ताल में उतरे.

हड़ताल के दबाव में वेतन कटौती का सर्कुलर वापस लिए जाने से मजदूरों को कुछ राहत ज़रूर मिली है, परन्तु अभी भी प्रबंधन और सरकार अस्थायी कर्मचारियों के लिए समान काम के समान वेतन, पक्का करने व डीटीसी में बसों कि संख्या बढाने पर चुप हैं. ऐक्टू का कहना है कि सरकार को अब अपना घमंडी रवैया छोड़कर कर्मचारियों की मांगों पर बात करके ठोस कदम उठाना चाहिए.

डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटरके महासचिव राजेश चोपड़ा ने हड़ताल के दौरान कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार एस्मा लगाकर भी हमारे संघर्षों को नहीं रोक सकती. बल्कि एस्मा लगाकर दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने ये साबित कर दिया है कि नीतिगत मामलों में हरियाणा में रोडवेज कर्मचारियों पर एस्मा लगाने वाली भाजपा सरकार और दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार में कोई फर्क नहीं है. चाहे एस्मा लागू हो या नहीं, हम हर अन्याय के विरुद्ध लड़ाई करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

केन्द्रीय श्रम संगठनों ने दिया हड़ताल को ज़बरदस्त समर्थन

भारतीय मजदूर संघ (BMS) को छोड़कर सभी केन्द्रीय श्रम संगठनों ने डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर(ऐक्टू) द्वारा बुलाए गए हड़ताल का समर्थन किया था. विभिन्न ट्रेड यूनियनों से नेताओं ने आज की हड़ताल में भाग लेते हुए गिरफ्तारी भी दी. डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर(ऐक्टू) के प्रेमपाल चौटेला, श्रीरमन व राजेश समेत सीटू (CITU) के छोटेलाल व हीरालाल को हड़ताल में शामिल होने के चलते दिल्ली पुलिस ने हिरासत में भी लिया. डीटीसी वर्कर्स यूनियन (एटक) के राजाराम त्यागी, महावीर त्यागी व सीटू (CITU) के एच सी पन्त, व हिन्द मजदूर सभा के दिल्ली राज्य सचिव राजेंदर जी ने भी हड़ताल में अहम भूमिका निभाई. संतोष राय, अध्यक्ष, ऐक्टू दिल्ली ने हड़ताल को सफल बनाने के लिए सभी यूनियनों का धन्यवाद दिया और ये भी कहा कि आगे की तैयारी सभी संगठनो से परामर्श के बाद तैयार की जाएगी.

कर्मचारियों की ललकार : एस्मा के बावजूद जारी रहेगा संघर्ष

हड़ताल का समर्थन करते हुए हरियाणा रोडवेज के संघर्षरत कर्मचारियों ने डीटीसी डिपो के बाहर हडताली कर्मचारियों की सभा को संबोधित किया. दिल्ली में आप सरकार द्वारा लगाए गए एस्मा की तरह ही हरियाणा में निजीकरण के खिलाफ लड़ने वाले कर्मचारियों पर वहाँ की भाजपा सरकार ने एस्मा लगाया है. संतोष राय, अध्यक्ष, ऐक्टू दिल्ली ने अपने संबोधन में बताया कि डीटीसी कर्मचारियों की स्थिति काफी खराब है, सार्वजनिक परिवहन में कमी के चलते दिल्ली में प्रदूषण लगातार बढ़ते ही जा रहा है. दिल्ली सरकार को ये साफ़ तौर पर समझ लेना चाहिए कि ये मांगे सिर्फ डीटीसी कर्मचारियों की नहीं बल्कि दिल्ली की जनता की भी हैं.

Related posts

Leave a Comment