समकालीन जनमत
ज़ेर-ए-बहस

भारत के नागरिकों को आन्‍दोलनजीवी होने पर गर्व है

मोदी राज के छ: साल नागरिक स्‍वतंत्रता, भारत के संविधान और लोकतंत्र पर अनवरत हमले के साल रहे हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने 8 फरवरी को संसद में बोलते हुए प्रदर्शनकारियों और विरोधियों को ‘परजीवी’ बता अपनी असल मंशा को स्‍पष्‍ट कर दिया है.

विरोध करने वाली जनता को अमानवीय और खलनायक बताने वाली भाषा दुनिया भर के निरंकुश तानाशाहों की भाषा रही है. यह जनसंहार की ओर ले जाने वाली भड़काऊ भाषा है.

समाज के सभी तबकों से विरोध प्रदर्शनों में आने वाले मजदूरों, किसानों, छात्रों, महिलाओं आदि सभी लोगों के लिए मोदी ने एक नया शब्‍द रचा है, ‘आन्‍दोलनजीवी’. उनका कहना है कि जो विभिन्‍न तरह के जन आन्‍दोलनों का समर्थन करते हैं वे ‘साजिशकर्ता’ हैं और उनसे देश को बचाना होगा.

उन्‍हें समझ लेना चाहिए कि लोकतांत्रिक आन्‍दोलनों में भाग लेने वाले – ट्रेड यूनियन, किसान संगठनों, महिला आन्‍दोलन, दलित आन्‍दोलन, नागरिक अधिकार आन्‍दोलन और पर्यावरण बचाने के संघर्षों आदि में शामिल – लोग अपने आन्‍दोलनजीवी होने पर गर्व करते हैं और दमित, वंचित व विस्‍थापित जनता के संघर्षों में अपनी जान की बाजी लगा देते हैं. भले ही सरकारें ऐसे लोगों को अपने लिए खतरा समझती रहें, गरीब व उत्‍पीडि़त जनता के संघर्षों में सबसे अगली कतार में आकर लड़ने वाले ऐसे लोग प्रत्‍येक देश का गौरव होते हैं.

हम आन्‍दोलनजीवी आजादी के आन्‍दोलन की गौरवमयी विरासत के साथ खड़े हैं. यह तो स्‍वाभाविक ही है कि श्रीमान मोदी आन्‍दोलनों को बर्दाश्‍त नहीं कर पाते, क्‍योंकि उनका अपना संगठन आर.एस.एस. तो आजादी के आन्‍दोलन से दूर रहा था. आर.एस.एस. ने तब अंग्रेजी साम्राज्‍य और उसके कम्‍पनी राज की सेवा की थी; मोदी राज जो इलेक्‍टोरल बॉण्‍ड के जरिये भ्रष्‍ट कारपोरेटों की फण्डिंग पर टिका है आज भी कम्‍पनी राज की सेवा कर रहा है. इसके विपरीत आन्‍दोलन जीवी लोग पूरी तरह से ‘हम भारत के लोग’ पर निर्भर रहते हैं.

किसान आन्‍दोलन का समर्थन करने वाले विदेशों के कार्यकर्ता और सुविख्‍यात लोगों को मोदी ने ‘विदेशी विनाशक विचारधारा’ (फॉरेन डिस्‍ट्रक्टिव आइडियोलॉजी FDI) बताया है. सच्‍चाई तो यह है कि मोदी खुद ट्रम्‍प और बोलसानारो जैसे विदेशी तानाशाहों और बिल गेट्स जैसे बड़े कॉरपोरेशनों के मालिकों के स्‍वागत और प्रशंसा में हमेशा खड़े रहते हैं. उनको केवल तभी परेशानी होती है जब अपने देशों में नस्‍लवाद, तानाशाही और पर्यावरण परिवर्तन के खिलाफ आवाज उठाने वाले लोग भारत के जन आन्‍दोलनों का समर्थन करते हैं.

हम सभी स्‍वतंत्रता प्रेमी न्‍याय की मांग करने वाले भारतीयों से अपील करते हैं कि वे गर्व से कहें कि ‘हम आन्‍दोलनजीवी हैं’. भारत और पूरे विश्‍व के आन्‍दोलनजीवी ही एक समतामूलक लोकतांत्रिक दुनियां के सपने को साकार बना सकते हैं.

Related posts

Fearlessly expressing peoples opinion

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy