Image default
ख़बर

भूख, नफरत और महिला हिंसा के खिलाफ अनशन को सामाजिक कार्यकर्ताओं का समर्थन मिला

लखनऊ. भूख , मुसलमानों के खिलाफ फैलाई जा रही नफरत और महिला हिंसा के खिलाफ अनशन/धरना के ऐपवा के राष्ट्रीय कार्यक्रम के तहत लखनऊ में भी आज अनेक महिलाओं, सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ताओं, बुद्धिजीवियों ने उपवास रखा। यह कार्यक्रम आज सुबह 11बजे से शाम 5 बजे तक चला ।

आज कार्यक्रम में शामिल होने वालों में वरिष्ठ कहानीकार किरण सिंह, लाल बहादुर सिंह (पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष, इलाहाबाद विश्वविद्यालय ), सामाजिक कार्यकर्ता नाइस हसन, एकल महिला मंच उप्र व घंटाघर कोऑर्डिनेशन कमेटी की ओर से नाहिद अकील, उजरियांव कोऑर्डिनेशन कमेटी की ओर से नुजहत शाह , ऐपवा से मीना सिंह , कमला , मंजू गौतम , रंजना यादव , विमल किशोर , सरोजनी बिष्ट , सलिहा प्रमुख हैं। लखनऊ के विभिन्न इलाकों-गोमतीनगर इंदिरानगर, दरोगा खेड़ा, जानकीपुरम, मड़ियांव, बीकेटी के रानीपुर समेत विभिन्न गांवों में ऐपवा कार्यकर्ता व महिलाएं कार्यक्रम में शामिल हुईं।

अनशनकारी अपने हाथों में तख्तियां लिए हुए थे जिन पर -बिना भेदभाव के सबके लिए राशन का प्रबंध करो, कोरोना मरीजों, स्वास्थ्य कर्मियों के साथ छुआछूत बंद करो, मोदी जी घड़ियाली आंसू बहाना बंद करो,
साम्प्रदायिक जहर फैलाने वालों को सजा का प्रबंध करो, सरकारी राशन दुकानों से बच्चों के लिए दूध मुफ्त वितरित करो, महिलाओं के लिए सैनेटरी पैड मुफ्त वितरित करो, कोरोना के बहाने मुसलमानों के बारे में झूठी खबरें और नफरत भड़काने वाले मीडिया समूहों को प्रतिबंधित करो, मुस्लिमों के सामाजिक – आर्थिक बहिष्कार का विरोध करो, महिलाओं को हिंसा से बचाने के लिए 24×7 हॉटलाइन सेवा शुरू करो, स्वास्थ्य और सफाई कर्मियों की सुरक्षा और उचित मेहनताने का प्रबंध करो, ट्रांसजेंडर के साथ भेदभाव बन्द करो,
उनकी सुरक्षा और राशन की व्यवस्था करो आदि नारे लिखे हुए थे.

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy