खबर

चमकी बुखार को आपदा घोषित करे सरकार : माले

भाकपा माले विधायक दल के नेता महबूब आलम के नेतृत्व में टीम ने एसकेएमसीएच पहुंचकर आईसीयू में भर्ती बच्चों का लिया जायजा, टीम ने कहा -चमकी बुखार की रोकथाम के लिए सरकार के पास कोई एक्शन प्लान नहीं

पटना. भाकपा माले विधायक दल के नेता महबूब आलम के नेतृत्व में 15 जून को एक उच्चस्तरीय जांच टीम ने मुजफ्फरपुर का दौरा किया और एसकेएमसीएच अस्पताल में चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों से मुलाकात की और घटना का जायजा लिया. इस टीम में महबूब आलम के अतिरिक्त मुजफ्फरपुर के जिला सचिव कृष्ण मोहन, खेग्रामस के नेता शत्रुघ्न साहनी और आर वाई ए के प्रदेश सचिव सुधीर कुमार शामिल थे।

अस्पतालों का दौरा करने के उपरांत माले विधायक ने कहा है कि चमकी बुखार से बच्चों को बचाने के लिए कोई भी एक्शन प्लान बिहार सरकार के पास नहीं है. विगत कई सालों से इंसेफेलाइटिस जैसी अज्ञात बीमारी से सैकड़ों बच्चे मारे जा रहे हैं लेकिन सरकार ने लगता है इससे कोई सबक नहीं लिया और बीमारी शुरू होने के पहले रोकथाम का कोई भी उपाय नहीं किया. यह बिल्कुल आपराधिक लापरवाही है और सरकार की लापरवाही के कारण इतनी बड़ी संख्या में बच्चों की मौत हुई है. हमारी पार्टी मांग करती है कि इस बुखार को तत्काल आपदा घोषित किया जाए और युद्ध स्तर पर राहत अभियान चलाया जाए।

एसकेएमसीएच में माले जांच दल ने पीड़ित बच्चों व उनके परिजनों से मुलाकात की। उन्होंने पाया कि एक बेड पर दो-तीन बच्चे पड़े हुए है। बिस्तर का घोर अभाव है । वहां के अधीक्षक सुनील कुमार से भी जांच दल के नेताओं ने बात की और चमकी बुखार के कारण, बच्चों के इलाज तथा विकराल हो रही इस समस्या पर बातचीत की। अधीक्षक ने बताया बड़ी संख्या में बच्चे इसके शिकार बन रहे हैं । गरीबों के बच्चों को यह बीमारी सबसे ज्यादा प्रभावित कर रही है लेकिन बीमारी का उचित इलाज नहीं हो पा रहा है। इसे आम बुखार तथा प्रोटोकोल सिंड्रोम की तरह इलाज करना बड़ी ही लापरवाही है।

माले विधायक महबूब आलम ने केंद्र व बिहार सरकार से मांग की है कि तत्काल विशेषज्ञों की टीम गांव-गांव भेजी जाए और राहत युद्ध स्तर पर संचालित किए जाएं तभी मरने वाले बच्चों की संख्या पर रोक लगाई जा सकती है । बच्चों को कुपोषण से बचाने के लिए विशेष अभियान चलाया जाना चाहिए.

उन्होंने कहा अनुमंडल स्तर के अस्पतालों में आईसीयू और प्रखंड स्तर के अस्पतालों में इमरजेंसी सेवा तत्काल बहाल की जाए. कहा किस मामले में केंद्र व राज्य सरकार की आपराधिक लापरवाही इतनी बड़ी संख्या में मौतों मौतों की जिम्मेदार है.

Related posts

बीआरडी मेडिकल कालेज में छह महीनों में 1049 बच्चों की मौत

इंसेफेलाइटिस से मौतों में ‘ चमत्कारिक ’ कमी का सच क्या है ?

मनोज कुमार सिंह

चमकी बुखार से बिहार सरकार ने नहीं लिया सबक, गया में जापानी बुखार से 8 बच्चों की मौत

माले ने मंगल पांडेय को बर्खास्त करने की मांग की, पटना में कारिगल चौक पर विरोध सभा

बच्चों की मृत्यु पर प्रतिरोध की कविताएँ

समकालीन जनमत

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.