Image default
ख़बर

जमीन हड़पने के लिए प्रशासन की मौजूदगी में दबंगों का राघोपुर दियारा में उत्पात

वैशाली जिले के राघोपुर दियारा प्रखंड के मल्लिकपुर कबीर चौक में दलित समुदाय के 20 घरों व 7 दुकानों में आग लगाने, पिटाई और गिरफ्तारी की घटना की भाकपा माले की जाँच रिपोर्ट

पटना 2 जून . वैशाली जिले के राघोपुर दियारा में स्थानीय प्रशासन के संरक्षण में दबंगों द्वारा दलित समुदाय पर अत्याचार की घटना की जाँच के लिए 1 जून को भाकपा-माले की राज्यस्तरीय जांच टीम ने दौरा किया. जाँच टीम ने वैशाली जिले के राघोपुर दियारा प्रखंड के मल्लिकपुर कबीर चौक जाकर 27 मई को पासवान जाति से आने वाले दलित समुदाय के 20 घरों व 7 दुकानों में आग लगाने की घटना की संपूर्णता में जांच-पड़ताल की.

माले विधायक सुदामा प्रसाद, अखिल भारतीय किसान महासभा के राज्य अध्यक्ष विशेश्वर प्रसाद याद तथा भाकपा-माले के वैशाली जिला कमिटी के सदस्य रामबाबू भगत इस जांच टीम में शामिल थे.

जांच टीम ने घटनास्थल से लौटकर बताया कि घटना की जड़ में दबंगों द्वारा दलितों की जमीन हड़प लेने का मामला है. खेसरा नंबर 282 और 283 का छोटा अंश गलती से नए सर्वे में सिकिल राय के परिजनों के नाम चढ़ गया है. जिसमें सुधार के लिए अनुसूचित जाति के लोगों ने कोर्ट में अपील कर रखी है. सिकिल राय द्वारा इस अपील को वापस लेने के लिए लगातार दबाव बनाया जाता रहा है. इसी कड़ी में उक्त घटना को अंजाम दिया गया है.

जांच टीम ने पाया कि पुराना खेसरा नंबर 283 रामेश्वर भगत के पूर्वजों भगेरा पासवान, श्री पासवान, रामकिशुन पासवान वगैरह के नाम से 5 एकड़ 54 डिसमिल सर्वे में था, जिसका नया खेसरा 244, 246, 247 आदि रकबा 3 एकड़ इन अनुसूचित जाति के लोगों के नाम अब भी सर्वे में है और बाजाप्ता मालगुजारी की रसीद कट रही है. इस जमीन पर लगभग 125 वर्षों से अनुसूचित जाति के लोग घर बनाकर रह रहे हैं. कुछ दिन पहले आए आंधी-तूफान में एक कमरे का एसबेस्टस उड़ गया था, जिसकी मरम्मत रामेश्वर भगत कर रहे थे. इसे रोकनेेे के लिए सिकिल राय ने आवेदन देकर पुलिस को बुलाया. एसआई सुधीर कुमार ने आते ही अनुसूचित जाति के लोगों को भद्दी-भद्दी गालियां देनी शुरू कर दीं और मार-पिटाई आरंभ कर दी. मालूम होता है एसआई और सिकिल राय में पहले से ही कोई डील थी.

जाँच दल ने कहा कि पुलिस बल के पहुंचते ही सिकिल राय व उनके गुर्गों ने पथराव आरंभ कर दिया व अनुसूिचति जाति के लोगों की पिटाई करने के बाद इनके घरों व दुकानों को आग के हवाले कर दिया.

दलितों की पिटाई, इनकी दुकानों व घरों में आगजनी-लूटपाट यह सब पुलिस बल की मौजूगदी में हुई, फिर भी एसआई सुधीर कुमार ने अनुसूचित जाति के ही 18 लोगों को नामजद व 15-16 अज्ञात लोगों पर पुलिस बल पर हमला करने और सरकारी काम में बाधा डालने का झूठा मुकदमा दर्ज कर दिया. जिसमें 65 वर्ष के दोनों आंखों से अंधा हो चुके हरिविलास भगत को भी अभियुक्त बनाया गया है. मोतीलाल राय की पत्नी सुवरना देवी से पुलिस ने झूठा मुकदमा दलितों पर करवाया है. दीना पासवान को 31 मई की रात में गिरफ्तार भी कर लिया गया. जबकि दलित जाति के लोगों की पिटाई, लूटपाट व आगजनी का मुकदमा सबसे अंत में काफी दबाव के बाद किया गया. जिसमें अब तक किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई.

जांच दल ने एसआई सुधीर कुमार द्वारा दर्ज कराए गए केस जिसर्में इंट का नया मकान बनाने की चर्चा है, को सफेद झूठ बताते हुए उच्च अधिकारियों से घटना स्थल पर जाकर इसकी जांच की मांग की है.

भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने कहा है कि वैशाली जिले के राघोपुर दियारा में भाजपा-जदयू सरकार और स्थानीय प्रशासन के संरक्षण में दबंगों ने पासवान जाति से आने वाले दलित समुदाय के लोगों पर कहर बरपाया है. यह बेहद निंदनीय है. बिहार में जब से चोर दरवाजे से भाजपा सत्ता में आई है, दलितों पर अत्याचार की घटनाएं बेलगाम हो गई हैं. पीड़ितों को न्याय दिलाने की बजाए नीतीश कुमार का प्रशासन उलटे पीड़ितों को ही गिरफ्तार कर जेल में ठूंस दे रहा है. दीना पासवान को 31 मई की रात में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है, जिसकी तीखी निंदा भाकपा-माले करती है.

भाकपा-माले ने इस घटना के खिलाफ 8 जून को समाहरणालय के समक्ष प्रदर्शन का निर्णय किया है.

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy