पुणे हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को 10 लाख का मुआवजा दे सरकार : महबूब आलम

खबर

माले विधायक ने पीड़ित परिजनों से मिलकर दुख की घड़ी में ढांढस बंधाया

पटना. भाकपा-माले विधायक दल के नेता महबूब आलम ने महराष्ट्र के पुणे में अत्यधिक बारिश के कारण बलरामपुर विधानसभा के 12 मजूदरों की दर्दनक मौत पर गहरा दुख वयक्त किया है और बिहार सरकार से मृतक परिजनों को 10 लाख रुपये तथा घायलों को बेहतर इलाज सहित 4 लाख रुपये तत्काल उपलब्ध करवाने की मांग की है. सभी मृतक महिसाल पंचायत के हैं.

उन्होंने पटना में पहले से तय अपने कार्यक्रम को बीच में रद्द कर दिया और आज सुबह अपने विधानसभा पहुंच गए. उन्होंने कहा कि भयानक विपदा व दुख की घड़ी में हमारी पार्टी पीड़ित परिजनों के साथ खड़ी है. बिहार सरकार द्वारा की गई घोषणा पूरी तरह अपर्याप्त है.

माले विधायक महबूब आलम ने कहा है कि इस मामले में हम किसी भी प्रकार की नरमी नहीं बरतेंगे. यह केंद्र-राज्य की असफलता ही है कि आज भी सीमांचल व पूरे बिहार के मजदूर रोजी-रोटी की तलाश में दर-ब-दर की ठोकरे खा रहे हैं. केंद्र व राज्य द्वारा पलायन रोकने के बड़े-बड़े दावे के बावजूद मजदूरों का पलायन पहले से कहीं और अधिक बढ़ गया है और वे पूरी तरह एक असुरिक्षत जीवन व्यतीत करते हैं.

उन्होंने कहा कि सीमांचल का इलाका लंबे अर्से से बिहार सरकार की घोर राजनीतिक उपेक्षा का दंश झेल रहा है, जहां भीषण गरीबी है. बिहार में उद्योग धंधों की भारी कमी होने के कारण ही लोग जीविकोपार्जन के लिए बाहर के प्रदेशों की ओर पलायन कर रहे हैं. यह काफी चिंताजनक है. यदि कटिहार शहर के जुट फैक्टरी, कांटी फैक्टरी, साबुन फैक्टरी, माचिस फैक्टरी आदि को चालू किया जाता तो इस पलायन को और इस प्रकार के हादसे को रोका जा सकता था.

Related posts

लाल किला को नीलाम करने की इजाजत नहीं दी जा सकती : दीपंकर भट्टाचार्य

समकालीन जनमत

मोदी शासन देश के लिए एक हादसा साबित हुआ है : दीपंकर

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को रिहा करने की मांग को लेकर वाराणसी में प्रदर्शन

समकालीन जनमत

भीम आर्मी जिलाध्यक्ष के भाई की हत्या के विरोध में माले का लखनऊ, इलाहाबाद, गाजीपुर, मऊ और जालौन में प्रदर्शन

समकालीन जनमत

कुंभ मेला क्षेत्र में ठंड से एक और सफाई कर्मचारी की मौत

विष्णु प्रभाकर