कला इतिहास का एक नायाब चित्र

( तस्वीरनामा की चौथी कड़ी में प्रसिद्ध चित्रकार अशोक भौमिक महान चित्रकार सादेकैन के एक ऐसे नायब चित्र के बारे में बता रहे हैं जो बेहद परिचित वस्तुओं के माध्यम से एक नितांत अपरिचित दृश्य रचती है ) हमारे देश के कला इतिहास में ऐसे तमाम चित्र हैं, जिसमे हमें देव- देविओं की कथाओं के चित्र मिलते हैं और जिन्हें हम परिचित सन्दर्भों के चलते तुरन्त पहचान भी लेते हैं , पर ऐसे चित्र बहुत कम हैं जहाँ आम-जन, उनके दैनंदिन जीवन के कार्यकलाप और उनकी संस्कृति दिखती है. उत्तर…

Read More