महिलाओं, दलितों, अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमलों के खिलाफ महिला संगठनों ने धरना दिया

लखनऊ. “ डरें……. कि आप उ.प्र. में हैं ” के बैनर के साथ 23 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश की चरमराती कानून व्यवस्था एवं उसके चलते महिलाओं, बच्चियों, दलितों, अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमलों के खिलाफ एडवा, भारतीय महिला फेडरेशन, एपवा व हमसफर संस्था के संयुक्त तत्वावधान में गाँधी मूर्ति जी.पी.ओ. पर महिलाओं ने धरना दिया. धरने के समर्थन में शहर के कई सामाजिक संगठन, जनसंगठन एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भागीदारी की. यह धरना उ.प्र. में पिछले कुछ समय से प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में हो रही हिंसा की वीभत्स घटनाओं…

Read More

बालिका गृह काण्ड की सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर भाकपा माले का देवरिया में प्रदर्शन

देवरिया. देवरिया बालिका संरक्षण गृह काण्ड की हाई कोर्ट की निगरानी में सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर भाकपा माले के सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने आज रेलवे स्टेशन से कलेक्ट्रेट तक जूलूस निकाल कर प्रदर्शन किया. कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट में सभा कर अपर जिलाधिकारी वित्त को सात सूत्रीय ज्ञापन दिया. बुधवार को ऐपवा की राष्ट्रीय महासचिव मीना तिवारी, भाकपा माले के प्रदेश सचिव सुधाकर यादव, प्रेमलता पाण्डेय, रामकिशोर वर्मा, गीता पाण्डेय के नेतृत्व में सैकड़ो की संख्या में कार्यर्ताओं ने झंडा, बैनर व नारे लिखे तख्ती के साथ प्रदर्शन किया।…

Read More

वेतन कटौती के खिलाफ काली पट्टी बाँध कर डीटीसी के हज़ारों कर्मचारियों ने मनाया विरोध दिवस

डीटीसी में काम करनेवाले हज़ारों कर्मचारियों ने वेतन कम करने के डीटीसी प्रबंधन के फैसले का काली पट्टी बांधकर ड्यूटी करते हुए विरोध जताया. डीटीसी के सभी बस डिपो के कर्मचारियों ने 5 सितम्बर को डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर (सम्बद्ध ऐक्टू) के आह्वान पर ‘विरोध दिवस’ कार्यक्रम में जोरदार भागीदारी की. डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर (सम्बद्ध ऐक्टू) के महासचिव कामरेड राजेश ने कार्यक्रम के विषय में बताते हुए कहा कि, “ दिल्ली सरकार और डीटीसी प्रबंधन को दिल्ली की जनता का ख्याल रखते हुए, जन परिवहन को मज़बूत बनाना चाहिए. पर सरकार और प्रबंधन लगातार कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों के पेट पर लात मारकर डीटीसी के संचालन को बाधित करना चाहते हैं. एक झटके में डीटीसी के कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों के वेतन में 5000 से लेकर 10,000 रूपए तक की कटौती कर दी गई है. डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर इसके खिलाफ हर तरह की लड़ाई में जाने के लिए तैयार है.”

Read More

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ वर्धा में प्रतिरोध सभा

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा, महाराष्ट्र के प्रगतिशील छात्र संगठनों और स्थानीय न्याय पसंद लोगों ने देश के मौजूदा हालात के खिलाफ प्रतिरोध सभा का आयोजन किया। सभा में विश्वविद्यालय के समस्त सामाजिक न्याय पसंद छात्र-छात्राओं ने एक मंच पर आकर प्रतिरोध दर्ज किया। देश में चौतरफा जारी फासीवादी हमलों के खिलाफ एकजुटता का इजहार किया। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि देश को ऐसे मार्ग पर धकेला जा रहा है जिसमें अल्पसंख्यक, आदिवासी, दलित-महिलाओं के साथ-साथ अन्याय-उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाने वाला हर व्यक्ति असुरक्षित हो गया…

Read More

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ पूरे देश में विरोध प्रदर्शन

नई दिल्ली. लेखकों, बुद्धिजीवियों व मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के घर छापेमारी और कवि वरवर राव, वकील सुधा भारद्वाज, मानवाधिकार कार्यकर्ता अरुण फ़रेरा, गौतम नवलखा और वरनॉन गोंज़ाल्विस की गिरफ्तारी के खिलाफ पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. बुधवार को छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखण्ड आदि राज्यों में विरोध प्रदर्शन हुए. इन विरोध प्रदर्शनों में बड़ी संख्या में नागरिक, लेखक, सामाजिक कार्यकर्ता, मानवाधिकार कार्यकर्ता शामिल हुए. मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के विरोध में इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ भवन पर वामपंथी संगठनों द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंका…

Read More

स्वामी अग्निवेश पर हमले के विरोध में लखनऊ, रांची, गोरखपुर में विरोध प्रदर्शन

जन आंदोलनों के सम्मानित नेता स्वामी अग्निवेश पर झारखण्ड में हुए प्राणघातक हमले का जगह-जगह प्रतिरोध हो रहा है. विभिन्न संगठनों ने लखनऊ, रांची और गोरखपुर में विरोध प्रदर्शन आयोजित किया.

Read More

महिलाओं पर बढ़ती हिंसा के खिलाफ़ पटना में महिला संगठनों का जोरदार प्रदर्शन

महिलाओं पर बढ़ती हिंसा और सरकारी संरक्षण में रहने वाली लड़कियों के साथ बिहार के अनेक हिस्सों में बलात्कार की घटनाओं पर मुख्यमंत्री की चुप्पी के विरोध में 20 जुलाई को कई महिला संगठनों ने मिलकर काला दिवस मनाया और मुख्यमंत्री के समक्ष प्रदर्शन किया.

Read More

एसएससी परीक्षा स्कैम में सरकार किसको बचाना चाहती है ?

नई दिल्ली. हजारों छात्रों के छह दिन से धरना -प्रदर्शन के बावजूद एसएससी (स्टाफ सलेक्शन कमीशन) परीक्षा के पेपर लीक होने और भ्रष्टाचार के मामले की जांच कराने से बचने के केंद्र सरकार की कोशिश से यह सवाल उठने लगा है कि आखिर सरकार इस मामले में किसको बचाना चाहती है ? छात्रों के आन्दोलन का आज छठा दिन था लेकिन सरकार की तरफ से  जाँच कराने का आश्वासन  नहीं दिया गया. छात्रों के बीच पहुंचे दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी और सांसद मीनाक्षी लेखी मौखिक रूप से यह तो…

Read More