मो. आरिफ की कहानी ‘ लू ’ : दलितों की अपमानजनक स्थितियों और उनकी जिजीविषा को दर्शाने वाली कहानी

मो. आरिफ ने अपने लेखन के शुरूआती दौर में अंग्रेज़ी में एक उपन्यास लिखा था. बाद में उन्होंने हिन्दी में कहानियाँ लिखना शुरू किया. उनकी कहानियों ने हिन्दी जगत में उन्हें ख़ासी पहचान दिलाई. उनकी कहानी ‘ लू ’ ने सबसे पहले हिन्दी के पाठकों का ध्यान आकृष्ट किया. यह कहानी अपनी कथादृष्टि की परिपक्वता और अंतर्वस्तु की स्पष्टता के लिए जानी जाती है. ‘ लू ’ सवर्ण मानसिकता की क्रूर और जड़ अहम्मन्यता की पोल खोलती है. यह कहानी इंस्पेक्टर चौहान और जोगी पासवान की है. कहानी इन दोनों चरित्रों के…

Read More

हेमन्त कुमार की कहानी ‘ रज्जब अली ’ में सामंती वैभव देखना प्रतिक्रियावाद को मजबूत करना है

कहानी में मूल समस्या साम्प्रदायिकता है. यह कहानी हमारे समय के लिहाज से एक बेहद जरूरी कहानी है. इसलिए जरूरी यह है कि इस कहानी के मूल मन्तव्य पर बात हो. कहानी के मूल मन्तव्य पर बात न करके हम उन्ही प्रतिक्रियावादी साम्प्रदायिक ताकतों के हाथ मजबूत करते दिखेंगे.

Read More