कार्पोरेट के लिए गांवों तक लाल कारपेट बिछाने की नीति से हो रही है खेती-किसानी की तबाही

खेती-किसानी की नीतियों का वर्तमान स्वरूप किसान हितों के प्रतिकूल है। यह नीति खेती-किसानी की कब्र निर्माण के दूषित नीति के साथ पूरा होने को अभिशप्त जान पड़ता है। इसकी बुनियाद रातों-रात नहीं रखी गई है और न यह राष्ट्रीय नीतियों तक सीमित है। इसके पीछे कार्पोरेट से लेकर बहुराष्ट्रीय कम्पनियों की नीति और सत्ता का वर्ग चरित्र कार्य कर रहा है ।

Read More