कल और आएंगे नग़मों की खिलती कलियां चुनने वाले

(आज मशहूर शायर और गीतकार साहिर लुधियानवी की पुण्य तिथि है । इस मौके पर साहिर साहब को याद कर रहे हैं रंगकर्मी महदी हुसैन) महदी हुसैन साहिर का मतलब होता है जादू करने वाला, यकीनन साहिर एक जादूगर ही था, उसका जादू ज़माने के सर चढ़कर बोला, उसके हर गीत आज भी ज़िन्दा दिलों को अपनी ओर खींचने की ताकत रखते हैं – ये रात ये चांदनी फिर कहाँ, मन रे तू काहे न धीर धरे, अभी न जाओ छोड़के, वो सुबह कभी तो आएगी, मैं ज़िन्दगी का साथ निभाता…

Read More

गंगा-जमुनी तहजीब और आज़ादी के पक्ष में है संजय कुमार कुंदन की शायरी : प्रो. इम्तयाज़ अहमद

  शायर संजय कुमार कुंदन के संग्रह ‘भले, तुम नाराज हो जाओ’ पर बातचीत   पटना. ‘‘हटा के रोटियां बातें परोस देता है/ इस सफ़ाई से के कुछ भी पता नहीं चलता है। उसने कुएं में भंग डाली है तशद्दुद की/ नशे को कौमपरस्ती का नाम धरता है।’’ ‘‘तुम ही गवाह, क़ातिल तुम ही, तुम ही मुंसिफ़/ तुम ही कहो ये कहां की भला शराफ़त है। ’’ ‘‘तू ज़ुर्म करे और हो क़ानून पे काबिज/ बच-बच के चलें और ख़तावार बनें हम।”   11 फरवरी को बीआईए सभागार में शायर…

Read More