एक और मार्क्स: वर्तमान को समझने के लिए मार्क्स द्वारा उपलब्ध कराए गए उपकरणों की जरूरत

  2018 में ब्लूम्सबरी एकेडमिक से मार्चेलो मुस्तो की इतालवी किताब का अंग्रेजी अनुवाद ‘एनादर मार्क्स: अर्ली मैनुस्क्रिप्ट्स टु द इंटरनेशनल’ प्रकाशित हुआ । अनुवाद पैट्रिक कैमिलर ने किया है । मुस्तो कहते हैं कि नए विचारों की प्रेरक क्षमता को यदि युवा होने का सबूत माना जाए तो मार्क्स बेहद युवा साबित होंगे । उनका कहना है कि पूंजीवाद के जीवन में सबसे हालिया 2008 के संकट के बाद से ही कार्ल मार्क्स के बारे में बातचीत शुरू हो गई है । बर्लिन की दीवार गिरने के बाद मार्क्स…

Read More

अशोक भौमिक जसम की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष और राम नरेश राम सचिव चुने गए

अनुपम सिंह नई दिल्ली. जन संस्कृति मंच का तीसरा राज्य सम्मलेन 7 अप्रैल को गाँधी शांति प्रतिष्ठान में हुआ. सम्मेलन का आरंभ ‘संगवारी थियेटर ग्रुप’ द्वारा “ये क्या हो रहा है, जो न होना था हमारे दौर में’’ गीत से हुआ. सांगठनिक सत्र की शुरुआत करते हुए अशोक भौमिक ने ‘जसम’ का परिचय दिया और कहा कि -‘भारत में सांस्कृतिक संगठन कोई एकदम नई बात नहीं है, इसके पहले प्रगतिशील लेखक संघ ,जनवादी लेखक संघ ,इप्टा आदि थे. जनसंस्कृति मंच का निर्माण उन परिस्थितियों में हुआ जब सांस्कृतिक मंचों के…

Read More