आज का भारत और गांधी का भारत

  आज के भारत की कल्पना चार वर्ष पहले तक शायद ही किसी ने की थी। अहिंसा से हिंसा की ओर, सत्य से असत्य की ओर और ‘सत्याग्रह’ से मिथ्याग्रह की ओर देश बढ़ रहा है और हम सब गांधी की 150 वीं वर्षगांठ धूमधाम से मना रहे हैं। सरकारी योजनाओं की कमी नहीं है। प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी के लेख समाचार पत्रों में प्रकाशित हो रहे हैं। वे बापू की 150 वीं जयन्ती के आयोजनों का शुभारम्भ कर रहे हैं। उन्होंने बापू के समानता और समावेशी विकास के सिद्धान्त की…

Read More