तीन तलाक़ अध्यादेश

क्या कोई समाचार चैनल है जिसने तत्काल/त्वरित तीन तलाक़ के खिलाफ अध्यादेश पर चर्चा करने से पहले खुद को और दर्शकों को विवाह व तलाक़ के सिविल/दीवानी तथा आपराधिक/फौजदारी मामलों के बीच अन्तर के बारे में शिक्षित करने का समय भी लिया है ? ज्यादातर मीडिया चैनल इस भ्रामक तथ्य को फैला रहे हैं कि जो मुस्लिम शौहर गैर कानूनी ढंग से तलाक़ दे पत्नियों को बेसहारा कर देते हैं उसको अपराध की श्रेणी में लाकर एक ‘विशेषाधिकार’ को समाप्त कर देता है, जिसका फायदा मुसलमान पुरुषों को अकेले ही…

Read More