ये तारा , वो तारा , हर तारा : लाइट्स बन्द , कैमरा ऑन , एक्शन

डॉ. स्कन्द शुक्ला जब दुनिया में विश्वयुद्ध चल रहा हो और हर जगह बत्ती गुल करने का आदेश हो , तब कोई दूर-सुदूर की ज्योतियों में जीवन टटोल सकता है ? जब आसमान में घुप्प अँधेरा कर दिया गया हो , तब कोई दूरबीनों में नज़रें गड़ाकर तारों की हथेलियाँ देखकर उनकी उम्रें बता सकता है ? और इस तरह तारों को पढ़कर भला क्या ऐसा हासिल हो जाएगा कि उसपर इतनी मग्ज़मारी की जाए ! वॉल्तर बादे और उन जैसे वैज्ञानिक ख़ब्ती नहीं हैं , संसार की चुनिन्दा समझदार…

Read More

स्टीफेन हॉकिंग – विज्ञान का चमकता सितारा जो कभी नहीं बुझेगा -लाल्टू

“हमारी औकात एक औसत नक्षत्र के छोटे-से ग्रह पर तरक्की कर चुके बानरों की प्रजाति मात्र की है। पर हम कायनात को समझ सकतेहैं। यही हमें खास दर्ज़ा देता है। “ स्टीफेन हॉकिंग कौन थे? आम लोगों के मन में वे एक बड़े वैज्ञानिक थे, जिन्होंने हाल के वर्षों में कहा था कि अब हम पक्के तौर पर कह सकते हैं कि ईश्वर का कोई अस्तित्व नहीं है, यानी खुदा ने यह कायनात न तो बनाई है और न ही इसको वह चलाता है। जाहिर है इस तरह के बयान…

Read More