अभिव्यक्ति के प्रति ईमानदार एक रचनाकार की त्रासदी ‘मंटो’

अमरेंद्र नाथ त्रिपाठी ‘मंटो’ बायोपिक फिल्म की बहुत समय से प्रतीक्षा कर रहा था। समय-समय पर आने वाले ट्रेलर या वीडियो के टुकड़े इंतिजार को अ-धीरज में बदल रहे थे। आज वह दिन हाथ लग ही गया। कुछ रचनाकार होते हैं जिनके लेखन के साथ-साथ उनके जीवन का भी आकर्षण किसी को खींच सकता है। यह व्यक्तिगत रुचि का मसला हो सकता है। मेरे लिए तुलसी, कबीर, ग़ालिब, निराला, मंटो जैसे रचनाकार लेखन के साथ-साथ अपने जीवन का भी आकर्षण रखते हैं। उनके लेखन से गुजरने की तरह उनके जीवन…

Read More

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को क्या स्वतंत्र चेतना से डर लगने लगा है

यह मसला सिर्फ एक व्यक्ति के अपमान का नहीं है। सबसे बड़ा सवाल यह है कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को क्या स्वतंत्र चेतना से इतना डर लगने लगा है कि वह विचार विमर्श के मंच पर भिन्न मत का सामना करने से बचना चाहता है? क्या वह अनैतिक और असभ्य तरीकों से स्वतंत्र अभिव्यक्ति को नियंत्रित करने वाले देशों की सूची में अपना नाम लिखवाने की राह पर चल पड़ा है ? यह एक ऐसा सवाल है जिससे प्रत्येक लोकतांत्रिक भारतीय को चिंतित होना चाहिए, उसकी राजनीतिक विचारधारा जो भी हो।

Read More

फ़ैज़ की शायरी में शोकाकुल राष्ट्रवाद के स्वर : प्रणय कृष्ण

  जन संस्कृति मंच का आगरा और दरभंगा में फ़ैज़ अहमद फैज़ की जयंती पर ‘जश्न-ए-फ़ैज़ ’ का आयोजन    इंकलाबी शायर फ़ैज़ अहमद फैज़ की 107वीं जयंती के अवसर पर 14 फरवरी को आगरा के सूर सदन प्रेक्षागृह में जन संस्कृति मंच और रंग लीला की ओर से ‘जश्न-ए-फ़ैज़ ’ का आयोजन किया गया. पहले सत्र में ‘ फ़ैज़ : मोहब्बत और जम्हूरियत ’ विषय पर संगोष्ठी हुई. इसमें इलाहाबाद विश्वविद्यालय के उर्दू के प्रोफ़ेसर अली अहमद फ़ातमी ने कहा कि फ़ैज़ बचपन से ही बराबरी के पैरोकार थे.…

Read More

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की जयंती पर प्रेम और क्रान्ति के गीत गाए

  फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की जयंती पर जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में  ‘चन्द रोज़ और मेरी जान : सेलिब्रेटिंग लव ‘ का आयोजन विश्वविद्यालयों को पितृसत्तात्मक विचारों का अड्डा नहीं बनने देने का संकल्प नई दिल्ली. फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की जयंती पर प्यार का जश्न मनाते हुए आइसा ने जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में  ‘चन्द रोज़ और मेरी जान : सेलिब्रेटिंग लव ‘ नाम से सांस्कृतिक शाम का आयोजन किया. इस कार्यक्रम में परिसर के भीतर और बाहर के करीब 300 लोगों ने भाग लिया । 20 से अधिक लोगों ने…

Read More