तुलसीदास और उनकी रचनाएँ भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग हैं : प्रो. इरफ़ान हबीब

  प्रो.कमलानंद झा की पुस्तक ‘ तुलसीदास का काव्य-विवेक और मर्यादाबोध ’ का लोकार्पण और परिचर्चा   अलीगढ (उत्तर प्रदेश).  प्रख्यात इतिहासकार प्रो. इरफ़ान हबीब ने कहा है कि  तुलसीदास और उनकी रचनाएँ भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग हैं. प्रो. इरफ़ान हबीब ने यह बातें 15 फरवरी को प्रो.कमलानंद झा की हाल में प्रकाशित पुस्तक ‘ तुलसीदास का काव्य-विवेक और मर्यादाबोध ’ के लोकार्पण और परिचर्चा कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कही. यह कार्यक्रम अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के आर्ट्स फैकल्टी लाउंज में आयोजित किया गया था . उन्होंने अपने संबोधन…

Read More