कवि व पत्रकार सुभाष राय को अपमानित किये जाने के खिलाफ लेखक व पत्रकार 12 को विरोध प्रदर्शन करेंगे

लखनऊ, 11 जून। हमारा यह समाज कैसा बन रहा है जहां आम आदमी शान्ति से रहना चाहे तो भी उसे रहने नहीे दिया जायेगा। गुण्डों, लम्पटों, बाहुबलियों, दबंगों, धनपशुओं, समाज में रसूख रखने वालों की सत्ता व खाकी वर्दीधारियों के साथ ऐसी साठगांठ है कि इनकी राह में जो कोई आये, उसे वे ठोकर मार कर गिरा देने में ही अपनी शान समझते हैं। ऐसी ही एक घटना कवि, पत्रकार और ‘जनसंदेश टाइम्स’ के प्रधान संपादक सुभाष राय के साथ घटी। उन्हें और उनकी पत्नी शशि राय के साथ अभद्रता…

Read More

मेरी स्वतंत्रता किसके पास है

राजकिशोर एक प्रखर आधुनिक चिंतक थे. मनुष्य मात्र की स्वतंत्रता का अधिकार उनका सबसे प्यारा सरोकार था. स्वतंत्रता की उनकी अवधारणा व्यापक और मूलगामी थी. प्रस्तुत निबंध उनके इस सरोकार को सबसे खूबसूरत तरीके से उजागर करता है.

Read More