वह चला गया, जिसने कहा था कि जाना सबसे खौफनाक क्रिया है

आशीष मिश्रा, युवा आलोचक   हिन्दी के सुप्रसिद्ध कवि केदारनाथ सिंह हमारे बीच नहीं रहे . कवि केदारनाथ सिंह के जाने के साथ ही न सिर्फ़ ‘तीसरा सप्तक’ के कवियों में से अब कोई हमारे बीच नहीं रहा बल्कि उनके साथ हिन्दी कविता के एक युग का अवसान हो गया . केदारनाथ सिंह ने नई कविता आन्दोलन के साथ अपनी पहचान बनाई. अज्ञेय द्वारा संपादित और 1959 में प्रकाशित, हिन्दी के महत्त्वपूर्ण काव्य संकलन ‘तीसरा सप्तक’ के सात कवियों में केदारनाथ सिंह भी एक थे. इस संकलन के कई गीत…

Read More