‘ हमारे वतन की नयी ज़िन्दगी हो ‘

कोरस ने पटना में ‘एक शाम गोरख के नाम’ अयोजीय किया पटना , 28 जनवरी. कोरस द्वारा जनकवि गोरख पांडेय की स्मृति दिवस के पूर्व संध्या पर 28 जनवरी को ‘एक शाम गोरख के नाम’ कार्यक्रम का आयोजन ,गांधी मैदान में किया गया. यह कार्यक्रम वरिष्ठ कवि चंद्रकांत देवताले,कुंवर नारायण, गायिका गिरिजा देवी,साहित्यकार सुरेंद्र स्निग्ध ,दूध नाथ सिंह और प्रो. विनय कंठ को समर्पित था.कार्यक्रम में मुख्य अतिथि वरिष्ठ कवि आलोक धन्वा थे. कार्यक्रम की शुरुआत गोरख पांडेय द्वारा लिखित ‘हमारे वतन की नयी ज़िन्दगी हो’ गीत से हुई.उसके बाद…

Read More

कविता शब्दों की इंजीनियरिंग है: प्रो. तरुण कुमार

गोरख पांडेय स्मृति आयोजन के दूसरे दिन प्रो. संतोष कुमार के कविता संग्रह ‘ढिबरी’ का लोकार्पण और बातचीत पटना, 29 जनवरी. हिरावल द्वारा आयोजित दो दिवसीय गोरख पांडेय स्मृति आयोजन के दूूसरे दिन 29 जनवरी को प्रो. संतोष कुमार के कविता संग्रह ‘ढिबरी’ का लोकार्पण और बातचीत हुआ। कार्यक्रम की शुरुआत संतोष झा, राजन, प्रीति प्रभा और प्रमोद यादव ने गोरख के दो गीतों ‘माया महाठगिनी हम जानीं’ और ‘बीतता अंधरिया के जमनवा’ गाकर की। उसके बाद गोरख पांडेय की तस्वीर पर पुष्पांजलि अर्पित की गई। संचालन हिरावल के सचिव…

Read More

गोरख के गीतों के साथ देश-दुनिया और समाज को बेहतर बनाया जा सकता है: अरुण कमल

क्रांतिकारी जनकवि गोरख पांडेय की स्मृति में हिरावल ने किया आयोजन गोरख के हिंदी-भोजपुरी के जनगीतों और गजलों का गायन हुआ पटना: 28 जनवरी. ‘ गोरख के गीतों के साथ हम देश-दुनिया और समाज को बेहतर बना सकते हैं। वे कबीर और नागार्जुन की परंपरा के एक बड़े कवि हैं। उन्होंने लोकगीतों का संस्कार लेकर भोजपुरी और ख्रड़ी बोली में गीत लिखे। उनकी कविताएं मजदूर-किसानों, उत्पीड़ित-वंचित और शोषित-अपमानित जनता के हक में लिखी गई हैं। वे आंदोलनों के पोस्टरों पर नजर आती हैं, वे नारों का रूप ले चुकी हैं।…

Read More