ब्राह्मणवाद और पितृसत्ता के तार आपस में काफ़ी जुड़े हैं

( अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर बनारस में ऐपवा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में संपृक्ता चटर्जी ने कैफ़ी आज़मी की नज़्म ‘उठ मेरी जान!…’ का पाठ किया । यहाँ प्रस्तुत है कैफ़ी की इस  बेहद मकबूल नज़्म का एक हिस्सा, संपृक्ता की टिप्पणी के साथ) मजाज़ लिखतें हैं, ‘तेरे माथे पर ये आँचल तो बहुत खूब है लेकिन ; तू इस आँचल का इक परचम बना लेती तो अच्छा था।’ आज हम सब यहां परचम ही लहराने आए हैं। ये परचम है जश्न का। 8 मार्च सिर्फ कैलेंडर की एक तारीख नहीं…

Read More