नाटक साहित्य-संस्कृति

मुम्बई की टीम द्वारा नाटक ‘अस एंड देम’ (Us and Them) का भव्य प्रदर्शन 

●कोरस द्वारा नुक्कड़ नाटक ‘गिरगिट’ व जनगीतों की हुई प्रस्तुति
●तीन दिवसीय नाट्योत्सव का हुआ शानदार समापन

पटना 20.10.2019
स्थानीय कालिदास रंगालय में कोरस द्वारा आयोजित तीन दिवसीय नाट्योत्सव के आखिरी दिन  ‘आरम्भ, मुम्बई’ की टीम ने ‘अस एंड देम’ (Us & Them) भव्य प्रदर्शन किया.
डेढ़ घंटे की अवधि का यह नाटक , निवेदिता मेनन के एक लेक्चर पर आधारित है. यह एक जादूगर और उसके शागिर्द की कहानी है . उसके पास ढेर सारे सवाल हैं और जादूगर के पास सारे जवाब . मगर एक सवाल से अनेक सवाल पैदा हो जाते हैं और सब एकाएक ढहने लगता है. अस्मिता और संबद्धता के प्रश्नों से जूझते हुए ‘वे’ ‘हम’ हो जाते हैं और ‘हम’ ‘वे’ . ‘Us and Them’ इसी द्वैत के सम्मोहन की पड़ताल करता है, जहां तीसरे की संभावना एक अपराध है.
हमारे समय के ढेर सारे ज़रूरी सवाल खड़े करता यह नाटक अपना सांस्कृतिक दायित्व पूरा करता हुआ नजर आया. दर्शकों ने बेहद संजीदगी से इसे ग्रहण किया और सराहा.


जादूगर की भूमिका में कल्याण चौधरी व जमूर की भूमिका में कौस्तव सिंह के अभिनय को खूब सराहा गया. मीरा बनी श्रुती बिजनोरिया और काश ज़िनिया रणजी की भी भूमिकायें उल्लेखनीय रहीं.
मंच संयोजन था यश खान का और प्रकाश संयोजन अस्मित पाठारे और सचिन लेल का. मंच व्यवस्था पुनीत रेड्डी, अमर, राखी, शुभांशित ने की थी. ध्वनि व संगीत इकोलॉग स्टूडियोज़ का था. नाटक की मूल संकल्पना पूर्वा नरेश की थी और लेखन-निर्देशन था अस्मित पाठारे का.
प्रदर्शन के बाद आरम्भ, मुंबई की टीम को गालिब खान ने कोरस की ओर से स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया.

इसके पहले कोरस की टीम ने अंतोन चेखव की कहानी पर आधारित नुक्कड़ नाटक ‘गिरगिट’ की प्रस्तुति की.
यह एक ऐसे पुलिस वाले के बारे में था जो लोगों की सुरक्षा की बजाय हर वो काम करता है जो उसे नहीं करना चाहिए और इसी प्रक्रिया में वो कैसे गिरगिट की तरह रंग बदलता जाता है. मौजूदा व्यवस्था पर नाट्य व्यंग्य के रूप में इसे दर्शकों ने खूब पसंद किया.


पुलिस वाला के रूप में कृष कुमार , सिपाही की भूमिका में अनोखी व नन्दिनी , फल वाले कि भूमिका में कृष्णा कुमार की अदाकारी पसंद की गई. हर्ष कुमार , रोहित,
चांदनी , शिवम व अनिकेत ने भी अच्छा अभिनय किया.
नाटक का निर्देशन किया था रिया अंतरा ने.
नुक्कड़ नाटक के अलावा कोरस की टीम ने जनगीतों की भी प्रस्तुति की. नुक्कड नाटक व जनगीत प्रस्तुति में आशीष, निशांत, एंजेल, सोनम, मीनाक्षी, सुहानी व अन्नू की भी अहम भूमिकाएं रहीं.
तीसरे दिन हुए इन आयोजनों के साथ कोरस द्वारा आयोजित यह तीसरा सालाना नाट्योत्सव समापत हो गया. इस मौके पर सांयोजक समता राय व मात्सी शरण ने कोरस टीम का परिचय कराते हुए सभी दर्शकों व दिल्ली- मुंबई की अतिथि टीमों को धन्यवाद ज्ञापित किया.

आज के दर्शकों में खास तौर पर मौजूद रहे आलोकधन्वा, डॉ. सत्यजीत , संतोष दीक्षित, अवधेश प्रीत , डॉ. विभा सिंह, प्रीति सिन्हा, रुचि दीक्षित, मीरा मिश्रा, आसमा खान, अफशां जबीं, विभा गुप्ता, रूपम झा, पुंजप्रकाश मुनचुन, रणधीर, मनीष महिवाल, चंद्रकांता खान, सुमंत शरण , बी बी पांडेय, प्रकाश कुमार, अलका वर्मा, नीना शरण, मधुबाल, अभिनव, शशांक मुकुट , नगमा तनवीर, अदिति पांडेय, मासूम जावेद, आकाश श्रीवास्तव, मो. आसिफ, उज्जवल कुमार , स्वाति , अन्नू कुमारी, नीतीश कुमार और अविनाश मिश्रा.

कोरस की ओर से
मात्सी शरण

About the author

समकालीन जनमत

Leave a Comment