भारतीय चित्रकला में ‘कथा’ : 3

वह ‘कथा’ जिसे हम किसी चित्र में चित्रित पाते है , वास्तव में उस कथा से हमारा परिचय चित्र के माध्यम से नहीं बल्कि साहित्य (लिखित या वाचिक) के माध्यम से होता है , चित्र में हम केवल उस व्याख्या के अनुरूप उपस्थितियों को पहचान ही पाते हैं। किसी महापुरुष या देवता की कथा का चित्र में ‘चित्रण’ को हम इसलिए महान मान लेते हैं, क्योंकि हम उस चित्र में उस महापुरुष को उसके रंग , वेशभूषा , अलंकार , मुकुट और उनकी क्रियाओं / ‘लीलाओं’ से पहचान लेते हैं । महज चित्र में किसी परिचित कथा या नायक को किसी स्थापित कथा के अनुरूप पहचान लेना लेना, कभी भी चित्र देखने का तरीका नहीं हो सकता।

Read More

भारतीय चित्रकला और ‘कथा ‘ : 2

हमने देखा की जिस समाज में दृश्य को ‘पढ़ना’ सिखाया जाता हो वहाँ कथाओं का ‘चित्रण’ ही हो सकता है, कला का सृजन नहीं। चित्रकार विन्सेंट वॉन गॉग (1853 -1890) आसमान पर अलग से दमकते सात तारों को महज तारों के रूप में देख कर उनकी सुंदरता से मुग्ध होने वाले कलाकार थे। उनका बनाया हुआ विश्वप्रसिद्ध चित्र ‘रोन नदी के ऊपर तारों भरी रात’ (Starry night over the river Rhone :1888) को देख कर हम सहज ही समझ सकते हैं कि एक चित्रकार के लिए प्रकृति को ‘पढ़ना’ और उसे ‘देखने’ में क्या अंतर होता है।

Read More

भारतीय चित्रकला में ‘ कथा ’

’ ( एक लम्बे समय से भारतीय चित्रकला में जो कुछ हुआ वह ‘कथाओं’ के ‘चित्रण’ या इलस्ट्रेशन के अतिरिक्त कुछ भी नहीं था इसलिए यहाँ ‘सृजन’ से ज्यादा कौशल को महत्व दिया जाता रहा .  इसमें कोई  संदेह नहीं कि एक ओर जहाँ कला में ‘कौशल’ या ‘नैपुण्य’  का महत्व सामंतवादी व्यवस्था में बढ़ता है वहीं दूसरी ओर कला में ‘कथा’ के महत्व को सर्वोपरि बनाये रखना , धर्मसत्ता की एक बुनियादी जरूरत होती है. अब तक के ‘तस्वीरनामा’ में हर सप्ताह हम आप किसी चित्र-विशेष  के बारे में…

Read More

मोनालिसा : तस्वीर के कई और रंग भी हैं

( मोनालिसा को लेकर  शताब्दी से भी ज्यादा समय से कई किस्म के  विवाद चलते रहे हैं।  कई इसे एक साधारण सा चित्र मानते हैं, जिसे मीडिया द्वारा इस कारण से उछाला गया ताकि फ्रांस के लूव्र कला संग्रहालय का नाम हो सके जहाँ यह चित्र प्रदर्शित है। इसके विपरीत कुछ इसे चित्रकला की सबसे नायाब कृति मानते हैं. इस चित्र पर असंख्य कथाओं के साथ-साथ, इस चित्र के तरह-तरह के विश्लेषणों को वर्षों से हम सुनते-पढ़ते आ रहें है. इस बार के तस्वीरनामा में अशोक भौमिक ‘मोनालिसा’ चित्र को…

Read More

शतवर्ष स्मरण : देबब्रत मुखोपाध्याय (1918-1991)

समकालीन जनमत के ‘ तस्वीरनामा ’ में इस बार चित्रकार देबब्रत मुखोपाद्ध्याय पर एक विशेष लेख और उनके चित्रों का एलबम प्रकाशित कर रहें हैं. यह वर्ष देबब्रत मुखोपाद्ध्याय का जन्म शताब्दी वर्ष है और इस लेख के माध्यम से हम समकालीन जनमत की ओर से ‘देबू दा ‘ को क्रांतिकारी सलाम पेश करते हैं. आज देबब्रत मुखोपाध्याय के जन्मशती वर्ष पर उन्हें याद करना, हमारे देश के उन क्रांतिकारी चित्रकला को याद करना है , जिसे सरकारी कला अकादमियाँ और गैरसरकारी गैलरियाँ जनता तक कभी नहीं पहुँचने देना चाहेंगी

Read More

आम जनों का चित्रकार लोवे कयाली

आम परिचय विहीन लोगों को अपने चित्रों में जिन आधुनिक चित्रकारों ने बखूबी से चित्रित किया है , उनमें सीरियाई चित्रकार लोवे कयाली ( Louay kayali ) का नाम बेहद महत्वपूर्ण है. 1965 में फिलिस्तीन अरब शरणार्थियों की व्यथा-कथा को कयाली ने लकड़ी पर तैलरंग से बने चित्र ” अब कहाँ ? में गहरी संवेदना के साथ चित्रित किया था.

Read More

एक साधारण सा चित्र

यूरोप में सदियों तक धार्मिक चित्रों और राजा-रानी-सामंतों के चित्र बनाने की परंपरा चली आ रही थी, उसे चुनौती देते हुए ज्याँ फ्रांसोआ मिले जैसे जनपक्षधर चित्रकारों ने ऐसे आम लोगों के चित्र बनाये. और ऐसा करते हुए उन्होंने कलागुणों की कतई उपेक्षा नहीं की.

Read More

विन्सेंट वॉन गॉग के ‘आलू खाते लोग ’

चित्र में एक लालटेन की रौशनी में हम पांच लोगों को खाने की मेज़ पर बैठे देख पाते हैं. वॉन गॉग ने इस चित्र में इन आलू खाते हुए लोगों का चित्रण करते हुए यह रेखांकित किया है कि ये लोग इतने गरीब हैं कि भोजन में उबले हुए आलू और चाय के अतिरिक्त कुछ और खाना इनके साध्य में नहीं है.

Read More

चित्रों में कला बाज़ार का शुरूआती चेहरा

डेविड टेनियर द्वारा 1651 में बनाया यह चित्र कला-व्यापार के आरंभिक दौर का एक दस्तावेजी चित्र है. इस चित्र में ब्रसेल्स के एक कला व्यापारी आर्चड्यूक लियोपोल्ड विल्हेम की गैलरी को चित्रित किया गया है. गैलेरी बहुत बड़ी तो नहीं है पर इसकी छत काफी ऊँची है , जिसके कारण विशाल संख्या में चित्रों को प्रदर्शित करना संभव हो सका है.

Read More

कला बाजार का एक ऐतिहासिक दस्तावेज़

यह चित्र हालाँकि अपने ऐतिहासिकता के लिए चर्चित रहा है और अमरीका में दासप्रथा का दस्तावज है , पर साथ ही यह बिना किसी लाग लपेट के, ‘चित्र’ को एक विपणन योग्य पण्य ( मार्केटेबल कमोडिटी) के रूप में स्थापित भी करता है ( हालाँकि यह इस चित्र का प्राथमिक उद्देश्य नहीं है ) , और इसी कारण से यह चित्र एक नए अर्थ के साथ चित्रकला के इतिहास में अपने को एक महत्व दस्तावेजी चित्र होने का दावा पेश करता है.

Read More

सोमनाथ होर का एक कालजयी चित्र : ‘ बंद बैठक ’

‘बंद बैठक ‘ को निःसन्देह हम आधुनिक भारतीय चित्रकला के कुछ कालजयी चित्रों में से एक मान सकते है , जो अपने साथ जुड़े ऐतिहासिक सन्दर्भों के कारण महान नहीं है , बल्कि अपने उत्कृष्ट कलागुणों के लिए यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण कृति है.

Read More

एक प्रतीक चिन्ह का जन्म

आज जब इप्टा के 75 वर्ष के पूरे होने पर पर प्लेटिनम जुबली मनायी जा रही है तब हमें चित्तप्रसाद की एक बार जरूर याद आती है, जिन्होंने इप्टा का ऐतिहासिक प्रतीक चिन्ह बनाया था जो भारत में प्रगतिशील सांस्कृतिक चेतना और परिवर्तनकामी कलाकारों के सपनों का प्रतिनिधित्त्व करता है.

Read More

और तुमने अपने पिता को आखिरी बार कब देखा ?

इस विख्यात तैल चित्र का शीर्षक जितना नाटकीय है , उतना ही नाटकीय यह चित्र भी है. चित्र का शीर्षक ” और तुमने अपने पिता को आखिरी बार कब देखा ? ” वास्तव में किसी लम्बी अवधि के नाटक का अंतिम संवाद सा लगता है जो एक बेहद गम्भीर प्रश्न के रूप में उच्चारित हुआ है और जिसके उत्तर में मंच पर एक खामोशी ठहर सी गई है. 1878 में ब्रिटिश चित्रकार विलियम फ्रेडरिक यमीस द्वारा बनाए गए इस चित्र में यह ‘ खामोशी ‘ या यों कहें कि जवाब का इंतज़ार , मानो चित्र में उपस्थित हर एक चरित्र और इस चित्र के दर्शक आज भी कर रहे हैं.

Read More

घाट पर प्रतीक्षा : ज़ैनुल आबेदिन का एक महान चित्र

सदियों से चित्रकला में ऐसे सहज-सरल लोगों की जिन्दगियों से जुड़े साधारण विषयों पर कभी किसी ने चित्र बनाने की जरूरत नहीं समझी. ज़ैनुल आबेदिन उन चित्रकारों में प्रमुख थे जिन्होंने अपने चित्रों में ऐसे साधारण से लगने वाले विषयों पर असाधारण चित्र बना कर , दर्शकों को चित्रकला की नयी संभावनाओं के साथ परिचित कराया.

Read More

सत्ता का प्रतिपक्ष रचती हैं कौशल किशोर की कविताएं

  ‘वह औरत नहीं महानद थी’ तथा ‘प्रतिरोध की संस्कृति’ का हुआ विमोचन लखनऊ. ‘हंसो, इसलिए कि रो नहीं सकते इस देश में/हंसो, खिलखिलाकर/अपनी पूरी शक्ति के साथ/ इसलिए कि तुम्हारे उदास होने से/उदास हो जाते हैं प्रधानमंत्री जी/हंसो, इसलिए कि/तुम्हें इस मुल्क में रहना है’।  ये पंक्तियां हैं कवि कौशल किशोर की ‘तानाशाह’ सीरीज कविता की जिसका पाठ 5 मई को उन्होंने यूपी प्रेस क्लब में किया। अवसर था जन संस्कृति मंच की ओर से आयोजित उनके कविता संग्रह ‘वह औरत नहीं महानद थी’ तथा गद्य कृति ‘प्रतिरोध की संस्कृति’…

Read More

रवीन्द्रनाथ ठाकुर का चित्र ‘ माँ और बच्चा ’

  रवीन्द्र नाथ ठाकुर (1861-1941) को हालाँकि सभी एक विश्व प्रसिद्ध साहित्यकार के रूप में जानते हैं जिन्होंने उत्कृष्ट कविता, गीत, कहानी, उपन्यास, नाटक आदि रचे. उन्हे 1913 का साहित्य का नोबेल पुरस्कार, उनकी कृति ‘ गीतांजलि ‘ के लिए दिया गया था , पर एक अत्यंत मौलिक चित्रकार के रूप में हम उनकी प्रतिभा और उनके चित्रों से कम परिचित हैं. वास्तव में रवीन्द्र नाथ ठाकुर का चित्रकला में आगमन भारतीय चित्रकला के हज़ारों वर्षों के इतिहास में एक बहुत महत्वपूर्ण घटना है. रवीन्द्र नाथ ठाकुर की कला ही…

Read More

तीन शोक चित्र

( प्रख्यात चित्रकार रामकुमार का  14 अप्रैल को निधन हो गया. उन्होंने मृत्यु शैया पर मुक्तिबोध का एक चित्र बनाया था. उनको नमन करते हुए विश्व चित्रकला के दो शोक चित्रों के साथ रामकुमार द्वारा बनाये गए मुक्तिबोध के चित्र के बारे में   ‘ तस्वीरनामा ’ में  बता रहे हैं प्रसिद्ध चित्रकार अशोक भौमिक ) कहानी , कविता , चित्रकला और अन्य कला विधाओं में कई बार कृतियों के बीच समानताऐं हमें चकित करती हैं । पश्चिम में चित्रकला के क्षेत्र में बड़े से बड़े चित्रकारों ने अपन पूर्ववर्ती चित्रकारों…

Read More

खेत मजदूरों की जिन्दगी पर 160 वर्ष पुराना एक चित्र

(तस्वीरनामा की सातवीं कड़ी में खेत मजदूरों पर ज्याँ फ्रांसोआ मिले द्वारा बनाये गए विश्व प्रसिद्ध चित्र ‘द ग्लेनर्स’ के बारे में बता रहे हैं प्रसिद्ध चित्रकार अशोक भौमिक ) विश्व कला इतिहास में खेत मज़दूरों पर बहुत कम चित्र मिलते हैं , जबकि  दुनिया उन्हीं के मेहनत से उगाये फसल पर निर्भर रहती है. यूरोप के कई प्रसिद्ध कलाकारों ने किसानों की जिंदगी पर कई नायाब चित्र बनाये है. ‘द ग्लेनर्स’ 1857 में बनाया गया ऐसा ही एक विश्व प्रसिद्ध चित्र है. चित्र में तीन अनाज बीनने वाली औरतों…

Read More

अमृता शेरगिल की ‘ तीन लड़कियाँ ’

  ( तस्वीरनामा की छठी कड़ी में भारतीय चित्रकला के मुहावरे को बदल देने वाली विश्व प्रसिद्ध चित्रकार अमृता शेरगिल के चित्र  ‘ तीन लड़कियाँ ‘ के बारे में बता रहे हैं प्रसिद्ध चित्रकार अशोक भौमिक)   बीसवीं सदी की भारतीय चित्रकला की धारा, जिसका विकास बंगाल में 1900 के बाद से आरम्भ हुआ था; देवी देवताओं की लीला कथाओं के चित्रण से भरा हुआ था.  बंगाल के कलाकारों ने अजंता से लेकर मुग़ल कला के अनुसरण में ही ‘भारतीयता’ की खोज करने की कोशिश की और इस लिए विषय…

Read More

मार्क शगाल का एक ऐतिहासिक प्रतिरोध चित्र ‘ व्हाइट क्रुसिफिक्शन ’

  ( तस्वीरनामा की पांचवी कड़ी में रूसी चित्रकार मार्क शगाल और उनके प्रसिद्ध चित्र ‘व्हाइट क्रुसिफिक्शन’ के बारे में बता रहे हैं प्रसिद्ध चित्रकार अशोक भौमिक ) मार्क शगाल (1887-1985) रूसी चित्रकार थे जिन्होंने जर्मनी के नेशनल सोशलिस्ट पार्टी के यहूदियों के प्रति बढ़ते अत्याचारों के विरुद्ध  ‘व्हाइट क्रुसिफिक्शन’ शीर्षक से एक महत्वपूर्ण चित्र बनाया था.  मार्क शगाल एक प्रगतिशील आधुनिक चित्रकार होने के साथ साथ धर्म से यहूदी थे , इसलिए भी उनकी गतिविधियों को हिटलर द्वारा प्रतिबंधित किया गया था. 1937 में जर्मनी में नाज़ियों ने एक…

Read More