9.4 C
New York City
February 23, 2020
खबर शख्सियत साहित्य-संस्कृति

भय, दिग्विजय और नामवरीय ‘विडंबना’

(हिन्दी आलोचना के शिखर पुरुष नामवर सिंह नहीं रहे । उन्हें समकालीन जनमत की तरफ से विनम्र श्रद्धांजलि ।)

यह एक ऐसा प्रसंग है, जिससे नामवर सिंह की आलोचकीय नज़र और ईमानदारी की सबसे साफ झलक मिलती है।

राष्ट्रवाद का जो कोलाहल इन दिनों सुनने को मिल रहा है, वह उस तूफान के सामने कुछ भी नहीं है, जो भारत चीन युद्ध के दौरान देखने को मिला था। बड़े बड़े प्रगतिशील कवि भी भावनाओं के उस ज्वार में तिनके की तरह बह गए। इनमें शमशेर जैसे शिखर कवि भी थे।

पर उन्ही दिनों एक नया नौजवान कवि भी था, जिसके पांव विवेक की जमीन से जरा भी नहीं डिगे । सिर्फ उसी की कविता समय के उस सच को कह सकी, जिसे छिपाने के बड़े बड़े उपक्रम किए जा रहे थे। नामवर सिंह की आलोचना न होती तो शायद ही उसकी तरफ किसी का ध्यान जाता।

ज्ञानोदय में नामवर सिंह का लेख छपा – “नंगी और बेलौस आवाज़।” यह लेख इस आलोचकीय परिघटना का दस्तावेज़ है। इस लेख का यह अंश आज के दौर में बार बार और हर बार बहुत ध्यान से पढ़ा जाना चाहिए।

”और एक गूँज रह जाती है शोर के बीच जिसे सब दूसरों से छिपाते हैं, नंगी और बेलौस। कहते हैं, वह सत्य है और कविता ही है जो उस सत्य को व्यक्त करने का जोखिम उठाती है। यह दावा कवि का तो रहा ही है, लोग भी शुरू से कुछ ऐसा ही विश्वास करते आये हैं — बावजूद इस ऐतिहासिक तथ्य के कभी-कभी कवि भी उस ‘सब’ में शामिल रहे हैं, यहाँ तक कि जिसे सबने नहीं भी छिपाया उसे कवि छिपा गए और इस तरह कविता के इतिहास में एक सत्य एकदम अनकहा चला गया।

दिक्कत कहाँ आती है, यह प्रश्न है और आज का शायद सबसे ज्वलन्त प्रश्न ! शोर फिलहाल चीनी हमले का ही है, इसलिए सत्य की खोज की शुरुआत इसी शोर के बीच। और सत्य ही खोजने निकले हैं तो सबसे आकर्षक है ‘सत्यमेव जयते’ शीर्षक कविता, मई, ‘६३ की ‘कल्पना’ में प्रकाशित, श्री शमशेर बहादुर सिंह की।

‘बात बोलेगी हम नहीं’ के कवि शमशेर से पहले ही से कौन आश्वस्त न होगा कि वे शोर मचानेवालों में नहीं हो सकते ! ‘मौन’ का कवि और शोर ! आकर्षण स्वाभाविक है। कविता में भी ‘सत्य’ और ‘सच्चाई’, कवि का प्रिय शब्द एक बार नहीं, अनेक बार। इतने पर भी कोई कमी दिखे तो कविता का अन्त देखिए : सत्यमेव जयते, सत्यमेव जयते, सत्यमेव जयते का तीन बार जयघोष ! नाटकीयता की पराकाष्ठा, भाषण-कला का उच्चतम आदर्श !

लेकिन कविता के अन्दर ‘तुम मूर्ख हो’, ‘धन्यवाद पशु’, ‘आवारा प्रेत’, ‘मार्क्स को जला दो’, ‘लेनिन को उड़ा दो’ वगैरह-वगैरह। इस प्रकार कवि कुछ कहता है और कविता कुछ! पाठक किसका विश्वास करें?

कहते हैं, थोथा चना बाजे घना ! कवि को स्वयं बोलना पड़े तो समझिए कि कविता की वाणी को पक्षाघात है ! यह कैसा ‘रेटरिक’ कि भाषा शब्द से अपशब्द के स्तर तक स्खलित हो गई ! ‘सत्यमेव जयते’ की पुष्टि तो बाद में होगी यहाँ तो ‘काव्यमेव जयते’ में ही सन्देह है !

यदि स्वयं कविता की शब्द-योजना, रूप-विन्यास और अर्थ-संगति के अन्दर से ही ‘सच्चाई’ की उपलब्धि नहीं होती तो फिर कवि के मन की सच्चाई को लेकर क्या होगा? और फिर कविता के अलावा कवि की उस आन्तरिक सच्चाई को जानने का दूसरा साधन भी क्या है? और यदि वह दूसरा साधन सुलभ भी कर लिया जाए तो इस कविता के मूल्यांकन में उसकी क्या प्रासंगिकता है?

सवाल यह है कि एक समर्थ कवि भी सत्य-कथन से विचलित होकर शोर में कैसे शामिल हो गया? किसी भय से? कहने की आवश्यकता नहीं कि ये तमाम प्रश्न परस्पर सम्बोधित हैं, खास तौर से उस स्थिति में जबकि एक रचना सत्य-कथन से स्खलित होने के साथ ही काव्य के स्तर से भी स्खलित हुई हो। इस प्रकार काव्यात्मक प्रश्न अन्ततः नैतिक प्रश्न हो जाता है।

वस्तुस्थिति पर कवि की पकड़ ढीली होती है, तो अभिव्यक्ति में शब्द अस्पष्ट-से आते हैं, कहीं धराऊँ शब्द तो कहीं मुँह-भराऊँ शब्द। कविता कहीं नारा हो जाती है तो कहीं वक्तव्य, कहीं उपदेश तो कहीं गाली, भाव-व्यंजना के स्थान पर भावुकता प्रकट होती है और आवेश में काव्य टूटने लगते हैं, लय लड़खड़ाने लगती है। और कुल मिलाकर उपलब्धि कवि के लिए एक रिक्ति और पाठक के लिए विरक्ति। कहाँ का सत्य और कहाँ की वास्तविकता!

लेकिन इस शोर के बीच भी कुछ एक कण्ठों से दूसरे ढंग के स्वर उठे जो या तो सुनाई नहीं पड़े या किसी वजह से दब गए।

जिस समय चारों ओर दिग्विजय की ललकार मची हुई थी, उस समय काशी के एक नितान्त नए कवि धूमिल के मुँह से मैंने ये पंक्तियाँ भी सुनीं : मुझमें सारे समूह का भय चीख़ता है दिग्विजय ! दिग्विजय !!

भय चीख़ता है दिग्विजय ! भय और दिग्विजय। क्या इस विडम्बना में कोई वास्तविकता नहीं है? इन तीन पंक्तियों में जितनी बड़ी विडम्बना को व्यक्त कर दिया गया है वह लम्बे-लम्बे दर्जनों वीर-गीतों से कहीं अधिक काव्यात्मक है।”

Related posts

ओमान में नौकरी दिलाने के नाम पर झारखण्ड के 100 मजदूरों से 25 -25 हजार वसूल नकली वीजा दे दिया

समकालीन जनमत

नौशाद की याद में

“ कब याद में तेरा साथ नहीं/ कब हाथ में तेरा हाथ नहीं ”

सुधीर सुमन

1 comment

कुन्दन यादव February 21, 2019 at 11:57 am

इलाहाबाद विश्वविद्यालय से बीए करने के बाद बीएचयू में प्रवेश लिया। बीएचयू में एमए प्रीवीयस करते हुए एकाध गुरूजनों को छोड़कर बाक़ी लकीर के फ़क़ीर ही नज़र आए। जिज्ञासु छात्र ने जब देखा कि छायावाद से लेकर कविता कि नए प्रतिमान तक, हिंदी के विकास में अपभ्रंश का योग से लेकर दूसरी परम्परा की खोज तक सब बेहतरीन पुस्तकें डॉक्टर नामवर सिंह की देन है तो शायद नामवर जी के नामवर होने का आकर्षण ही था कि मैंने एक साल का नुक़सान होने के बावजूद तय किया है कि अब JNU चलना है।1997 में पहली बार JNU कैंपस घूमने आया। कुछ छात्रों से सलाह माँगी कि कैसे यहाँ एडमिशन लें लेकिन प्रवेश परीक्षा के पुराने प्रश्न पत्रों के सिवा कुछ ख़ास हासिल नहीं हुआ। उसके बाद तय किया कि नामवर जी की सभी किताबें बार बार पढ़ीं जाएं। प्रवेश परीक्षा हेतु जमकर मेहनत की लेकिन बनारस के भीषण जाम के कारण 39 GTC के प्रवेश परीक्षा केंद्र पर लगभग आधा घंटा लेट पहुँचा।मध्य मई की गर्मी और थकान के कारण सिर्फ़ बारह पृष्ठों में पाँच प्रश्नों के संक्षिप्त उत्तर दिए। कॉपी भरो परंपरा से आने के कारण पूरी उम्मीद थी कि यह साल और जेएनयू की तैयारी बेकार गई लेकिन जब रिज़ल्ट में 22 लोगों में अपना चौथा स्थान देखा तो एहसास हो गया कि क्या है JNU और कौन हैं नामवर सिंह।
लेकिन JNU पहुँचते ही पता चला कि नामवर सिंह प्रोफ़ेसर एमेरिटस है पढ़ाते नहीं है। फिर भी मेरे शोध निर्देशक आदरणीय प्रोफ़ेसर पुरुषोत्तम अग्रवाल और आदरणीय प्रो मैनेजर पाण्डेय जी ने उनकी कमी न महसूस होने दी। इस तरह नामवर जी मेरे गुरुओं के गुरु यानि मेरे महागुरु हुए। गाहे बगाहे सेमिनारों में नामवर जी के वक्तव्य सुनने को मिलते और मैं उन्हें टैक्सी तक पहुँचाने जाया करता। साल भर में वे मुझे पहचानने लगे थे। 2000 जुलाई में मैंने एमए की कक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया और उनसे आशीर्वाद लेने गया। वे बहुत खुश हुए। शोध आदि के बारे में पूछा। नवंबर 2000 में एक सेमिनार में पुरुषोत्तम जी तथा वे उदय प्रताप कालेज बनारस आए। उन्हें मैंने बताया था कि मेरा घर यहीं बीएचयू के पास है कृपया दोपहर का भोजन हमारे यहाँ करें। उन्होंने सहर्ष स्वीकार कर लिया। मेरे पड़ोस के एक छात्र को पता चला कि नामवर जी खाने पर आएंगे और उसने यह बात फैला दी। लंच ख़त्म होते होते क़रीब 40-50 छात्र छात्राएँ नामवर जी के दर्शन हेतु मेरे घर पर जमा हो गए। मैंने देखा कि लगभग इनमें से अस्सी पर्सेंट हिंदी से इतर विषयों के थे।कुछ ने तो उनका ऑटोग्राफ भी लिया। हमारे घर के और अगर बगल के लोगों ने तब महसूस किया कि कौन है नामवर सिंह। बाद में एक पड़ोसी ने पूछा, का हो ; कोई नेता जी है क्या? एक दूसरे पड़ोसी ने उत्तर दिया , भों—- के नामवर के हउवन तोहें पतै ना हव।
हमारे पिताजी परेशान कि आख़िर ऐसा क्या है जिसका हिंदी साहित्य से कोई नाता नहीं वो भी नामवर सिंह को जानता है।
2003 में फुलब्राइट स्कॉलरशिप मिलने के बाद शिकागो, अमेरिका जाते हुए मैं पुनः उनसे मिलने गया।उसी भेंट में उन्होने मोमाडे, वास्कोपोपा और इलिनोई की लिनकन और डगलस की बहसों के बारे में बताया। उन दिनों वे थोडे अस्वस्थ चल रहे थे और मेरे सहपाठी भारत भूषण अधिकतर उनके साथ रहते थे।
अमेरिका से लौटने के बाद 2005 में मैं फिर उनसे मिलने गया। नामवर जी ने बड़े बेलाग तरीक़े से मुझे कहा कि हिंदी के विश्वविद्यालयों में प्रवक्ता हेतु चयन निष्पक्ष नहीं रह गया है, तुम सिविल सेवा की तैयारी करो। आदरणीय पुरुषोत्तम जी ने भी इस योजना में बहुत सहयोग दिया।
2007 में भारतीय राजस्व सेवा में चयनित होने के बाद मैं अपने मित्र के साथ फिर उनके घर गया। उन्होंने प्रसन्नतापूर्वक आशीर्वाद दिया।पहली बार उनका मोबाइल नंबर मिला।
उसके बाद बीच में एकाध बार मिलना फिर हुआ और वे पूछ बैठे कुछ पढ़ते लिखते हो या सब छोड़ दिया। मैं झूठ बोलता भी तो कैसे वह भी विद्यावारिधि के समक्ष। वे समझ गए बस इतना कहा , समय मिले तो पढ़ा करो। फिर भवानी प्रसाद मिश्र की एक पंक्ति कही-
कुछ लिख के सो कुछ पढ़ के सो
तू जिस जगह जागा सवेरे
उस जगह से बढ़ के सो
आज गुरूदेव हमेशा के लिए सो गए लेकिन जब भी जागे तो सोने से पहले कुछ बढ़-बढ़ाकर ही सोए। आज लोदी रोड श्मशान में उनके अंतिम दर्शन पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए देख रहा हूँ, कि शरीर सूख गया है, लगभग एक तिहाई हो गया है लेकिन नाक वैसी ही खड़ी है , आखिर नामवर की नाक जो ठहरी।
अश्रुपूरित विनम्र श्रद्धांजलि

Reply

Leave a Comment