अमन और मोहब्बत के इस पैगाम को मैं दूर तक पहुँचाना चाहता हूँ : इमाम इमदादुल रशीदी

(आसनसोल में रामनवमी जुलूस में शामिल लोगों के हमले में मारे गए हफीज सबितुल्ला के पिता नुरानी मस्जिद के इमाम मौलाना इमदादुल रशीदी ने एआईपीएफ और पीयूसीएल की टीम से बातचीत में एक बार फिर लोगों से शांति बनाये रखने की अपील की है. एआईपीएफ और पीयूसीएल  की टीम से उन्होंने जो कहा, वह यहाँ प्रस्तुत है ) वक्त बहुत बड़ा मरहम होता है, उस वक्त ने इस जख्म को भर दिया. दस रोज का अरसा गुजर रहा है, दस दिन में हमारा जख्म ऊपर से भर गया है. अंदर…

Read More

महान वैज्ञानिक प्रोफ़ेसर स्टीफन हाकिंग का निधन

आज विश्व-विख्यात वैज्ञानिक स्टीफन हाकिंग का कैम्ब्रिज में निधन हो गया| उनके द्वारा किया गया ब्रह्माण्ड के निर्माण और ब्लैक होल सम्बन्धी शोध क्रांतिकारी और अत्यंत महत्वपूर्ण है| उन्होंने सैद्धांतिक रूप से सिद्ध किया था कि ब्लैक होल्स एक प्रकार का विकिरण उत्सर्जित करते है जिसे हाकिंग विकिरण के नाम से जाना जाता है| वे कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में सेंटर ऑफ़ थियोरेटिकल कोस्मोलोजी के प्रोफ़ेसर और निदेशक थे| उन्होंने विज्ञान के प्रचार प्रसार के लिए जीवन प्रर्यंत प्रयासरत रहे| उनकी किताब “समय का संक्षिप्त इतिहास” एक प्रभावाशाली पुस्तक है और यह…

Read More

ब्राह्मणवाद और पितृसत्ता के तार आपस में काफ़ी जुड़े हैं

( अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर बनारस में ऐपवा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में संपृक्ता चटर्जी ने कैफ़ी आज़मी की नज़्म ‘उठ मेरी जान!…’ का पाठ किया । यहाँ प्रस्तुत है कैफ़ी की इस  बेहद मकबूल नज़्म का एक हिस्सा, संपृक्ता की टिप्पणी के साथ) मजाज़ लिखतें हैं, ‘तेरे माथे पर ये आँचल तो बहुत खूब है लेकिन ; तू इस आँचल का इक परचम बना लेती तो अच्छा था।’ आज हम सब यहां परचम ही लहराने आए हैं। ये परचम है जश्न का। 8 मार्च सिर्फ कैलेंडर की एक तारीख नहीं…

Read More

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस: नफरत और हिंसा के खिलाफ अमनपरस्ती की बेख़ौफ़ आवाजें

  बनारस: बीते 8 मार्च को स्वयंवर वाटिका, लंका, वाराणसी में आल इंडिया प्रोग्रेसिव वीमेंस एसोसिएशन ने ‘नफरत और हिंसा के खिलाफ अमनपरस्ती की बेख़ौफ़ आवाजें’ नाम से गौरी लंकेश और अस्मां जहाँगीर को समर्पित अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया | कार्यक्रम की शुरुआत में बी.एच.यू. की बी.एड. की छात्रा निधि यादव को श्रद्धांजलि दी गई, जिसकी अभी हाल ही में बनारस में एक सांड के हमले में दर्दनाक मौत हो गई | इस दर्दनाक घटना के लिए नगर निगम प्रसाशन को जिम्मेदार ठहराने तथा जिम्मेदार…

Read More

जगदीश कुमार जी ! आप जेएनयू के वीसी बने रहने की वैधता और अधिकार खो चुके हैं-जेएनयू छात्र संघ

नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्र संघ ने वाइस चांसलर जगदीश कुमार पर दो वर्षों से छात्र व शिक्षक विरोधी नीतियों के जरिए जेएनयू के लोकतांत्रिक और समावेशी चरित्र को नष्ट करने का आरोप लगाते हुए उनको हटाने की मांग की है। छात्र संघ की अगुवाई में 20 फरवरी को हजारों छात्र-छात्राओं ने हड़ताल करते हुए जेएनयू से मानव संसाधान विकास मंत्रालय तक मार्च किया और मांग पत्र दिया। इस मार्च में बड़ी संख्या में जेएनयू के शिक्षक और दिल्ली के नागरिक शामिल हुए। मार्च में शामिल छात्र-छात्राएं, शिक्षक…

Read More

फ़ैज़ की शायरी में शोकाकुल राष्ट्रवाद के स्वर : प्रणय कृष्ण

  जन संस्कृति मंच का आगरा और दरभंगा में फ़ैज़ अहमद फैज़ की जयंती पर ‘जश्न-ए-फ़ैज़ ’ का आयोजन    इंकलाबी शायर फ़ैज़ अहमद फैज़ की 107वीं जयंती के अवसर पर 14 फरवरी को आगरा के सूर सदन प्रेक्षागृह में जन संस्कृति मंच और रंग लीला की ओर से ‘जश्न-ए-फ़ैज़ ’ का आयोजन किया गया. पहले सत्र में ‘ फ़ैज़ : मोहब्बत और जम्हूरियत ’ विषय पर संगोष्ठी हुई. इसमें इलाहाबाद विश्वविद्यालय के उर्दू के प्रोफ़ेसर अली अहमद फ़ातमी ने कहा कि फ़ैज़ बचपन से ही बराबरी के पैरोकार थे.…

Read More

दिल्ली मेट्रो में किराया वृद्धि के खिलाफ छात्र-छात्राओं का प्रतिरोध मार्च, पीएमओ ने सात दिनों का समय मांगा

  दिल्ली मेट्रो के किराए में हुई बेतहाशा वृद्धि के खिलाफ और मेट्रो में छात्रों के लिए रियायती पास की मांग को लेकर दिल्ली के छात्र समुदाय ने छात्र संगठन ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आइसा) के नेतृत्व में 8 फरवरी को मानव संसाधन विकास मंत्रालय से प्रधानमंत्री कार्यालय तक “आज हड़ताल, कल हड़ताल/न माने तो डेरा डाल ”, “सस्ती मेट्रो का अधिकार मांगते/नहीं किसी से भीख मांगते” के नारों के साथ प्रतिरोध मार्च निकाला | पीएमओ के सामने छात्रों को पुलिसकर्मियों द्वारा पुलिस बैरिकेड कर रोका गया | कुछ छात्रों…

Read More

हाथ से मैला उठाने के काम को ख़त्म करने की मांग को लेकर बेंगलुरु में जोरदार रैली

सरकार द्वारा अंतर-विभागीय बैठक बुलाए जाने के बाद प्रतिरोध मार्च स्थगित  कर्नाटक में मैनुअल स्कैवेंजिंग के कारण 12 वर्षों में 70 सफाई कामगारों की जान गई है कर्नाटक में हाथ से मैला उठाने (मैनुअल स्कैवेंजिंग) को ख़त्म करने के प्रति सरकार की उदासीनता के विरोध में बुधवार को बेंगलुरु में जोरदार प्रदर्शन हुआ. प्रदर्शन में शामिल महिला सफाई कामगारों का कहना था कि मैनुअल स्कैवेंजिंग को भारत में प्रतिबंधित किया गया है, लेकिन पूरे देश में यह बेरोक टोक चल रहा है.  कानून को लागू करने के लिए सरकार कोई…

Read More

युग की नब्ज़ धरने वाली गोरख की कविता मुक्ति स्वप्न की कविता है- अवधेश

इलाहाबाद में गोरख स्मृति दिवस  इलाहाबाद, 29 जनवरी. परिवेश और जन संस्कृति मंच की ओर से 29 जनवरी को इलाहाबाद छात्र संघ भवन में जनकवि गोरख पांडेय की पुण्यतिथि के मौक़े पर ‘ गोरख स्मृति दिवस ’ का आयोजन हुआ। आयोजन दो सत्रों में बँटा हुआ था। पहला सत्र था- ‘कविता के सामाजिक सरोकार’ और दूसरा सत्र था: काव्य गोष्ठी। जसम संयोजक अंशुमान कुशवाहा और परिवेश संयोजक विष्णु प्रभाकर ने अतिथियों का स्वागत किया। गोरख के एक गीत ‘समाजवाद बबुवा धीरे धीरे आयी’ के गायन के साथ ही ‘ परिवेश ’ पत्रिका के गोरख केन्द्रित प्रवेशांक का विमोचन हुआ जिसके सम्पादक विष्णु प्रभाकर हैं। विमोचन में गोरख के मित्र और जनमत के सम्पादक रामजी राय, जसम महासचिव मनोज सिंह, प्रसिद्ध मानवाधिकार कर्मी ओडी सिंह, ऐक्टू के सचिव डॉक्टर कमल, कवि पंकज चतुर्वेदी, दिली विश्वविद्यालय की अध्यापिका उमा राग आदि…

Read More