भोजपुर में 35 घंटे तक सड़क व बालू घाट जाम के बाद प्रशासन ने बालू मजदूरों की मांग मानी

  बिहार के भोजपुर में बालू घाट पर सभी बालू मजदूरों को काम देने, बालू घाट से जेसीबी मशीन हटाने, सभी अवैध बालू घाट बंद करने, बालू घाट पर मजदूरों को सुरक्षा का प्रबंध करने, दुर्घटना होने पर कानून के तहत मुआवजा देने सहित कई मांगों को ले कर चल रहे अनिश्चितकालीन सड़क व बालू घाट जाम 35 घंटे बाद प्रशासन द्वारा सभी प्रमुख मांगों को मने जाने के बाद समाप्त हो गया. प्रशासन ने सूर्योदय से सूर्यास्त तक मजदूरों से ही बालू उठाने, मजदूरी 80 रुपया से बढ़ा कर…

Read More

बालू मजदूरों ने काम के लिए किया अनिश्चितकालीन सड़क व बालू घाट जाम

बिहार. भोजपुर के सहार व अगिआंव प्रखंड के विभिन्न गांवों के सैकड़ो बालू मजदूर अपने हाथों में लाल झंडा व कुदाल, बेलचा लेकर नारे लगाते हुए बारुहिं बाजार की ओर चले आ रहे थे । देखते हीं देखते बाजार लाल झंडों से पट गया और हजार की संख्या में बालू मजदूरों, महिला, नौजवानों ने भाकपा – माले व खेग्रामस के नेतृत्व में सकड़ी – नासरीगंज मुख्य सड़क व बालू घाट को अनिश्चितकाल के लिए जाम कर दिया । बालू मजदूर जो मुख्य नारे लगा रहे थे -सभी बालू मजदूरों को…

Read More

बिहार : बिहिंया ने बर्बर मध्ययुगीन घटनाओं का दिलायी याद

भोजपुर के बिहियां में भीड़तंत्र के नाम पर उन्मादी गिरोह द्वारा एक महिला जो अपने जीवन जीने के जद्दोजहद में वर्षों से बिहियां बाज़ार पर नर्तकी का काम कर रही थी, को निर्वस्त्र कर मारते-पीटते नीतीश-मोदी की लाडली पुलिस के मौजूदगी में सरेबाज़ार घुमाया गया की जितनी भी निंदा की जाय कम है. वैसे तो मुज्जफरपुर से लेकर बिहिंया तक सरकार के संक्षण में हीं नहीं सहयोग से पूरे बिहार में महिलाओं – बच्चियों पर हिंसा-बलात्कार की घटनाओं की बाढ़ सी आ गयी है.

Read More

बथानी टोला जनसंहार : न्याय का इंतजार कब तक ?

22 साल पहले 11 जुलाई, 1996 को दो बजे दिन में रणवीर सेना के कोई 50-60 हथियारबन्द लोगों ने बथानी टोला को घेर कर हमला किया और दलितों, अपसंख्यको , मजदूर – किसानों, शोषितों के घर मे आग लगा कर 21 लोगों को मार डाला. महिलाओं और बच्चों को खास निशाना बनाया गया. मृतकों में 16 महिलाएं और 7 बच्चे- बच्चियाँ थीं. 3 वर्ष से लेकर 70 वर्ष तक की महिला को भी नही छोड़ा गया. हमलवार पूरे तीन घंटों तक मौत का खेल खेलते रहे. इस टोला के सौ…

Read More

खेती-किसानी के मौसम में भोजपुर के किसान सड़क पर

भोजपुर के अगिआंव प्रखंड के नहरों में पानी लाने के लिए किसानों के 30 घंटे के जुझारू आंदोलन ने सरकार-प्रशासन को झुका दिया. किसानों के आन्दोलन से 20 वर्ष से सूखी नहरों में पानी आया है.

Read More