कारपोरेट के हित में की जा रही रेलवे प्रेस की बंदी: पीआरकेएस

‘ रेलवे के छापाखानों की बंदी बड़े कारपोरेट घरानों की साजिश का परिणाम है. रेलवे ने आउटसोर्सिंग के जरिये निजी कंपनियों से कराने के लिए ही प्रिंटिंग प्रेस को बंद करने का निर्णय लिया है ’

Read More