जामिया मिल्लिया इस्लामिया में स्वतंत्र एवं लोकतांत्रिक जेंडर सेल के गठन के लिए आइसा ने मार्च निकाला

नई दिल्ली. जामिया मिल्लिया इस्लामिया में एक स्वतंत्र एवं लोकतांत्रिक जेंडर सेल के गठन के लिए छात्र संगठन आइसा ने छात्रों के बीच एक महीने लंबे सघन अभियान के बाद 23 अक्टूबर को कुलपति कार्यालय तक मार्च निकाला. मार्च में 300 से भी अधिक छात्र-छात्राएं इस माँग के साथ शामिल हुए कि मनोनीत सदस्य के स्थान पर लोकतांत्रिक रूप से चुने हुए सदस्य ही इस जेंडर सेल के सदस्य बनेंगे. मार्च में शामिल लोगों की मुख्य मांग थी कि विश्वविद्यालय के सभी विभागों एवं संकायों में सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन…

Read More

हृदय में व्यथा का रिसाव करती हैं सुरेश सेन निशांत की कविता

श्याम अंकुरम सुरेश सेन निशांत नहीं रहे. स्तब्धकारी खबर ! मेरा उनसे परिचय राजवर्धन के संपादन में कविता संकलन ‘स्वर –एकादश ‘ से हुआ था. राजवर्धन से जब यह संग्रह मिला था उनकी कुछ ही कविताओं को पढ़ पाया था जो दिल में गहरे से धंस गई.  उनकी कविता मुझ सहित लोगों के हृदय में व्यथा का रिसाव प्रवाहित कर गई . चाहे वह कविता ‘ गूजरात’ हो या’ पिता की छड़ी ‘ हो . यही मेरा उनसे प्रथम परिचय था . दुर्भाग्य है कि मैं कभी उनसे मिल नहीं…

Read More

पहाड़ और नदियों ने खो दिया अपने कवि को

आज जब पहाड़, जंगल और जमीन सहित पूरी मानवता खतरे में है और उन्हें बचाने के लिए संघर्ष जारी है, ऐसे में एक कवि का अचानक चले जाना एक घहरा आघात है. पहाड़ और नदियों ने अपने कवि सुरेश सेन निशांत को खो दिया. बस रह है उनकी कविताएं. किन्तु यह सर्वमान्य है कि कवि मर कर भी नहीं मरता, वह सदा मौजूद रहता है हमारे बीच अपनी रचनायों के साथ.

Read More

‘ नमक-मिर्च-रोटी धरना ’ में हजारों डीटीसी कमर्चारियों ने भागीदारी की

नई दिल्ली. डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर (ऐक्टू) द्वारा 22 अक्टूबर को डीटीसी मुख्यालय ( आई. पी. डिपो ) पर ‘नमक-मिर्च-रोटी धरना ’ किया गया, जिसमें हजारों की संख्या में डीटीसी कमर्चारियों ने भागीदारी की। सभी कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों के लिए समान काम का समान वेतन लागू करने, डीटीसी प्रबंधन द्वारा जारी वेतन कटौती का सर्कुलर वापस लेने तथा डीटीसी में सरकारी बसों की खरीद की मांग को लेकर डीटीसी के कर्मचारी लगातार आन्दोलन में है। इसी दिशा में 29 अक्टूबर 2018 को डीटीसी कर्मचारियों द्वारा हड़ताल की घोषणा की गई है।…

Read More

अतुल सती जोशीमठ नगरपालिका अध्यक्ष का चुनाव लड़ेंगे

उत्तराखंड में आगामी 18 नवम्बर को होने वाले नगर निकाय चुनाव में कॉमरेड अतुल सती जोशीमठ नगरपालिका के अध्यक्ष पद हेतु भाकपा(माले) के प्रत्याशी होंगे. यह जानकारी भाकपा माले की राज्य कमेटी सदस्य इन्द्रेश मैखुरी ने दी. उन्होंने कहा कि कॉमरेड अतुल सती जोशीमठ क्षेत्र में निरंतर जनता के आंदोलनों के अग्रणी नेता हैं. नगरपालिका, नगर के सामान्य जनों को सुविधाएं उपलब्ध करवाने और आम जन की सुनवायी का केंद्र बने यह पार्टी की प्राथमिकता है.वर्तमान में जिस तरह नगरपालिका, मुट्ठी भर ठेकेदारों के हाथों की जेबी संस्था बन गयी…

Read More

डीटीसी कर्मियों का आज डीटीसी मुख्यालय पर ‘नमक-मिर्च-रोटी धरना’

नई दिल्ली. सभी कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों के लिए समान काम का समान वेतन लागू करने, डीटीसी प्रबंधन द्वारा जारी वेतन कटौती का सर्कुलर वापस लेने तथा डीटीसी में सरकारी बसों की खरीद की मांग को लेकर डीटीसी के कर्मचारी लगातार आन्दोलन में है। इसी दिशा में 29 अक्टूबर 2018 को डीटीसी कर्मचारियों द्वारा हड़ताल की घोषणा की गई है। हड़ताल को सफल बनाने की दिशा में22 अक्टूबर को डीटीसी कर्मियों द्वारा धरना दिया जाएगा। इस धरने के माध्यम से डीटीसी कर्मचारियों द्वारा अपनी वास्तविक स्थिति से जनता को परिचित कराने के…

Read More

बुलेट ट्रेन के लिए भूमि अधिग्रहण से प्रभावित किसानों, आदिवासियों के साथ आये कई दल

दिल्ली के कंसिट्यूशन क्लब हाल में 15 अक्टूबर 2018 को ” भारत में बुलेट ट्रेन – किसकी कीमत पर ” विषय को केंद्र कर एक जन कन्वेंशन आयोजित किया गया. इस कार्यक्रम का आयोजन “भूमि अधिकार मंच” के बैनर तले किया गया था. कार्यक्रम में महाराष्ट्र और गुजरात से इस योजना से विस्थापित होने वाले किसान और आदिवासी बड़ी संख्या में पहुंचे थे. जमीनी स्तर पर इस आंदोलन को नेतृत्व दे रहे कार्यकर्ताओं ने अपने सारगर्भित अनुभव लोगों से साझा किए.

Read More

पुरुष सत्तात्मक व्यवस्था को चुनौती दे रहा है #MeToo आंदोलन

यह आंदोलन इस यथास्थिति को तोड़ता है. कुछ स्त्रियां इस संकल्प के साथ आ खड़ी हुई हैं कि हम चुपचाप स्वीकार नहीं करेंगे ,कहेंगे हां कहेंगे. यह कहना भी उस पुरुष सत्तात्मक व्यवस्था के लिए चुनौती है. वह अपनी सत्ता को यों ही जाने नहीं दे सकता. इसलिए वह मजाक उड़ायेगा, व्यंग्य लेख लिखेगा, चर्चा करके माहौल बनायेगा. दर असल यही वह श्रेष्ठता बोध और सत्ता का गुरूर है जिसकी परिणति निर्भया जैसे काण्डों में होती है.

Read More

ईएसआई के 60 हजार करोड़ रुपये दिवालिया होने के कगार पर खड़े अनिल अम्बानी की रिलायंस के हवाले

देश के 11 करोड़ मजदूरों की संख्या वाली कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ई.एस.आई.) के 60 हजार करोड़ रुपये अनिल अंबानी की रिलायंस म्‍यूचुअल फंड को देने के निर्णय ई.एस.आई. की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में हुआ है। इस परिषद में केवल वामपंथ के प्रतिनिधि ने इसका विरोध किया और कई गम्भीर सवाल उठाकर सरकार को कटघरे में खड़ा किया।

Read More

हवालात : वैचारिक सौंदर्य का संवेदक परिदृश्य

राजेश कुमार नेमिचन्द्र जैन के नौ लघु नाटक संग्रह में एक नाटक ‘ हवालात’ है, जिसके लेखक हैं सर्वेश्वर दयाल सक्सेना। नेमिचन्द्र जी ने इस नाटक को लघु नाटक के नाम से संबोधन किया है लेकिन युवा निर्देशक पीयूष वर्मा ने कथ्य में बगैर कोई कांट- छांट किये बल्कि धूमिल की कुछ कविताएँ जोड़कर एक सम्पूर्ण नाटक का रूप दे दिया है। आजकल नए या सीनियर निर्देशक जहां ऐसे नाटक से बचते हैं, ऐसे सवाल से कटते हैं, पीयूष वर्मा सर्वेश्वर दयाल सक्सेना के नाटक को समसामयिक , प्रासंगिक बनाने…

Read More

मोदी शासन देश के लिए एक हादसा साबित हुआ है : दीपंकर

कोडरमा के ब्लॉक मैदान , तिलैया में भाकपा माले ने 8 अक्टूबर को बड़ी रैली कर “ मोदी–भाजपा हटाओ , देश बचाओ ” की हुंकार भरी. रैली को भाकपा माले के महासचिव कामरेड दीपंकर भट्टाचार्य, चर्चित युवा दलित नेता जिग्नेश मेवानी, झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के विधायक जगरनाथ महतो सहित भाकपा, माकपा के वरिष्ठ नेताओं ने संबोधित किया.

Read More

भिलाई स्टील प्लांट में गैस पाइप लाइन फटने से 9 कर्मियों की मौत, 15 घायल

उत्तम कुमार, सम्पादक दक्षिण कोसल   भिलाई स्टील प्लांट में आज गैस पाइप लाइन के फटने से बड़ा हादसा हो गया है। मिली जानकारी के अनुसार ब्लास्ट फर्नेस 8 से कोक ओवन बैटरी नंबर 11 के बीच डी ब्लांकिंग का कार्य चल रहा था जिसमें लगभग 40 लोग कार्य में व्यस्त थे. इस दौरान सीडीसीपी में गैस पाइप लाइप में विस्फोट हो गया. इससे आग की बड़ी-बड़ी लपटों की चपेट में आकर एक दर्जन से ज्यादा बीएसपी कर्मचारी झुलस गए जिसमें 9 कर्मियों की मौत हो गई है. गैस पाइप…

Read More

हिन्दू कालेज में ‘ छबीला रंगबाज का शहर ’ का मंचन

युवा लेखक प्रवीण कुमार द्वारा लिखित और रंगकर्मी- अभिनेता हिरण्य हिमकर द्वारा निर्देशित इस नाटक को दर्शकों ने मंत्रमुग्ध होकर देखा। कहानी का बड़ा हिस्सा इस शहर के अनूठे अंदाज को बताने में लगता है। तभी घटनाएं होती हैं और एक दिन तनाव के मध्य अरूप अपने किसी रिश्तेदार किशोर को ऋषभ के घर रात भर ठहरा लेने के अनुरोध से छोड़ जाता है। बाद में अरूप बताता है वह छबीला सिंह था जो जेल से भागा था। वही छबीला सिंह जिसके नाम से शहर कांपता था। विडंबना यह है कि यह छबीला स्वयं शोषण और अत्याचार का शिकार है। असल में कहानी बिहार की जातिवादी संरचना के मध्य बन रहे आधुनिक समाज का जबरदस्त चित्र है।

Read More

कामरेड सुधाकर यादव भाकपा माले यूपी के राज्य सचिव चुने गए

सम्मेलन में सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में सभी एनकाउंटर की न्यायिक जांच कराने, रासुका को खत्म करने का प्रस्ताव पारित पीलीभीत। साम्प्रदायिक-सामंती ताकतों के खिलाफ व्यापक प्रतिवाद विकसित करने और संघ-भाजपा के नेतृत्व में देश-प्रदेश में फासीवादी उभार को शिकस्त देने के आह्वान के साथ भाकपा माले का 12वां राज्य सम्मेलन 6-7 अक्टूबर को पीलीभीत में सम्पन्न हुआ। राज्य सम्मेलन में 45 सदस्यीय राज्य कमिटी चुनी गई और  नई राज्य कमिटी ने सर्वसम्मत से कामरेड सुधाकर यादव को राज्य सचिव चुना. कामरेड बृजबिहारी लाल-झांझन नगर ( पीलीभीत बैंक्वेट हाल) में…

Read More

मोदी सरकार ने देश को बर्बाद किया : दीपंकर भट्टाचार्य

रैली और सभा के साथ भाकपा माले के 12 वें राज्य सम्मेलन का आगाज पीलीभीत। भाकपा माले के महासचिव कॉमरेड दीपंकर भट्टाचार्य ने कहा है कि मोदी सरकार ने देश को बांटा है, बर्बाद किया है और देश की जनता को धोखा दिया है। यह सरकार डिस्ट्रॉय एंड रूल, डिसिव एंड रूल और डाइवर्ट एंड रूल की विनाशकारी नीति पर चल रही है। देश की जनता मोदी सरकार से हिसाब बराबर करने के लिए तैयार है। उत्तर प्रदेश और बिहार जिसने 2014 के चुनाव में 100 से अधिक सीट बीजेपी…

Read More

सवालों का जवाब मांगना गांधी ने सिखाया – प्रो सुधीर चंद्र

हिन्दू कालेज में ‘आज के सवाल और गांधी’ विषय पर व्याख्यान  डॉ रचना सिंह नई दिल्ली। गांधी ने दुनिया को सिखाया है कि ना कहना मनुष्य का सबसे बड़ा अधिकार है जिसके साथ हमारा नैतिक साहस भी जुड़ा है. आज किसी भी तरह के सवालों को खड़ा करना और उनकी बात करना मुश्किल हो गया है. यह किसी सभ्य जनतांत्रिक समाज के लिए बेहद चिंता की बात है. यह बातें सुप्रसिद्ध इतिहासकार और लेखक सुधीर चंद्र ने हिन्दू कालेज में ‘आज के सवाल और गांधी’ विषय पर व्याख्यान में कही.…

Read More

प्रभा दीक्षित के नवगीतों में नारी मन के साथ आमजन भी – कमल किशोर श्रमिक

‘ गौरैया धूप की ’ का हुआ लोकार्पण  कानपुर। जन संस्कृति मंच, कानपुर के तत्वावधान में सुप्रसिद्ध कवयित्री डॉ प्रभा दीक्षित के नवगीत संग्रह ‘गौरैया धूप की’ का लोकार्पण समारोह सिटी क्लब, कानपुर में  30 सितम्बर को आयोजित  हुआ जिसकी अध्यक्षता जनकवि कमल किशोर श्रमिक ने की। यह आयोजन शहीद भगत सिंह के 111 वें जन्मदिवस के अवसर पर था। अपने अध्यक्षीय संबोधन में श्रमिक ने कहा कि प्रभा दीक्षित के काव्य में क्रमिक विकास हुआ है। उसी का उदाहरण उनका यह नवगीत संग्रह है। भारतीय नारी के अन्तर मन…

Read More

‘ किसानों का दमन कर मोदी सरकार ने सत्ता में बने रहने का नैतिक अधिकार खो दिया है ’

  नई दिल्ली. अखिल भारतीय किसान महासभा ने दिल्ली के गाजीपुर बार्डर पर किसानों के शांतिपूर्ण मार्च को रोकने और आन्दोलनकारी किसानों का दमन करने की कड़ी निंदा की है. किसान महासभा के राष्ट्रीय सचिव पुरुषोत्तम शर्मा ने कहा कि एक तरफ मोदी सरकार किसानों के शांतिपूर्ण आन्दोलन का दमन कर रही है और दूसरी ओर देश भर में भीड़ हत्याओं को संगठित करने वाले फासिस्ट गिरोहीं को खुला संरक्षण दे रही है. उन्होंने कहा कि सरकार की किसान विरोधी नीतियों के चलते आत्महत्या को मजबूर देश के पीड़ित किसानों…

Read More

गांव में डॉ. अम्बेडकर व गौतम बुद्ध की मूर्ति रखने पर दलितों का उत्पीड़न

डॉ संदीप पांडेय उ.प्र. के राजधानी लखनऊ से सटे जिलों के दो गांवों में दलित समुदाय डॉ. बी.आर. अम्बेडकर व भगवान गौतम बुद्ध की मूर्तियां लगा पाने में असफल है क्योंकि गांव के बाहर के शासक दल के प्रभावशाली लोग व प्रशासन के अधिकारी विरोध कर रहे हैं। सीतापुर जिले की बिस्वां तहसील के थानगांव थाना क्षेत्र के गांव गुमई मजरा ग्राम सभा रामीपुर गोड़वा व बाराबंकी जिले के देवा थाना क्षेत्र के सरसौंदी गांव में मूर्तियां लगाने हेतु जिला प्रशासन के माध्यम से शासन से अनुमति भी मांगी गई…

Read More

‘ तथाकथित हिंदुत्ववादी सरकार ने एक साधू को मरने के लिए छोड़ दिया है ’

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं राज्य सभा सदस्य संजय सिंह और प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता एवं सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) के नेता संदीप पाण्डेय ने गंगा के संरक्षण की मांग को आमरण अनशन कर रहे स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद की मांगों की अनदेखी करने पर केंद्र सरकार की कड़ी आलोचना की है. दोनों नेताओं ने कहा कि ‘ तथाकथित हिंदुत्ववादी सरकार ने एक साधू को मरने के लिए छोड़ दिया है ’.

Read More