अखिल भारतीय खेत व ग्रामीण मजदूर सभा (खेग्रामस) का छठा राष्ट्रीय सम्मेलन 19-20 नवंबर को जहानाबाद में

पटना. भाकपा-माले से संबद्ध अखिल भारतीय खेत व ग्रामीण मजदूर सभा (खेग्रामस) का छठा राष्ट्रीय सम्मेलन 19-20 नवंबर को जहानाबाद में होगा. पटना में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए खेग्रामस के राष्ट्रीय महासचिव का. धीरेन्द्र झा ने कहा कि यह सम्मेलन ‘मजदूर-किसानों ने ठाना है, लुटेरी मोदी सरकार को भगाना है’ के केंद्रीय नारे के साथ हो रहा है. सम्मेलन के अवसर पर जहानाबाद के गांधी मैदान में भाजपा भगाओ-गरीब बचाओ रैली भी आयोजित होगी, जिसे भाकपा-माले के महासचिव काॅ. दीपंकर भट्टाचार्य मुख्य वक्ता के बतौर संबोधित करेंगे.…

Read More

‘ स्‍वच्‍छ भारत अभियान मोदी का एक और जुमला है ’

राष्‍ट्रीय कन्‍वेंशन में जंतर मंतर पर जुटे देश भर के सफाई कर्मचारी नई दिल्ली. जंतर मंतर पर 16 नवम्बर को देश भर के सफाई कर्मचारियों ने राष्‍ट्रीय कन्‍वेंशन का आयोजन किया. इसमें बिहार, कर्नाटक, तमिलनाडु, छत्‍तीसगढ़, उड़ीसा, उत्‍तर प्रदेश, दिल्‍ली सहित अन्‍य राज्‍यों से सफाई कर्मचारियों ने भागीदारी की. सफाई कर्मचारियों के अलावा भकपा (माले) के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य, एपवा की राष्‍ट्रीय सचिव कविता कृष्‍णन जैसे नेताओं ने भी सफाई कर्मचारियों की मांग का समर्थन करते हुए कन्‍वेंशन में भागीदारी की. प्रख्‍यात पत्रकार भाषा सिंह ने भी कन्‍वेंशन में अपनी…

Read More

एक तरफ ‘ स्वच्छ भारत ‘ का ढोंग दूसरी तरफ हर 3 दिन में एक सफाईकर्मी की मौत

उर्मिला चौहान पूरे देश मे सफाई कर्मचारियों की हालत दिन पर दिन और खराब होती जा रही है। विडम्बना तो ये है कि 2014 में जब मोदी सरकार द्वारा ‘स्वच्छ भारत मिशन’ की घोषणा की तब से अब तक सैकड़ों मजदूर सीवरों और गटर की भेंट चढ़ चुके हैं। ‘सफाई कर्मचारी आन्दोलन’ द्वारा किये गये सर्वे के अनुसार, हर तीसरे दिन पर एक मजदूर की मौत होती है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, अकेले 2017 में 300 सफाई कर्मचारियों की जाने गयी। पिछले सितंबर-अक्टूबर में दिल्ली शहर के ही सीवर के…

Read More

मोदी सरकार द्वारा किसानों के साथ धोखाधड़ी के खिलाफ किसानों का “ दिल्ली मार्च ” 29-30 नवम्बर को

अखिल भारतीय किसान महासभा नई दिल्ली. 2014 के लोकसभा चुनाव में वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी पार्टी भाजपा ने देश के किसानों से कर्ज माफी और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश के अनुरूप फसलों का डेढ़ गुना दाम देने का वायदा किया था. यही नहीं उन्होंने देश के लोगों को अच्छे दिन लाने का वायदा भी किया था. पर अपने साढे चार साल के शासन में इस सरकार ने न सिर्फ देश के किसानों के साथ खुला धोखा किया बल्कि अपनी कारपोरेट परस्ती के कारण आज देश को आर्थिक कंगाली…

Read More

भारतीय संवैधानिक अदालतें और धर्मनिरपेक्षता (भाग-1)

 इरफान इंजीनियऱ   पिछले कुछ वर्षों से, परंपराओं और रीति-रिवाजों के नाम पर, भारत में धर्मनिरपेक्षता को पुनर्परिभाषित करने और उसकी सीमाओं का पुनः निर्धारण करने का चलन हो गया है। संविधान निर्माताओं ने एकमत से न सही, परंतु बहुमत से धर्मनिरपेक्षता को संविधान का अविभाज्य और अउल्लंघनीय हिस्सा बनाया था। स्वाधीनता के बाद के वर्षों में इस सिद्धांत का लगभग पूर्णतः पालन किया गया और धार्मिक संस्थाओं और धार्मिक नेताओं के प्रभाव और उनकी शक्तियों में शनैः-शनैः कमी लाई गई। सुधार हुए और समुदायों पर धार्मिक नेताओं और संस्थाओं…

Read More

वो सूरतें इलाही किस मुल्क बसतियाँ हैं , अब जिनके देखने को आंखें तरसतियाँ हैं

15वीं बरसी पर कॉ मंजू देवी की यादें   संतोष सहर   वो सूरतें इलाही किस मुल्क बसतियाँ हैं अब जिनके देखने को आंखें तरसतियाँ हैं (अखिल भारतीय खेत ग्रामीण मजदूर सभा का  6वां राष्ट्रीय सम्मेलन आगामी 19-20 नवम्बर को जहानाबाद में आयोजित होगा।15 साल पहले 14-15 नवम्बर 2003 को आरा में इसका स्थापना सम्मेलन हुआ था। कॉ. मंजू देवी उस सम्मेलन की जोरदार तैयारियों में दिन-रात लगी हुई थीं। उसी दौरान आज ही के दिन जहानाबाद के पुराण गांव में रणवीर हत्यारों ने गोली मारकर इनकी हत्या कर डाली…

Read More

‘ जनता बेरोजगारी से त्रस्त, योगी सरकार नाम बदलने में मस्त ’

लखनऊ. फैज़ाबाद और इलाहाबाद का नाम बदले जाने के खिलाफ लखनऊ स्थित पिछड़ा समाज महासभा कार्यालय में बैठक हुई. बैठक में एक स्वर में इसे मूलभूत समस्यओं से भटकाने की ओछी राजनीति कहा गया. इसके खिलाफ जन अभियान चलाए जाने का प्रस्ताव आया. वक्ताओं ने कहा कि नाम बदलने और मूर्तियों की राजनीति जनता के धन का दुरूपयोग कर रही है. जिलों के नाम बदलने में आने वाले खर्च से उद्योग, बेरोजगारी, शिक्षा एवं चिकित्सा जैसी मूलभूत जरूरतों को पूरा किया जा सकता था. पर सरकार का मानसिक दिवालियापन है…

Read More

बदरपुर थर्मल पावर स्टेशन की बंदी के खिलाफ अनुबंध कर्मियों का मंडी हाउस से संसद मार्ग तक मार्च

नई दिल्ली: बदरपुर थर्मल पावर स्टेशन (बीटीपीएस) के सैकड़ों अनुबंध-कर्मियों ने मजदूर एकता कमेटी की अगुवाई में अपनी मांगों को लेकर 8 नवम्बर को मंडी हाउस से लेकर संसद मार्ग तक मार्च किया। ये कर्मचारी बीटीपीएस को गैर-कानूनी तरीके से बंद करने, बिना किसी नोटिस, मुआवज़ा और पुनर्स्थापन के रोजगार से निकाले जाने का विरोध कर रहे हैं। इनकी मांग है कि बीटीपीएस को बंद करने का नोटिस और पर्याप्त मुआवज़ा दिया जाए, एनसीआर में वैकल्पिक रोजगार देकर उनका पुनर्वास किया जाए, सभी देय मजदूरी और अन्य बकाया राशि का…

Read More

वित्तमंत्री ने अर्थव्यवस्था की ऐसी-तैसी कर दी है : यशवन्त सिन्हा

 भारतीय रिज़र्व बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य के 26 अक्तूबर के सम्बोधन ने सरकार और केन्द्रीय बैंक के बीच के गम्भीर मतभेदों को सतह पर ला दिया है। डाॅ0 आचार्य ने अपने तीखे सम्बोधन में कह दिया था कि, ‘‘जो सरकारें केन्द्रीय बैंक की स्वायत्तता का सम्मान नहीं करतीं उन्हें देर-सवेर वित्तीय बाजारों के गुस्से का सामना करना ही पड़ता है, अर्थव्यवस्था ख़ाक हो जाती है और फिर सिर्फ उस दिन के लिये पश्चात्ताप करने के अलावा कोई चारा नहीं रह जाता जब इस नियामक संस्था की अनदेखी की…

Read More

आर-पार की लड़ाई के आह्वान के साथ बिहार राज्य आशा कार्यकर्ता संघ का तीसरा राज्य सम्मेलन सम्पन्न

पटना, 3 नवंबर 2018 आशा को सरकारी सेवक का दर्जा दो, 18000 मानदेय लागू करो के नारे पर महासंघ गोप गुट व ऐक्टू से संबद्ध बिहार राज्य आशा कार्यकर्ता संघ का आहूत तीसरा राज्य सम्मेलन आशा सहित सभी स्कीम वर्करों को आधुनिक गुलाम बनाने वाली मोदी- नीतीश सरकार को आगामी चुनाव में धूल चटाने , 1 दिसंबर से राज्यव्यापी अनिश्चितकालीन हड़ताल से मोदी- नीतीश के खिलाफ आर-पार की लड़ाई शुरू करने तथा 8 -9 जनवरी 19 को देशव्यापी दो दिवसीय आम हड़ताल को सफल बनाने के आह्वान के साथ आज…

Read More

ज्ञान और विचार का केंद्र शिब्ली अकादमी

दुर्गा सिंह शिब्ली मंजिल या शिब्ली अकादमी या दारुलमुसन्निफ़ीन (हॉउस ऑफ़ राइटर या लेखकों का अपना घर) आज़मगढ़ में स्थित ऐसी जगह है, जिससे कोई भी स्कॉलर अचंभित हुए बिना नहीं रहेगा. इसकी परिकल्पना अल्लामा शिब्ली नोमानी ने की थी. इसके लिए उन्होंने अपना बंगला और एक आम का बाग़ दिया. अपने परिवारीजनों से ज़मीन मांगी. भोपाल और हैदराबाद रियासत से मदद मांगी. बेगम भोपाल ने पैसों से मदद की. इसके अलावा उन्होंने अपने शागिर्दों को इसमें इन्वाल्व किया. जो लोग ऐसी हैसियत में थे उनसे ताल्लुक रखने वाले सबको…

Read More

विश्वविद्यालयों में काँचा इलैया की किताबों से कौन डरता है ?

लक्ष्मण यादव विश्वविद्यालय एक लोकतान्त्रिक मुल्क में अपने समय-समाज के अंतर्विरोधों से संवाद करते हुए तार्किक-वैज्ञानिक विवेक सम्पन्न बोध से लैस नागरिक तैयार करते हैं। जिन मुल्कों में सामाजिक-सांस्कृतिक विषमता जितनी ज्यादा होगी, उन मुल्कों में ज्ञान के ऐसे प्रतिष्ठानों की ज़िम्मेदारी और अधिक बढ़ जाती है। आज़ाद भारत जैसे अंतर्विरोधों के मुल्क में विश्वविद्यालयों को ये बड़ी ज़िम्मेदारी निभानी थी, लेकिन वे उतने खरे न उतरे। तमाम विरोधी विचारों, मान्यताओं व सांस्कृतिक बोध को विश्वविद्यालयों में सबसे पहले जगह देनी थी, उनमें भी वंचित-शोषित दलित-पिछड़े-आदिवासी-अल्पसंख्यक-महिला तबके के लिए यह…

Read More

मोहम्मद अज़ीम की हत्या : अल्पसंख्यक समुदाय की शिकायतों को दिल्ली पुलिस ने नजरअंदाज किया

सीपीआई-एमएल, सीपीआई-एम और आइसा प्रतिनिधिमंडल ने दक्षिणी रेंज के संयुक्त आयुक्तसे मुलाकात की, ज्ञापन दिया नई दिल्ली. सीपीआई-एमएल, सीपीआई-एम और आइसा के प्रतिनिधिमंडल ने दक्षिणी रेंज के संयुक्त आयुक्त  देवेश चंद्र श्रीवास्तव से मालवीय नगर में हुई मोहम्मद अज़ीम की हत्या के संदर्भ में मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने मालवीयनगर में स्थित जामिया फरीदिया मदरसा के छात्रों से भी मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि मोहम्मद अज़ीम की हत्या के बाद यहां मदरसा के निवासियों का स्थानीय लोगों द्वारा हुए उत्पीड़न और धमकी सम्बन्धी शिकायतों पर दिल्ली पुलिस की निष्क्रियता ऐसे…

Read More

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी नहीं, यह स्टैच्यू ऑफ डिस्प्लेसमेंट है

शशांक मुकुट शेखर सरकार हजारों आदिवासियों की मृत्यु का जश्न मनाने की तैयारियों में तल्लीन है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का अनावरण करने वाले हैं. प्रतिमा के भव्य अनावरण के लिए जोरशोर से तैयारियां चल रही है. हेलिकॉप्टर से फूलों की बारिश की जानी है. और भी तमाम तरह के तामझाम होने वाले हैं. देशभर से कलाकारों को बुलाया जा रहा है. सरकार अनावरण समारोह को एक जश्न की तरह मनाने के सारे जुगत करने में लगी है. मगर इसी दिन…

Read More

फर्जी डिग्री केस में डूसू अध्यक्ष का नामांकन रद्द करने की मांग को लेकर वीसी और डीएसडब्ल्यू का घेराव

नई दिल्ली.  आइसा के नेतृत्व में दिल्ली विश्विद्यालय के सैकड़ों छात्रों ने आज फर्जी डिग्री के आधार पर डूसू अध्यक्ष अंकिव बसोया के हुए नामांकन को रद्द करने और उसके ऊपर अपराधिक मुकदमा दर्ज करने की मांग को लेकर डीयू वीसी और डीएसडब्ल्यू का घंटों घेराव किया। नामांकन और चुनाव स्क्रूटनी के जाँच प्रक्रिया को धता बताते हुए और अपने राजनीतिक पहुंच के धौंस पर अंकिब बसोया ने तिरुवल्लुर यूनिवर्सिटी से बीए की फ़र्ज़ी डिग्री (जिसको तिरुवल्लुर यूनिवर्सिटी समाचार पत्रों में घोषणा भी कर चुकी है) के आधार पर डीयू…

Read More

‘ मोदी सरकार ने हर मोर्चे पर किसानों और देश की जनता से धोखा किया है ’

  सोनीपत (हरियाणा).  अखिल भारतीय किसान महासभा की राष्ट्रीय परिषद की दो दिवसीय बैठक आज हरियाणा के सोनीपत स्थित सर छोटूराम धर्मशाला में शुरू हुई। बैठक की अध्यक्षता संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष कामरेड रुलदू सिंह ने की। बैठक की शुरुआत करते हुए किसान महासभा के राष्ट्रीय महासचिव कामरेड राजाराम सिंह ने कहा कि मोदी राज में रफाल महा घोटाला और सीबीआई तख्ता पलट की घटनाओं ने साबित कर दिया है कि यह सरकार कानून और संविधान के प्रावधानों का खुला उल्लंघन कर रही है। इस सरकार के रहते देश का…

Read More

समानता का नया यूटोपिया रचती है ‘ देह ही देश ‘ – अनामिका

हिन्दू कालेज में प्रोफ़ेसर गरिमा श्रीवास्तव की किताब ‘ देह ही देश ‘ पर परिसंवाद  डॉ रचना सिंह   दिल्ली। ”देह ही देश” केवल यूरोप की स्त्री का संसार नहीं है बल्कि दर्द और संघर्ष का यह आख्यान अपनी सार्वभौमिकता के कारण बहुपठनीय बन गया है। सुप्रसिद्ध कवि-कथाकार अनामिका हिन्दू कालेज में ‘देह ही देश’ पर आयोजित एक परिसंवाद में कहा कि युवा विद्यार्थियों के बीच इस किताब पर गंभीर चर्चा होना यह विश्वास जगाता है कि स्त्री पुरुष समानता का यूटोपिया अभी बचा हुआ है और गरिमा श्रीवास्तव जैसे लेखक…

Read More

डीटीसी कर्मचारियों की ऐतिहासिक हड़ताल, वापस लेना पड़ा वेतन कटौती का सर्कुलर

एस्मा के बावजूद हज़ारों कर्मचारी हड़ताल पर रहे नई दिल्ली. ऐक्टू (AICCTU) से सम्बद्ध डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर द्वारा बुलाए गए व डीटीसी वर्कर्स यूनियन (एटक) एवं डीटीसी एम्प्लाइज कांग्रेस (इंटक) द्वारा समर्थित एक दिवसीय हड़ताल ने आज दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) के पहियों को बुरी तरीके से जाम कर दिया. दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) के 11 हज़ार से ज्यादा अनुबंधित कर्मचारियों और कई स्थाई कर्मचारियों ने हड़ताल में हिस्सा लिया. हड़ताल की मुख्य मांगों में से एक मांग को हड़ताल के ठीक एक दिन पहले डीटीसी प्रबंधन द्वारा मान…

Read More

दलित-बहुजन बौद्धिकता के विमर्श का दमन है प्रो. कांचा इलैया की पुस्तकों को पाठ्यक्रम से हटाना

नई दिल्ली. जन संस्कृति मंच ने दिल्ली विश्वविद्यालय की स्टैंडिंग कमिटी द्वारा प्रो. कांचा इलैया की पुस्तकों को एम.ए राजनीति विज्ञान के पाठ्यक्रम से हटाए जाने की निंदा करते हुए इसे भारत में उभर रही दलित-बहुजन बौद्धिकता के विमर्श का दमन बताया है. जसम की ओर से रामनरेश राम द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि पिछले दिनों दिल्ली विश्वविद्यालय कि स्टैंडिंग कमिटी ने अपनी मीटिंग में यह प्रस्ताव पास किया है कि कांचा इलैया की तीन किताबें ‘मैं हिन्दू क्यों नहीं हूँ ’, ‘ पोस्ट हिन्दू इंडिया’ ,…

Read More

संघ-हिन्दू महासभा द्वारा आज़ाद हिन्द फौज के साथ किये गये विश्वासघात की लीपापोती कर रहे हैं मोदी

जो लोग नेताजी और उनके साथियों और भारत की आज़ादी के लिये अपना सर्वाेत्तम निछावर कर देनेवाले आज़ाद हिन्द फौज के नायकों और सिपाहियों से प्यार करते हैं उन्हें यह माँग करनी चाहिये कि मोदी लाल किले से नेताजी और उनकी आज़ाद हिन्द फौज के प्रति आर.एस.एस. और हिन्दू महासभा दोनों ने जो अपराध किये हैं, उनके लिये वह माफ़ी माँग लें।

Read More