बगोदर में बिजली आपूर्ति की लचर व्यवस्था के खिलाफ आइसा-इनौस ने लालटेन मार्च निकाला

  • 28
    Shares

बगोदर (गिरीडीह)। झारखण्ड के बगोदर में बिजली आपूर्ति की लचर व्यवस्था के खिलाफ 28 अगस्त की देर शाम बिजली उपभोक्ताओं का गुस्सा फूट पड़ा. भाकपा माले के छात्र-युवा संगठन आइसा-इनौस के  नेतृत्व में सैकड़ो बिजली उपभोक्ताओं ने बगोदर बाजार में लालटेन मार्च निकाला और सभा की.

सभा में वक्ताओं ने बगोदर में बदहाल बिजली व्यवस्था पर सांसद-विधायक की कुंभकर्णी निद्रा के लिए उन्हें जमकर कोसा. लालटेन मार्च बगोदर बस पड़ाव से निकलकर जीटी रोड होते हुए समूचे बाजार का भ्रमण कर पुनः बस पड़ाव पहुँचकर नुक्कड़ सभा मे तब्दील हो गया.

नुक्कड़ सभा की अध्यक्षता व संचालन हेमलाल महतो ने किया. इंकलाबी नौजवान सभा के राष्ट्रीय परिषद सदस्य संदीप जायसवाल ने नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए कहा कि बिजली ब्यवस्था के मामले में बगोदर की स्थिति अंधेर नगरी चौपट जनप्रतिनिधि वाली हो गयी है. बिजली की कुव्यवस्था से बगोदरवासी रो रहे हैं और विधायक-सांसद सो रहे हैं. बगोदर की लचर बिजली व्यवस्था को दुरुस्त करने के बजाय विधायक-सांसद बगोदर को लालटेन युग मे धकेल दिए हैं. जहां जनता एक ओर बिजली के लिए त्रस्त है वहीं दूसरी ओर विधायक-सांसद जनरेटर चलाकर मस्त है. हर घर को बिजली देने का वादा धोखा साबित हुआ है. यदि एक सप्ताह के अंदर बिजली विभाग बगोदर में नियमित बिजली आपूर्ति की गारंटी नही करती है तो भाकपा माले,आईसा-इनौस और भी बड़े आंदोलन की दिशा में आगे बढ़ेगी.

आइसा नेता पूरण कुमार महतो ने कहा कि निकम्मे प्रतिनिधियों की वजह से बगोदर में बिजली की यह दुर्दशा है. आने वाले समय में छात्र-नौजवान ऐसे निकम्मे प्रतिनिधियों को मुंहतोड़ जवाब देंगे. बिजली विभाग को चेताते हुए कहा कि वे भी सुधार करे नही तो उपभोक्ताओं का कोपभाजन को तैयार रहें.

मार्च में संतोष रजक, सुजीत शर्मा, अमजद खान, ओमप्रकाश यादव, हिरामन महतो, इमरान नज़ीर, जितेंद्र कुमार, महेंद्र रमन, राजकुमार दास, जितेंद्र कुमार, सुभाष साव, उमेश महतो, पंकज कुमार, कांछु यादव, लालमोहन महतो समेत सैकडों लोग शामिल थे.

Related posts

Leave a Comment