पहली जंगे आज़ादी और मार्क्स


 

कार्ल मार्क्स : जो हमारी आजादी का ख़्वाब,हमसे पहले  देख रहा था,वह हमारा नायक है.

यह वर्ष कार्ल  मार्क्स के जन्म का द्विशताब्दी वर्ष है. भारत में जैसे ही मार्क्स और मार्क्सवाद की चर्चा होती है तो विरोधी तुरंत मार्क्स को एक ऐसे विचारक बता कर खारिज करने की कोशिश करते हैं ,जो भारत के बारे में कुछ नहीं जानता था.लेकिन क्या सच में मार्क्स भारत के बारे में कुछ नहीं जानते थे ?

जी नहीं, मार्क्स भारत के बारे में खूब जानते थे और भारत के बारे में उन्होंने लिखा भी खूब है.भारत में 1857 की पहली जंगे आजादी का विस्फोट होने के कुछ वर्ष पहले से मार्क्स भारतीय समाज को देख रहे थे और उसके बारे में लिख भी रहे थे.

आजीविका चलाने के लिए लंदन से अमेरिका के अखबार न्यू यॉर्क डेली ट्रिब्यून को जो लेख मार्क्स  भेज रहे थे, उन्हें यदि आप पढ़ें तो वे 1857 के  विद्रोह का आँखों देखा हाल(रनिंग कमेन्ट्री) प्रतीत होते है. लंदन में बैठ कर उस जमाने में वे इतना सजीव विवरण कैसे कर रहे थे ,यह अपने-आप में चौंकाता है. मार्क्स ने 1857 का सिर्फ  आँखों देखा विवरण  ही नहीं पेश किया बल्कि अपने लेखों में उन्होंने जोर देकर इसे “राष्ट्रीय विद्रोह” की संज्ञा दी.

भारत के बारे में मार्क्स ने 1853 से लिखना शुरू किया. वे भारतीय समाज और अंग्रेजी राज, दोनों की ही खूबियों और खामियों का विश्लेषण करते हैं. भारत में अंग्रेजी राज के कायम होने के प्रभाव पर मार्क्स  25 जून 1853 को न्यू यॉर्क डेली ट्रिब्यून में छपे ” भारत में ब्रिटिश शासन” शीर्षक लेख में लिखते हैं, “हिंदुस्तान में जितने भी गृहयुध्द छिड़े हैं, आक्रमण हुए हैं, क्रातियां हुई हैं, देश को विदेशियों द्वारा जीता गया है, अकाल पड़े हैं,वे सब चीजें ऊपर से देखने में चाहे जितनी विचित्र रूप से जटिल, जल्दी-जल्दी होने वाली और सत्यानाशी मालूम होती हों, लेकिन वे उसकी सतह से नीचे नहीं गई हैं.पर इंगलैंड ने भारतीय समाज के पूरे ढांचे को ही तोड ड़ाला है ..”

इसी लेख में आगे मार्क्स आंकड़ों सहित बताते हैं कि किस तरह अंग्रेजी राज ने यहाँ के खेती और उद्योग को नष्ट कर दिया.वे लिखते हैं, ” ब्रिटिश आक्रमणकारी ने आकर भारतीय करघे को तोड़ दिया और चर्खे को नष्ट कर डाला। इंगलैंड ने भारतीय कपड़े को यूरोप के बाजार से खदेड़ना शुरू किया; फिर उसने हिंदुस्तान में सूत भेजना शुरू किया; और अंत में उसने कपड़े की मातृभूमि को ही अपने कपड़ों से पाट दिया। 1818 और 1836 के बीच ग्रेट ब्रिटेन से भारत आने वाले सूत का परिमाण 5,200 गुना बढ़ गया। 1824 में मुश्किल से 10 लाख गज अंग्रेजी मलमल भारत आती थी, लेकिन 1837 में उसकी मात्रा 6 करोड़ 40 लाख गज से भी अधिक पहुंच गई.लेकिन, इसी के साथ-साथ, ढाका की आबादी 1,50,000 से घटकर 20,000 ही रह गई.भारत के जो शहर अपने कपड़ों के लिए प्रसिध्द थे, उनका इस तरह अवनत हो जाना ही इसका सबसे भयानक परिणाम नहीं था.”

लेकिन भारत पर अंग्रेजों का अधिपत्य कैसे मुमकिन हुआ,इसका भी विश्लेष्ण मार्क्स करते हैं. वे लिखते हैं, “यह कैसा हुआ कि भारत के ऊपर अंगरेजों का आधिपत्य कायम हो गया ? महान मुगल की सर्वोच्च सत्ता को मुगल सूबेदारों ने तोड़ दिया था. सूबेदारों की शक्ति को मराठों ने नष्ट कर दिया था. मराठों की ताकत को अफगानों ने खतम किया और जब सब एक दूसरे से लड़ने में लगे थे, तब अंग्रेज घुस आए और उन सबको कुचल कर खुद स्वामी बन बैठे.”(भारत में ब्रिटिश शासन के भावी परिणाम).इस बात का उल्लेख भी मार्क्स  करते हैं कि इस से पहले अरब, तुर्क, तातार, मुगल जो भी आक्रमणकारी आये,वे यहीं के हो कर रह गए.केवल अंग्रेज थे,जिन्हें भारतीय सभ्यता अपने में समाहित न कर सकी.

इसका कारण मार्क्स बताते हैं,अंग्रेज जब इस देश में आये तो वे भारतीय ज्ञान,विज्ञान से कहीं आगे बढे हुए थे.वे कहते हैं, “देशी बस्तियों को उजाड़ कर, देशी उद्योग-धंधों को तबाह कर और देशी समाज के अंदर जो कुछ भी महान और उदात्त था, उस सबको धूल-धूसरित करके उन्होंने भारतीय सभ्यता को नष्ट कर दिया. भारत में उनके शासन के इतिहास के पन्नों में इस विनाश की कहानी के अतिरिक्त और लगभग कुछ नहीं है.”

लेकिन मार्क्स सिर्फ अंग्रेजों की आलोचना और भारतीय समाज को उनके द्वारा नष्ट किये जाने का दोषारोपण ही नहीं कर रहे थे.वे भारतीय समाज के भीतर मौजूद उन तमाम खामियों-कमजोरियों की शिनाख्त भी कर रहे थे,जो भारत के पतन का कारण थी.’भारत में ब्रिटिश शासन के भावी परिणाम’ शीर्षक वाले लेख में मार्क्स कहते हैं, ” एक देश जो न सिर्फ मुसलमानों और हिंदुओं में, बल्कि, कबीले-कबीले और वर्ण-वर्ण में भी बंटा हुआ हो; एक समाज जिसका ढांचा उसके तमाम सदस्यों के पारस्परिक विरोधों और वैधानिक अलगावों के ऊपर आधारित हो ऐसा देश और ऐसा समाज क्या दूसरों द्वारा फतह किए जाने के लिए ही नहीं बनाया गया था  ? ”

एक जगह भारत का बेहद काव्यात्मक वर्णन करते हुए मार्क्स लिखते हैं, “…..उस महान और चित्ताकर्षक देश का पुनरोत्थान अवश्य होगा जिसके निम्न से निम्न वर्गों के सौम्य नागरिक भी होते हैं, जिनकी परवशता में भी एक शांत महानता दिखाई देती है, जिन्होंने अपनी स्वाभाविक तंद्रा के बावजूद अपनी बहादुरी से ब्रिटिश अफसरों को चकित कर दिया है….”( भारत में ब्रिटिश शासन के भावी परिणाम)

भारत के इस काव्यमयी रूप के साथ ही मार्क्स यह भी स्पष्ट कहते हैं ,”लेकिन, हमें यह न भूलना चाहिए कि, ये काव्यमय ग्रामीण बस्तियां ही, ऊपर से वे चाहे कितनी ही निर्दोष दिखलाई देती हों, पूर्व की निरंकुशशाही का सदा ठोस आधार रही हैं, कि मनुष्य के मस्तिष्क को उन्होंने संकुचित से संकुचित सीमाओं में बांधे रखा है जिससे वह अंधविश्वासों का असहाय साधन बन गया है, परंपररागत रूढियों का गुलाम बन गया है और उसकी समस्त गरिमा और ऐतिहासिक ओज उससे छिन गया है.

हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि इन छोटी-छोटी बस्तियों को जात-पांत के भेदभावों और दासता की प्रथा ने दूषित कर रखा है.कि मनुष्य को परिस्थितियों का सर्वसत्ताशाली स्वामी बनाने के बजाए उन्होंने उसे बाह्य परिस्थितियों का दास बना दिया है, कि अपने आप विकसित होने वाली एक सामाजिक सत्ता को उसने एक कभी न बदलने वाला स्वाभाविक प्रारब्ध का रूप दे दिया है और, इस प्रकार उसने एक ऐसी प्रकृति-पूजा को प्रतिष्ठित कर दिया है जिसमें मनुष्य अपनी मनुष्यता खोता जा रहा है”(भारत में ब्रिटिश शासन).

भारतीय संदर्भ में मार्क्सवाद  के बारे में चर्चा करते हुए आम तौर पर यह कहा जाता है कि मार्क्स तो भारत को नहीं समझते थे,उसमें जाति और उसके वर्चस्व के बारे में वे नहीं जानते थे.लेकिन उक्त पंक्तियों से तो स्पष्ट है कि भारत में होने वाले जातीय भेदभाव को मार्क्स  बखूबी समझते थे.इसलिए वे साफ़ तौर पर “जात-पात” के “भेदभाव और दासता” का उल्लेख कर रहे थे और भारत के पिछड़ेपन के कारण के तौर पर चिन्हित कर रहे थे.

भारत में अंग्रेजी राज और भारतीय समाज के गुण-दोषों की चर्चा करते हुए मार्क्स 1857 के ऐतिहासिक विद्रोह पर पहुँचते हैं.1857 में भारत में अंग्रेजी राज के अधिपत्य पर चर्चा करते हुए मार्क्स लिखते हैं,”फूट डालो और राज्य करो, रोम के इसी महान नियम के आधार पर ग्रेट ब्रिटेन लगभग डेढ़ सौ वर्ष तक अपने भारतीय साम्राज्य पर अपना शासन बनाए रखने में कामयाब हुआ था.जिन विभिन्न नस्लों, कबीलों, जातियों, धार्मिक संप्रदायों और स्वतंत्र राज्यों के योग से उस भौगोलिक एकता का निर्माण हुआ है जिसे भारत कहा जाता है, उनके बीच आपसी शत्रुता फैलाना ही ब्रिटिश आधिपत्य का बुनियादी उसूल रहा है.”

पर 1857 में अंग्रेजों की यह नीति विफल हो गयी क्योंकि हिन्दू ,मुस्लिम एकजुट हो कर अंग्रेजों के खिलाफ उठ खड़े हुए. इसका जिक्र करते हुए जुलाई 1857 में मार्क्स लिखते हैं  “अपने आपसी विद्वेषों को भूल कर, मुसलमान और हिंदू अपने सामान्य स्वामियों के खिलाफ एक हो गए हैं; जबकि ‘हिंदुओं द्वारा आरंभ की गई उथल-पुथल ने दिल्ली के राज्य सिंहासन पर वास्तव में एक मुसलमान बादशाह को बैठा दिया है;जबकि बंगावत केवल कुछ थोड़े से स्थानों तक ही सीमित नहीं रही है; और, अंत में, जबकि एंग्लो इंडियन सेना का विद्रोह अंगरेजों के प्रभुत्व के विरुध्द महान एशियाई राष्ट्रों के असंतोष के आम प्रदर्शन के साथ मिलकर एक हो गया है.”

उस दौर में भारतीयों की बीच बनती इस एकता का उल्लेख मार्क्स सितम्बर 1857 के लेख में भी करते हैं.वे लिखते हैं,”….मुसलमानों की ही तरह सिख भी ब्राह्मणों के साथ मिलकर आम मोर्चा बना रहे हैं; और, इस तरह, ब्रिटिश शासन के विरुध्द समस्त भिन्न-भिन्न जातियों की व्यापक एकता तेजी से कायम हो रही है.” इस एकता के चलते अंग्रेजों में फैलते भय का जिक्र करते हुए,इसी लेख में,मार्क्स लिखते हैं, “अंगरेजों का यह दृढ़ विश्वास रहा है कि देशी सिपाहियों की सेना ही भारत में उनकी सारी शक्ति का आधार है.अब, यकायक, उन्हें पक्का यकीन हो गया है कि ठीक वही सेना उनके लिए खतरे का एकमात्र कारण बन गई है.”

इस विद्रोह के फ़ैलने के साथ ही अंग्रेजों ने विद्रोही सिपाहियों द्वारा किये जाने वाले ‘अनाचारों’ के बारे में पूरी दुनिया में प्रचार करना शुरू किया,जिससे सिद्ध किया जा सके कि भारतीय विद्रोही बर्बर किस्म के हैं.इस प्रचार का प्रतिवाद करते हुए मार्क्स लिखते हैं कि “……सिपाहियों का व्यवहार चाहे जितना भी कलंकपूर्ण क्यों न रहा हो, पर अपने तीखे अंदाज में, वह उस व्यवहार का ही प्रतिफल है जो न केवल अपने पूर्वी साम्राज्य की नींव डालने के युग में, बल्कि अपने लंबे जमे शासन के पिछले दस वर्षों के दौरान में भी इंगलैंड ने भारत में किया है.उस शासन की विशेषता बताने के लिए इतना ही कहना काफी है कि यंत्रणा उसकी वित्तीय नीति का एक आवश्यक अंग थी.मानव इतिहास में प्रतिशोध नाम की भी कोई चीज होती हैं; और ऐतिहासिक प्रतिशोध का यह नियम है कि उसका अस्त्र त्रस्त होने वाला नहीं, वरन स्वयं त्रास देने वाला ही बनाता है.”

जैसा कि पहले भी उल्लेख किया जा चुका है कि मार्क्स ने अंग्रेजों द्वारा 1857 के विद्रोह को सिपाहियों की बगावात सिद्ध करने की कोशिशों के विरुद्ध इसे “राष्ट्रीय विद्रोह” करार दिया और वे संभवतया पहले व्यक्ति थे,जिन्होंने ऐसा कहा.

भारत में अंग्रेजों द्वारा विकसित किये जा रहे उद्योगों,रेलवे आदि को संदर्भ में मार्क्स का साफ़ मत था कि ये तभी उपयोगी होंगे जबकि उत्पादक शक्तियों पर जनता का स्वामित्व हो. उन्होंने लिखा कि “अंगरेज पूंजीपति वर्ग ने भारतवासियों के बीच नए समाज के जो बीज बिखेरे हैं, उनके फल, भारतीय तब तक नहीं चख सकेंगे जब तक कि स्वयं ग्रेट ब्रिटेन में आज के शासक वर्गों का स्थान औद्योगिक सर्वहारा वर्ग न ले ले या जब तक कि भारतीय लोग स्वयं इतने शक्तिशाली न हो जाएं कि अंगरेजों की गुलामी के जुए को एकदम उतार फेंकें.”

मार्क्स 1853 में ही भारतीय जनता द्वारा गुलामी के जुए को उतार फैंकने का ख़्वाब देख रहे थे.1857 का विद्रोह भी मार्क्स के इस सपने की अभिव्यक्ति के तीन बरस बाद हुआ और भारत में  पूर्ण स्वराज की मांग करने वाला प्रस्ताव तो  मार्क्स की इस अभिव्यक्ति के 76 साल बाद पारित हुआ.

जो हम से पहले,हमारी पीड़ा को दुनिया के सामने रख रहा था,हम से पहले हमारे आजादी  का ख़्वाब देख रहा था,वह निश्चित ही हमारा नायक है.

 


Related posts

Leave a Comment